Wed. Dec 7th, 2022
    भारतीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी

    मालदीव में राजनीतिक उतार चढ़ाव के बाद आखिरकार लोकतंत्र सत्ता की कैद से आजाद होने जा रहा है। हाल ही में हुए  मालदीव में राष्ट्रपति चुनावों में विपक्षी दल के नेता इब्राहीम सोलिह की जीत हुई थी। मालदीव के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति का शपथ ग्रहण समारोह 17 नवम्बर को आयोजित होगा। भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी इस शपथ ग्रहण समारोह में शरीक होंगे।

    मालदीव के चुनावों में जीत दर्ज करने के बाद इब्राहीम सोलिह ने भारतीय पीएम को फोन पर निमंत्रण दिया था। प्रधानमंत्री मोदी ने इस निमंत्रण को स्वीकार कर लिया है। पीएम बनने के बाद सार्क देशों में से नरेन्द्र मोदी केवल मालदीव के दौरे पर अब तक नहीं गए हैं।

    साल 2015 में मालदीव में राजनीतिक अस्थिरता के कारण पीएम मोदी ने माले का दौरा रद्द कर दिया था। पूर्व राष्ट्रपति अब्दुल्ला यामीन को चीन का समर्थक माना जाता है। बीते फ़रवरी में अब्दुल्ला यामीन ने मालदीव में 45 दिनों का आपातकाल लगा दिया था। इस दौरान देश के कई नेटों को जेल भेजा गया व कई देश छोड़कर चले गए थे।

    पूर्व राष्ट्रपति मोहम्मद नशीद पर से अदालत ने हाल ही में सारे आरोप हटा लिए थे। मोहम्मद नशीद मालदीव वापस लौटे आये हैं। साथ ही पूर्व राष्ट्रपति अब्दुल गयूम को भी अदालत ने बरी कर दिया था। अब्दुल्ला यामीन का कार्यकाल 17 नवम्बर को समाप्त हो रहा है।

    चुनावी नतीजों को अब्दुल्ला यामीन ने खारिज कर दिया था और इसके खिलाफ अदालत में याचिका दायर की थी। अब्दुल्ला यामीन के मुताबिक उनके समर्थकों ने चुनाव में हेराफेरी की शिकायते की थी। उन्होंने चुनाव आयोग पर आरोप लगाया कि मतदान के दौरान मिटने वाली स्याही वाले पेन का इस्तेमाल किया गया था। अलबत्ता अदालत ने इन आरोपों को खारिज कर दिया था।

    By कविता

    कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *