दा इंडियन वायर » खानपान » मछली खाने के 9 बेहतरीन फायदे
खानपान

मछली खाने के 9 बेहतरीन फायदे

मछली खाने फायदे fish benefits in hindi

मछली को बहुत ही स्वास्थ्यवर्धक खाना माना जाता है। इसमें उच्चतम मात्रा में प्रोटीन और विटामिन डी पाया जाता है। मछली खाने वाले लोगों के शरीर में कभी भी प्रोटीन की कमी नहीं पायी जाती है।

इसमें भरपूर मात्रा में ओमेगा 3 और फैटी एसिड्स भी पाए जाते हैं। जिन लोगों के शरीर में प्रोटीन की कमी होती है उन्हें डॉक्टर भी मछली का सेवन करने की सलाह देते हैं।

विषय-सूचि

मछली खाने के फायदे (fish benefits in hindi)

शोध में भी मछली खाने के अनेक फायदे पाए गए हैं। उनमे से कुछ निम्न हैं:

1. मछली आवश्यक तत्व से होती है भरपूर (nutrients in fish in hindi)

मछली में वो तत्व पाए जाते हैं जो लोगों को अन्य खाने के चीजों में नहीं मिलते हैं। इसमें उच्च मात्रा में प्रोटीन, आयोडीन, विटामिन्स और कई प्रकार के मिनरल्स होते हैं। विभिन्न प्रकार की मछलियों में अलग अलग तरह के पोषक तत्व मौजूद होते हैं।

सैल्मन, ट्राउट, सार्डिन, ट्यूना और मैकेरल जैसी मछलियां फैटी फिशेस कहलाती हैं और इनमें अधिक मात्रा में फैट होता है। इसमें विटामिन डी होता है।

आजकल कई लोगों में विटामिन डी की कमी पायी जा रही है और लोग नए नए विटामिन डी के स्त्रोत ढूंढ रहे हैं। ऐसे में मछली का सेवन करना लोगों के लिए फायदेमंद साबित होगा। हफ्ते में एक से दो बार मछली का सेवन करने से लोगों की सेहत में काफी फायदे देखे गए हैं।

2. मछली से कम होता है हार्ट अटैक का खतरा (fish reduces heart attack in hindi)

समय से पहले मृत्यु के दो मुख्य कारण होते हैं दिल का दौरा पड़ना या स्ट्रोक आ जाना। एक स्वस्थ दिल के लिए मछली एक उपयोगी एवं गुणवान निवारण है। शोध में ये पाया गया है की जो लोग नियमित रूप से मछली का खाने में सेवन करते हैं वे ज्यादा स्वस्थ होते हैं और उनको हार्ट अटैक की समस्या नहीं होती है

40,000 युवकों पर किये गए एक शोध में ये साबित हुआ है कि जो लोग सप्ताह में एक से दो बार मछली का सेवन करते हैं उनमें हार्ट अटैक का जोखिम 15% तक कम होता है

3. मछली में होते हैं विकास में सहायक तत्व (fish benefits for growth in hindi)

मछली में मौजूद ओमेगा-3 फैटी एसिड्स इंसान के विकास के लिए अध्यधिक सहायक होते हैं। ओमेगा -3 फैटी एसिड डोकोसाहेक्सैनीक एसिड (डीएचए) विशेष रूप से महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह विकासशील मस्तिष्क और आंखों में चला जाता है। 

कुछ मछली पारा में अधिक होती है, जो विचित्र रूप से मस्तिष्क के विकास संबंधी समस्याओं से जुड़ा हुआ है। इस कारण से, गर्भवती महिलाओं को केवल खाने की श्रृंखला में(सैल्मन, सार्डिन, ट्राउट, आदि) कम मछली खाने चाहिए और प्रति सप्ताह 12 औंस (340 ग्राम) से ज्यादा नहीं लेना चाहिए। गर्भवती महिलाओं को कच्ची मछली भी नहीं खानी चाहिए

4. मछली मस्तिष्क में ग्रे पदार्थ को बढ़ाता है जिससे उम्र-संबंधी खराबी से बचाव होता है (grey product in fish in hindi)

शोध में पाया गया है कि जो लोग मछली का सेवन करते हैं उनमें संज्ञानात्मक गिरावट की दर कम होती है। संज्ञानात्मक गिरावट ही उम्र बढ़ने का मुख्य कारण माना जाता है। 

ग्रे मस्तिष्क आपके मस्तिष्क में प्रमुख कार्यात्मक ऊतक है, जिसमें न्यूरॉन्स होते हैं, जो जानकारी को संसाधित करते हैं, यादें संग्रहीत करती हैं और आपको मानव बनाती हैं।

5. मछली अवसाद से लड़कर इंसान को खुश रखने में सहायक होती है (fish helps in depression in hindi)

अवसाद आजकल लोगों की मुख्य बीमारी और सबसे बड़ी समस्या बन गया है। इसमें इंसान दुखी, खराब मूड वाला और उर्जाहीन हो जाता है।

शोध में पाया गया है कि जो लोग मछली का सेवन करते हैं उनमे अवसाद की समस्या कम पायी जाती है और वे ज्यादा खुश और उर्जा से भरे हुए होते हैं। बाइपोलर डिसऑर्डर जैसी मानसिकबिमारियों से भी निजात दिलाता है।

6. मछली विटामिन डी का एक महत्त्वपूर्ण माध्यम है (fish source of vitamin d in hindi)

वर्तमान में तकरीबन 40% लोगों में विटामिन डी की कमी पायी गयी है। एक 4 औंस (113 ग्राम) पकाए हुए सैलमन में लगभग 100% विटामिन डी की मात्रा होती है।

7. मछली की खपत ऑटोइम्यून रोगों के जोखिम से जुड़ी हुई है, जिसमें टाइप 1 मधुमेह भी शामिल है

मछली का सेवन करने से टाइप 1 डायबिटीज का खतरा कम हो जाता है। कई अध्ययनों से पता चला है कि ओमेगा -3 या मछली के तेल की खपत बच्चों में टाइप 1 मधुमेह के खतरे को और वयस्कों में ऑटोइम्यून डायबिटीज के एक रूप को कम कर देती है।

8. मछली बच्चों में अस्थमा और वयस्कों में कमज़ोर दृष्टि का खतरा करे कम

शोध के मुताबिक मछली का सेवन करने वाले बच्चों में अस्थमा का खतरा 24% तक घट जाता है। इसी प्रकार मछली खाने वालों को बढती उम्र में कमज़ोर दृष्टि होने का खतरा कम हो जाता है। मछली से लोगों की आँखों की रौशनी तेज़ होती है। वयस्कों में कमज़ोर नज़र का खतरा 42% तक कम हो जाता है।

9. बढाए नींद की गुणवत्ता (fish helps in good sleeps in hindi)

अनिद्रा की समस्या लोगों में आम बात है। इसलिए मछली का सेवन एक अच्छा उपाय है। पाया गया है कि मछली खाने वाले लोगों को नींद की समस्या कम होती है और वे लम्बे समय तक चैन की नींद सोते हैं

फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!