दा इंडियन वायर » विदेश » मालदीव: आतंकवाद के खिलाफ और भारत की सुरक्षा से जुड़े हर मुद्दे पर भारत के साथ है मालदीव
विदेश

मालदीव: आतंकवाद के खिलाफ और भारत की सुरक्षा से जुड़े हर मुद्दे पर भारत के साथ है मालदीव

भारत और मालदीव

मालदीव ने सोमवार को ‘भारत पहले नीति’ को दोहराया और कहा कि वह भारत के साथ करीबी से बातचीत कर रहे हैं। मालदीव विदेश मंत्रालय ने कहा कि “वह भारत की सुरक्षा और रणनीतिक चिंताओं के प्रति सदैव संवेदनशील रहेगा। भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज मालदीव के वरिष्ठ अधिकारीयों के साथ बातचीत कर रही है।

मालदीव ने आतंकवाद के खिलाफ भारत के प्रयासों का समर्थन करने की प्रतिक्रिया जाहिर की है। साथ ही सीमा पार आतंकवाद और अपराध जैसे पायरेसी, नियोजित अपराध, ड्रग तस्करी और मानव तस्करी में सहयोग करने पर रजामंदी जाहिर की है।

भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज रविवार को दो दिवसीय यात्रा पर मालदीव पंहुच चुकी है। नवंबर में मालदीव की सत्ता में राष्ट्रपति इब्राहिम सोलीह के विराजमान होने के बाद यह भारत की तरफ से पहली द्विपक्षीय मुद्दों पर आधारित यात्रा है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने बताया कि “सुषमा स्वराज को हवाईअड्डे समकक्षी अब्दुल शाहिद और अब्दुल मोहमद ने रिसीव किया था।”

solih and sushma swaraj
मालदीव के राष्ट्रपति इब्राहीम सोलिह और भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, स्त्रोत: ट्विटर

माले में सुषमा स्वराज विदेश मंत्री शाहिद के साथ द्विपक्षीय वार्ता की, साथ ही प्रतिनिधि स्तर की बैठक का भी आयोजन किया। इसमें मालदीव की रक्षा मंत्री मरिया अहमद दीदी, वित्त मंत्री इब्राहिम आमिर, नेशनल प्लानिंग एंड इंफ्रास्ट्रक्चर मिनिस्टर मोहम्मद असलम, परिवहन और नागरिक उड्डयन मंत्री ऐशाथ नाहुला और आर्थिक विकास मंत्री फ़य्याज़ इस्माइल शामिल थे।

सुषमा स्वराज और मालदीव के समकक्षी ने रविवार को भारत मालदीव सम्बन्ध के द्विपक्षीय मुद्दों पर चर्चा की और वरिष्ठ नेताओं ने बातचीत भी की थी। विदेश मंत्री शाहिद ने कहा कि “इंडिया-फर्स्ट पालिसी को दोहराया और कहा कि उनकी सरकार भारत के साथ करीबी से कार्य करने के इच्छुक है। मालदीव की सरकार भारत की सुरक्षा और रणनीति के मसलों पर हमेशा संवेदनशील रहेगी।”

उन्होंने वैश्विक चुनौतियों से निपटने के लिए प्रभावी बहुपक्षीय प्रणाली की महत्वता को दोहराया और मुख्य यूएन संस्था में सुधार पर सहमति जाहिर की थी। मालदीव ने यूएन सुरक्षा परिषद में भारत की स्थायी सदस्यता का भी समर्थन किया था। दोनो देशो ने तीन समझौतों पर सहमति जाहिर की है।

भारत की विदेश मन्त्री सुषमा स्वराज और मालदीव के विदेश मंत्री अब्दुल्ला शाहिद

मालदीव के विदेश मंत्री ने इंदिरा गांधी मेमोरियल अस्पताल के रेनुवशन के लिए भारत का शुक्रिया अदा किया था, जो दोनो देशो के बीच मित्रता का प्रतीक है। साथ ही मालदीव के बजट में सहयोग के लिए भी धन्यवाद किया। बीते कुछ वर्षो में व्यापार में वृद्धि का दोनो मंत्रियों ने स्वागत किया है। साथ ही उत्पाद, संस्कृति और जनता में कनेक्टिविटी को बढ़ाने पर भी सहमति जाहिर की है। मानव विकास संसाधन, बिल्डिंग प्रोग्राम, प्रोविशन ट्रेनिंग और स्कॉलरशिप अवसरों में समर्थन करने के बाबत शुक्रिया कहा था।

मालदीव का पूरा बयान

मालदीव की ओर से जारी किये गए अधिकारिक बयान में से कुछ महत्वपूर्ण बिंदु यहाँ हैं:

  1. मालदीव के विदेश मंत्री अब्दुल्ला शाहिद के निमंत्रण पर भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज नें 17-18 मार्च 2019 को मालदीव का दौरा किया।
  2. विदेश मंत्री शाहिद नें सरकार की ‘भारत-पहले पालिसी’ को दोहराया और कहा कि मालदीव की सरकार भारतीय सरकार के सहयोग से कार्य करना चाहती है।
  3. मालदीव नें कहा कि उनकी सरकार भारत के सुरक्षा से सम्बंधित मुद्दों से संवेदना रखती है और हर संकट में भारत के साथ खड़ी है।
  4. सुषमा स्वराज के दौरे के दौरान निम्न समझौतों पर हस्ताक्षर हुए:
    अ. कूटनीतिक और अधिकारिक यात्राओं के लिए वीजा नियमों में आराम
    ब. मालदीव में कम्युनिटी विकास से सम्बंधित कमिटी बनाने में भारत का पूर्ण सहयोग
    स. अक्षय ऊर्जा के मामले में दोनों देशों का सहयोग
  5. विदेश मंत्री शाहिद नें मालदीव को भारत द्वारा आर्थिक सहयोग देने का भी जिक्र किया। उन्होनें भारत सरकार द्वारा मालदीव में इंदिरा गाँधी मेमोरियल अस्पताल बनाने के लिए धन्यवाद दिया। भारत सरकार और भारत की जनता की ओर से विदेश मंत्री सुषमा स्वराज नें अस्पताल के नवीनीकरण के लिए आवश्यक कदम उठाये। उन्होनें आगे भी स्वास्थ्य के मामले में भारत द्वारा सहयोग का आश्वासन दिया। मालदीव नें भारत द्वारा माले शहर को एलईडी बल्ब गिफ्ट देने की भी सराहना की।
  6. खेलकूद के मामले में मालदीव नें देश में एक क्रिकेट स्टेडियम बनाने के लिए भारत का सहयोग माँगा, जिसके लिए भारत तुरंत तैयार हो गया।
  7. दोनों देशों के मंत्रियों नें भारतीय महासागर के इलाके में शान्ति स्थापित करने की बात कही। भारतीय विदेश मंत्री नें मालदीव का धन्यवाद किया, कि वह आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में भारत के साथ है। विदेश मंत्री शाहिद नें भारत को विश्वास दिलाया कि मालदीव आतंकवाद के खिलाड़ भारत की लड़ाई में हमेशा भारत के साथ है।

About the author

कविता

कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

Add Comment

Click here to post a comment

फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!

Advertisement