दा इंडियन वायर » मनोरंजन » मेघना गुलज़ार: तेजाब हमले की पीड़ित लक्ष्मी अग्रवाल की कहानी हमें बताती है कि देश में हिंसा किस कदर फैला हुआ है
मनोरंजन

मेघना गुलज़ार: तेजाब हमले की पीड़ित लक्ष्मी अग्रवाल की कहानी हमें बताती है कि देश में हिंसा किस कदर फैला हुआ है

meghna gulzar

निर्देशक मेघना गुलज़ार जल्द तेजाब हमले की पीड़ित लक्ष्मी अग्रवाल के ऊपर एक फिल्म बनाने जा रही हैं। इस फिल्म में दीपिका पादुकोण मुख्य भूमिका में नज़र आयेंगी। पीटीआई से बात करते हुए मेघना ने बताया-“दीपिका के साथ तेजाब हमले वाली फिल्म में, मैं लक्ष्मी अग्रवाल को एक विषय के रूप में ले रही हूँ क्योंकि उन्होंने इस हमले के खिलाफ आवाज़ उठाई थी और उन्हें सभी लोग जानते हैं। ऊपर से उनकी कहानी, हमे ये बताती है कि तेजाब हिंसा, चिकित्सा उन्नति और नुकसान भरपाई जैसी चीजों के ऊपर कैसे कानून बने हुए हैं।”

उन्होंने आगे कहा-“उनकी कहानी में पूरा सामाजिक-चिकित्सा और कानूनी प्रभाव था। इसलिए मैं उन्हें भारत में तेजाब हिंसा की बड़ी कहानी दिखाने के लिए ले रही हूँ क्योंकि वैसे तो हमारे देश में तेज़ाब पर प्रतिबन्ध है और तेजाब की बिक्री पर भी कानून है मगर उसके बाद भी तेजाब हमले होते हैं। ये आसानी से किसी भी शहर के किराना स्टोर में मिल जाएगा।”

2005 में जब लक्ष्मी बस अड्डे पर खड़ी होकर बस का इंतज़ार कर रही थी तब उनके ऊपर उनसे दोगुनी उम्र के जान पहचान के आदमी ने तेजाब से हमला कर दिया था।

इस फिल्म में उनकी कहानी दिखाई जाएगी कि कैसे इस हमले के बाद, उनके सुप्रीम कोर्ट में दायर जनहित याचिका ने 2013 में तेजाब से जुड़े कानून में बदलाव ला दिए। मेघना गुलज़ार को असल ज़िन्दगी की कहानी बड़े पर्दे पर दिखाने के लिए जाना जाता है। उन्होंने इससे पहले “तलवार” और “राज़ी” जैसी फिल्मे बनाकर दर्शको का दिल जीता हुआ है।

मेघना के पास इस वक़्त एक और फिल्म मौजूद है। ये फिल्म ‘फील्ड मार्शल मानेकशॉ’ की ज़िन्दगी पर आधारित है मगर ये एक बायोपिक नहीं है। उनके अनुसार, “फील्ड मार्शल मानेकशॉ पर आधारित फिल्म कोई बायोपिक नहीं है। मैं सिर्फ उस आदमी की तरफ, उसकी ज़िन्दगी और उसके समय की और देख रही हूँ। मैं इस कहानी के बारे में काफी विचार कर चुकी हूँ।”

मेघना ने ये भी कहा कि उन्हें खुद को महिला निर्देशक कहलवाना अच्छा नहीं लगता क्योंकि सिनेमा में पुरुषो के नजरिये का भी अलग प्रासंगिक है। उन्होंने कहा कि हर कहानी कुछ परिप्रेक्ष्य से सुनाई जाती है जैसी उनकी फिल्म “तलवार” में भी एक पुरुष के नजरिये की जरूरत थी।

About the author

साक्षी बंसल

पत्रकारिता की छात्रा जिसे ख़बरों की दुनिया में रूचि है।

Add Comment

Click here to post a comment

फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!