Wed. Apr 24th, 2024
    बसपा विधायक रामबाई सिंह

    बहुजन समाज पार्टी की विधायक रामबाई सिंह ने मंगलवार को कांग्रेस को चेतावनी देते हुए कहा कि अगर वे मंत्री नहीं बनी तो मध्य प्रदेश में कर्नाटक जैसी स्थिति बन जाएगी। मगर बाद में, उन्होंने कहा कि वे हमेशा ही इस पार्टी का समर्थन करेंगी।

    भोपाल में अपने निर्वाचित क्षेत्र पथरिया से संवाददाताओं से बात करते हुए उन्होंने कहा-“हम कमलनाथ सरकार में बसपा के दो विधायकों के लिए मंत्री पद की मांग करते हैं। हमने कर्नाटक की स्थिति देखी है, हम यहाँ भी ऐसी ही स्थिति नहीं चाहते हैं।”

    यह पहली बार नहीं है जब उन्होंने कांग्रेस को चेतावनी दी है, जिसके 230 सदस्यीय राज्य विधानसभा में 114 विधायक हैं और उसे चार निर्दलीय विधायकों, दो बसपा और एक सपा विधायक का समर्थन प्राप्त है। विपक्षी भाजपा के पास 109 विधायक हैं।

    इससे पहले, सिंह ने कहा था-“अगर मुख्यमंत्री कमलनाथ अपना वादा भूल जाते हैं, तो मैं भी अपना वादा (कांग्रेस का समर्थन करने के लिए) भूल सकती हूँ।”

    उनका ये बयां कर्नाटक में चल रहे सियासी तूफ़ान के सन्दर्भ में आया है जहाँ कुमारस्वामी को एक बड़ा झटका लगा है। उनके दो निर्दलीय विधायकों ने अपना समर्थन वापस ले लिया है और कांग्रेस और भाजपा एक दुसरे पर विधायकों का शिकार करने का इलज़ाम लगा रहे हैं।

    जब सिंह से बात की गयी तो उन्होंने कहा-“मैंने ये (कर्नाटक जैसी स्थिति) एक सवाल के जवाब में कहा। हालांकि मैं अभी भी कांग्रेस का समर्थन कर रही हूँ और आगे भी ऐसा ही करती रहूंगी।”

    उन्होंने फिर ये दोहराया कि वे कांग्रेस को समर्थन करने का अपना वादा भूल जाएंगी अगर मुख्यमंत्री उन्हें मंत्री बनाने का अपना वादा भूल जाते हैं तो।

    जब उनसे पूछा गया कि वे मंत्री बनने तक का कब तक इंतज़ार करेंगी तो उन्होंने कहा-“मैं कुछ वक़्त तक इंतज़ार करुँगी।”

    इससे पहले, समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव भी अपने इकलौते विधायक के मंत्री ना बनने से सीएम कमल नाथ के खिलाफ नाराज़गी व्यक्त कर चुके हैं।

    चूँकि कांग्रेस के ऊपर इस वक़्त तलवार लटक रही है, राज्य के प्रवक्ता संतोष गौतम ने कहा-“हमारी पार्टी के नेताओं को इस स्थिति की जानकारी है।”

    By साक्षी बंसल

    पत्रकारिता की छात्रा जिसे ख़बरों की दुनिया में रूचि है।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *