Mon. Oct 3rd, 2022
    रितेश बत्रा: फ़िल्में ऐसी चीज़ों के बारे में होनी चाहिए जो हम सभी महसूस करते हैं लेकिन इसे व्यक्त नहीं कर सकते

    फिल्ममेकर रितेश बत्रा जो अपनी पहली फीचर फिल्म ‘द लंचबॉक्स’ के लिए जाने जाते हैं, जिसमें इरफान खान, निमरत कौर और नवाजुद्दीन सिद्दीकी मुख्य भूमिका में थे, वह एक और फिल्म के साथ वापस आ गए हैं। “फोटोग्राफ” नाम की फिल्म जिसमे नवाज़ुद्दीन सिद्दीक़ी और सान्या मल्होत्रा अहम किरदार में नज़र आ रहे हैं, वह इस सप्ताह रिलीज हुई और दर्शकों और समीक्षकों को समान रूप से प्रभावित करने में कामयाब रही।

    फिल्म के शीर्षक इतने असामान्य रखने के बारे में पूछे जाने पर, बत्रा ने कहा-“ईमानदारी से कहूं तो मुझे लगता है कि शीर्षक बहुत ही ओवररेटेड हैं। लोग इसके बारे में सोचने में इतना समय बिताते हैं इसलिए कई बार मैं कुछ लिख रहा होता हूँ और फिर मुझे इसे बाहर भेजना पड़ता है क्योंकि चार या पांच लोग हैं जिनकी मैं वास्तव में राय पर भरोसा करता हूँ और हम एक दूसरे के लिए स्क्रिप्ट पढ़ते हैं और कभी-कभी मैं इसे ईमेल करने से बिलकुल पहले ही एक नाम सोचूंगा। क्योंकि एक शीर्षक एक शीर्षक है, जैसे वे कहते हैं, नाम में क्या रखा है?”

    80 -90 के दशक में सेट की गई यह फिल्म एक “गरीब आदमी” और एक “अमीर लड़की” के इर्द-गिर्द घूमती है, जो एक संघर्षरत सड़क फोटोग्राफर रफीक और एक सीए छात्र, मिलोनी के बीच एक अपरिहार्य संबंध है। “फ़ोटोग्राफ़” के बीज के बारे में पूछे जाने पर, बत्रा ने बताया-“हमारे जीवन में बहुत सारे रिश्ते हैं जब हम उनमे रह रहे होते हैं, हम यह नहीं जानते हैं, लेकिन जब हम उनके बारे में सालों बाद सोचते हैं तो उनका कोई नाम नहीं होता। मैं उन स्थितियों में रहा हूँ जब मैंने किसी को तीन साल तक पसंद किया और उन्होंने मुझे तीन साल तक वापस पसंद किया लेकिन हमने कभी एक-दूसरे से यह नहीं कहा क्योंकि बहुत झिझक थी। क्या यह दोस्ती है, क्या यह प्यार है, यह दोनों के बीच कुछ है।”

    चाहे ‘लंचबॉक्स’ हो, ‘आवर सोल एट नाईट’ या यहां तक कि ‘फोटोग्राफ’ भी, दर्शकों को सब में एक ही बात मिलेगी -मामूली अकेलापन और लालसा की भावना। यह पूछे जाने पर कि क्या यह एक सचेत विकल्प है, बत्रा कहते हैं-“मुझे नहीं लगता कि यह सचेत रहा है। जब मैं ये फिल्में बना रहा था, तो आप किसी अभिनेता को अकेला अभिनय करने के लिए नहीं कह सकते। एक अभिनेता को क्या करना चाहिए। ये सभी फिल्में अकेलेपन को लेकर नहीं, लालसा को लेकर हैं। मुझे नहीं लगता कि लोग अकेले हैं। हर कोई किसी चीज के लिए तरस रहा है, यह एक सार्वभौमिक भावना है और हर कोई इसके साथ पहचान कर सकता है।”

    बॉक्स ऑफिस लड़ाई बाकी फिल्ममेकर के लिए जरुरी हो सकती है मगर बत्रा के लिए, सबसे महत्वपूर्ण है दुनिया को भारतीय कहानियां दिखा पाना। उनके मुताबिक, “जब एक फिल्म बनाई जाती है, तो विभिन्न डिग्री होती हैं जो भारत और दुनिया भर के लोगों से जुड़ सकती हैं। हम भारतीय कहानियों को दुनिया को बता सकते हैं और मैं वास्तव में इसकी ही परवाह करता हूँ। हम ऐसा कभी काफी नहीं कर सकते हैं। मुझे लगता है कि मैं जो भी छोटा सा तरीका कर सकता हूँ, मैं अपने जीवन के साथ वह करना चाहूंगा और भारतीय कहानियों को दुनिया को बताऊंगा।”

    वह कहते हैं-“समीक्षकों की प्रतिक्रिया और दर्शकों की प्रतिक्रिया महत्वपूर्ण है लेकिन जो महत्वपूर्ण है वह समय की कसौटी है। अब से पांच साल बाद जब आप वास्तव में जानते हैं कि क्या फिल्म किसी की चेतना में रही है। और आखिर में उन्होंने कहा-“फ़िल्में ऐसी चीज़ों के बारे में होनी चाहिए जो हम सभी महसूस करते हैं लेकिन इसे व्यक्त नहीं कर सकते, यही फ़िल्मों को हमारे लिए करना चाहिए।”

     

    By साक्षी बंसल

    पत्रकारिता की छात्रा जिसे ख़बरों की दुनिया में रूचि है।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published.