दा इंडियन वायर » समाचार » बुलंदशहर हिंसा: शहीद इंस्पेक्टर के परिवार से मिले मुख्यमंत्री योगी, 50 लाख रुपए और परिवार के एक सदस्य को नौकरी का ऐलान
समाचार

बुलंदशहर हिंसा: शहीद इंस्पेक्टर के परिवार से मिले मुख्यमंत्री योगी, 50 लाख रुपए और परिवार के एक सदस्य को नौकरी का ऐलान

YOGI WITH SUBODH KUMAR FAMILY

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बुलंदशहर में मारे गए इन्स्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह के परिवार से मुख्यमंत्री आवास पर मिले। मुख्यमंत्री ने उन्हें इन्साफ का भरोसा दिलाया और परिवार को हरसंभव मदद देने का भी आश्वासन दिया और कहा कि परिवार के एक सदस्य को नौकरी दी जायेगी।

मुख्यमंत्री राहत कोष की तरफ से इन्स्पेक्टर सुबोध किमार के परिवार को 50 लाख रुपये की सहायता और उनके नाम पर एक सड़क का नामकरण करने का ऐलान किया। मंत्री अतुल गर्ग ने बताया कि सरकार उनके नाम पर एक कॉलेज का नाम रखने पर भी विचार कर रही है।

इंस्पेक्टर सुबोध सिंह के बेटे श्रेय प्रताप सिंह ने बताया कि “हम मुख्यमंत्री से मिले और उन्होंने हमें इन्साफ का भरोसा दिलाया है।”

पुलिस ने इस मामले में 28 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज किया है। विश्व हिन्दू परिषद् के युवा विंग के संयोजक योगेश राज का नाम मुख्य आरोपी के रूप में दर्ज किया है और उसकी तलाश की जा रही है।

सुबोध सिंह की पत्नी रजनी ने धमकी दी है कि अगर उनके पति की हत्या के दोषियों को सजा नहीं मिली तो वो आत्महत्या कर लेंगी। रजनी ने ये भी आरोप लगाया है कि उनके पति की हत्या के पीछे गहरी साजिश है , उन्होंने कहा कि “उनके साथी पुलिसकर्मी और उनकी गाडी के ड्राइवर कहाँ थे?” रजनी ने ये भी बताया कि उनके पति को पिछले कुछ दिनों से धमकियाँ मिल रही थी।

इन्स्पेक्टर सिंह की बहन मनीषा चौहान ने इस घटना की सीबीआई जांच कराने की मांग की है। गैरतलब है कि उत्तर प्रदेश के दादरी में 2015 में गौहत्या को लेकर पीट पीट के हुई अख़लाक़ के हत्या की जांच भी सुबोध कुमार कर रहे थे।

उत्तर प्रदेश के मंत्री अतुल गर्ग मृतक इन्स्पेक्टर सुबोध कुमार के परिवार से मिले और आश्रितों के अकॉउंट में 40 लाख रुपये की आर्थिक सहायता की पुष्टिकरण के दस्तावेज सौंपे।

About the author

आदर्श कुमार

आदर्श कुमार ने इंजीनियरिंग की पढाई की है। राजनीति में रूचि होने के कारण उन्होंने इंजीनियरिंग की नौकरी छोड़ कर पत्रकारिता के क्षेत्र में कदम रखने का फैसला किया। उन्होंने कई वेबसाइट पर स्वतंत्र लेखक के रूप में काम किया है। द इन्डियन वायर पर वो राजनीति से जुड़े मुद्दों पर लिखते हैं।

Add Comment

Click here to post a comment

फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!