Tue. Mar 5th, 2024
    बांग्लादेश की आज़ादी का जश्न

    भारत में बांग्लादेश के उच्चायुक्त सईद मुअज़्ज़म अली ने बांग्लादेश नेशनल डे के जश्न के दौरान कहा कि “भारत और बांग्लादेश के मौजूदा संबंध एक सुनहरे अध्याय से गुजर रहे हैं।”

    ANI के मुताबिक बांग्लादेश के जातिय संसद के अध्यक्ष शिरीन शरमीन चौधरी इस जश्न के मुख्य अतिथि थे। जबकि भारत के तरफ से विदेश मंत्रालय के पश्चिमी सचिव गीतेश शर्मा को मुख्य अथिति के तौर पर आमंत्रित किया गया था।

    बांग्लादेश उच्चायुक्त में ध्वजारोहण

    बांग्लादेश नेशनल डे प्रतिवर्ष 26 मार्च को मनाया जाता है। साल 1971 को इसी दिन राष्ट्रपिता शेख मुजीबुर रहमान ने पाकिस्तान से आज़ादी की घोषणा की थी। मंगलवार सुबह उच्चायुक्त ने ध्वजारोहण समारोह की नई दिल्ली में मेज़बानी की और इसके बाद बांग्लादेश का राष्ट्र गान ‘अमार सोनार बांग्ला’ गाया, जो ढाका से लाइव प्रसारित था।

    इस जश्न के दौरान बांग्लादेश के राष्ट्रपति मोहम्मद अब्दुल हामिद, प्रधानमंत्री शेख हसीना, विदेश मंत्री एके अब्दुल मोमेन हुए राज्य विदेश मंत्री शहरयार आलम द्वारा दिए गए संदेशों को पढ़ा गया था।

    राष्ट्रीय दिवस का जश्न

    नौ माह की आज़ादी की लड़ाई, 30 लाख शहीदों और दो लाख महिलाओं की कुर्बानियों के बाद बांग्लादेश ने 16 दिसंबर 1971 को आज़ादी हासिल कर ली थी। इस दिन सार्वजानिक छुट्टी होती है। विभिन्न सामाजिक-सांस्कृतिक और राजनीतिक संगठन इस अवसर पर विस्तृत कार्यक्रमों का आयोजन करते हैं।

    प्रधानमंत्री शेख हसीना ने कहा कि “लाखों लोगों की कुर्बानियों से बांग्लादेश राष्ट्र ने आज़ादी हासिल की है। इस उपलब्धि की सार्थकता को सुनिश्चित करने के लिए सभी को आज़ादी के जंग के इतिहास को जानना होगा और आज़ादी की भावना को बरक़रार रखना होगा।”

    By कविता

    कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *