रविवार, अक्टूबर 20, 2019

FSSAI का दावा, मसूर और मूंग की दालों में हो सकता है जहर

Must Read

पीकेएल-7 : दिल्ली को हराकर बंगाल ने जीता खिताब

अहमदाबाद, 19 अक्टूबर (आईएएनएस)। मोहम्मद नबी बक्श के सुपर-10 के दम पर बंगाल वॉरियर्स ने शनिवार को यहां ट्रांस्टेडिया...

बाबा जेल में पर राम रहीम के डेरे पर अब भी माथा टेक रहे नेता

सिरसा, 19 अक्टूबर (आईएएनएस)। दो साध्वियों के साथ दुष्कर्म और एक पत्रकार की हत्या के मामले में जेल में...

अयोध्या में आधा से ज्यादा बन चुका है राममंदिर : विहिप

लखनऊ , 19 अक्टूबर (आईएएनएस)। रामंदिर पर विवाद पर सर्वोच्च न्यायालय में सुनवाई पूरी हो चुकी है, और अदालत...

भारत जैसे देश में जहाँ लोग लोग दाल के बिना पौष्टिक खाने की कल्पना भी नहीं कर सकते हैं, उसी देश में लोग अब  जहरीली दालों का सेवन कर रहे हैं। यह जानकारी एक रिपोर्ट के द्वारा सामने आई है।

देश में खाद्य सामग्री को लेकर सुरक्षा का पैमाना तय करने वाली सरकारी संस्था राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण (FSSAI) ने अपनी एक जाँच में इस बात को प्रमाणित किया है कि कनाडा और औस्ट्रालिया जैसे देशों से भारत में आयात की जा रही मूंग और मसूर की दालें काफी जहरीली हैं। इन दालों में बड़ी मात्र में जहरीली तत्व पाये गए हैं।

कनाडा और औस्ट्रालिया जैसे देशों में इस समय दालों की अधिकाधिक खेती हो रही है। ऐसे में उत्पादन की मात्र को बढ़ाने के लिए कीटनाशकों और अन्य तरह के विषाक्त पदार्थों का भारी मात्रा में उपयोग हो रहा है। रसायनों के उपयोग से उपजे अनाज अपेक्षाकृत अधिक खतरनाक होते हैं।

भारतीय खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण (FSSAI) ने उन सभी उपभोक्ताओं को जो इन दालों का सेवन कर रहे हैं, चेतावनी जारी करते हुए कहा है कि ऐसे उपभोक्ता इन दालों का सेवन तत्काल रूप से बंद कर दें।

FSSAI ने अपनी प्रयोगशाला में इन दालों पर प्रयोग किया है, जिसके परिणाम स्वरूप यह निष्कर्ष सामने आया है कि इन दालों में खतरनाक रसायन मिला हुआ है, जिसके चलते उपभोक्ताओं के स्वास्थ को सीधे तौर पर काफी नुकसान पहुँच सकता है।

FSSAI की रिपोर्ट में सामने आया है कि इन दालों में जो रासायनिक तत्व सबसे अधिक मात्रा में मिला है, वह ग्लाइफोसेट नाम का एक रसायन है। इस रसायन का उपयोग खेती के दौरान उगे खरपतवार को नष्ट करने में किया जाता है। यह बेहद ताकतवर रसायन है और भारत में आयात हुई दालों में यह बड़ी मात्रा में पाया भी गया है।

गौरतलब है कि ग्लाइफोसेट को पहले खाने योग्य रसायन माना जाता था, लेकिन WHO ने इसके संदर्भ में एक चेतावनी जारी कर इसे खतरनाक रसायनों की श्रेणी में रख दिया था।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

पीकेएल-7 : दिल्ली को हराकर बंगाल ने जीता खिताब

अहमदाबाद, 19 अक्टूबर (आईएएनएस)। मोहम्मद नबी बक्श के सुपर-10 के दम पर बंगाल वॉरियर्स ने शनिवार को यहां ट्रांस्टेडिया...

बाबा जेल में पर राम रहीम के डेरे पर अब भी माथा टेक रहे नेता

सिरसा, 19 अक्टूबर (आईएएनएस)। दो साध्वियों के साथ दुष्कर्म और एक पत्रकार की हत्या के मामले में जेल में बंद चल रहे बाबा राम...

अयोध्या में आधा से ज्यादा बन चुका है राममंदिर : विहिप

लखनऊ , 19 अक्टूबर (आईएएनएस)। रामंदिर पर विवाद पर सर्वोच्च न्यायालय में सुनवाई पूरी हो चुकी है, और अदालत ने फैसला सुरक्षित रख लिया...

ब्रेक्जिट समझौते पर समयसीमा बढ़ी

लंदन, 19 अक्टूबर (आईएएनएस)। ब्रिटेन की संसद में शनिवार को यूरोपीय संघ(ईयू) के साथ प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन की सहमति के बाद हुए ब्रेक्जिट समझौते...

आजम को परेशान किया जा रहा, ताकि हमारी सरकार न बने : अखिलेश

रामपुर, 19 अक्टूबर (आईएएनएस)। समाजवादी पार्टी (सपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने यहां शनिवार को कहा कि आजम खां को इसलिए परेशान किया...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -