दा इंडियन वायर » विज्ञान » पौधों में पोषण कैसे होता है?
विज्ञान

पौधों में पोषण कैसे होता है?

nutrition in plants in hindi

पौधे में पोषक तत्व (Nutrients in Plants)

प्लांट न्यूट्रिएंट्स रासायनिक तत्व हैं जो पौधे के स्वास्थ्य के पोषण के लिए आवश्यक हैं। प्लांट न्यूट्रिएंट्स तीन श्रेणियों में आते हैं, जिनमें से सभी पौधों की जरूरतों पर आधारित होते हैं, व्यक्तिगत तत्वों का महत्व पर नहीं। पौधे के विकास में प्रत्येक प्लांट न्यूट्रिएंट्स महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

प्लांट न्यूट्रिएंट्स की तीन श्रेणियां प्राथमिक पोषक तत्व, माध्यमिक पोषक तत्व, और सूक्ष्म पोषक तत्व हैं।

1. प्राथमिक पोषक तत्व (Primary Nutrients)

नाइट्रोजन (N), फॉस्फोरस (P), और पोटेशियम (K) हैं। इन आवश्यक तत्वों का अन्य दो श्रेणियों में आने वाले तत्वों की तुलना में पौधे द्वारा उच्च मात्रा में प्रयोग किया जाता है। इसके अतिरिक्त, ये तीनों तत्व प्लांट्स बायोलॉजी में महत्वपूर्ण कार्य करते है।

प्रोटीन के निर्माण के लिए नाइट्रोजन आवश्यक है, कार्बोहाइड्रेट का उत्पादन करता है, और पौधो की सेल विभाजन (विकास) के लिए आवश्यक है। फॉस्फोरस रूट वृद्धि, बीज गठन, और पौधों की परिपक्वता को प्रभावित करता है। अंत में, रोग प्रतिरोध, फल गठन, और प्रभाव संयंत्र एंजाइमों में पोटेशियम महत्वपूर्ण होता है।

2. माध्यमिक पोषक तत्व

कैल्शियम (Ca), मैग्नीशियम (Mg), और सल्फर (S) हैं। ये तत्व, हालांकि ये उच्च मात्रा में आवश्यक नहीं होते है, लेकिन पौधे के स्वास्थ्य के लिए ये आवश्यक हैं। सल्फर विटामिन विकसित करने में मदद करता है, बीज उत्पादन में सहायक होता है, और एमिनो एसिड बनाने का एक अभिन्न अंग है।

मैग्नीशियम क्लोरोफिल उत्पादन में एक प्रमुख घटक है, और पौधों को फास्फोरस और लौह का उपयोग करने में मदद करता है। अन्य माध्यमिक पोषक तत्वों की तरह कैल्शियम, श्वसन और सेल विभाजन जैसे पौधों के सिस्टम कार्यों को विनियमित करने में कई भूमिका निभाता है। हालांकि, कुछ पौधों में कैल्शियम एक बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। उदाहरण के लिए, मूंगफली में nut के विकास के लिए यह आवश्यक है।

3. सूक्ष्म पोषक तत्व (Micro Nutrients)

ये अन्य प्लांट न्यूट्रिएंट्स की तुलना में बहुत कम मात्रा में जरूरी होते है, लेकिन ग्रोथ और विकास के लिए आवश्यक हैं। प्लांट माइक्रोन्यूट्रिएंट्स बोरॉन(B), क्लोरीन (Cl), कॉपर (Cu), आयरन (fe), मैंगनीज (Mn), मोलिब्डेनम (Mo), और जिंक (Zn) हैं। ये सभी माइक्रोन्यूट्रिएंट्स प्लांट बायोलॉजी में कई अलग-अलग भूमिकाओं में सहायता करते हैं। उनमें से कई, कॉपर की तरह, फोटोसिंथेसिस और रिप्रोडक्शन में एक प्रमुख भूमिका निभाते हैं।

पौधों में पोषण के तरीके (Process of Nutrition in Plants)

क्लोरोफिल की उपस्थिति में सूर्य की रोशनी से ऊर्जा का उपयोग करके हरे पौधे कार्बन डाइऑक्साइड और पानी से अपना स्वयं का भोजन बनाते हैं, जिस प्रक्रिया को फोटोसिंथेसिस कहा जाता है। हरे पौधों को भी ऊर्जा प्राप्त करने के लिए फूस की आवश्यकता होती है। सभी जीवित जीवों को विभिन्न क्रियाएं करने के लिए ऊर्जा की आवश्यकता होती है।

पौधे सूर्य की रोशनी की उपस्थिति में अपना खाना बनाते हैं और इसलिए वे ऑटोट्रॉफ होते हैं। पौधे सूरज की रोशनी से मिली ऊर्जा को रासायनिक ऊर्जा में परिवर्तित करते हैं। वे क्लोरोफिल की उपस्थिति में अपना खाना बनाने के लिए कार्बन डाइऑक्साइड, पानी और सूरज की रोशनी का उपयोग करते हैं।

पौधों में पोषण के दो प्रकार के तरीके होते हैं। वो हैं:

  • स्वपोषी पोषण
  • विषमपोषी पोषण

1. स्वपोषी पोषण (Autotroph)

न्यूट्रिशन जीवों के ऑटोट्रोफिक मोड में सूर्य की रोशनी की उपस्थिति में कार्बन डाइऑक्साइड और पानी जैसी सरल इनऑर्गेनिक सामग्री की मदद से अपना स्वयं का भोजन बनाते हैं। इसके अलावा पोषण में आर्गेनिक भोजन इनऑर्गेनिक पदार्थों से बना होता है।

हरे पौधों में पोषण का ऑटोट्रोफिक मोड होता है। इन जीवों को ऑटोट्रॉफ कहा जाता है। ऑटोट्रॉफ में क्लोरोफिल नामक हरे रंग के रंग होते हैं जो सूरज की रोशनी को फँसाने में मदद करते हैं। वे फोटोसिंथेसिस की प्रक्रिया द्वारा भोजन बनाने के लिए सूरज की रोशनी का उपयोग करते हैं। ऑटोट्रॉफ द्वारा उत्पादित भोजन मनुष्यों और जानवरों द्वारा भी उपयोग किया जाता है।

2. विषमपोषी पोषण (Heterotroph)

हेटरोट्रोफिक जीव वे हैं जो अन्य जीवों से भोजन प्राप्त करते हैं। चूंकि ये जीव अपने जीने के लिए अन्य जीवों पर निर्भर करते हैं, इसलिए उन्हें उपभोक्ता कहा जाता है। fungi जैसे और गैर-हरे पौधे इस श्रेणी के अंतर्गत आते हैं।

पौधों में पोषण (Nutrition in Plants)

हरे पौधे फोटोसिंथेसिस की प्रक्रिया द्वारा अपने स्वयं के भोजन को सिंथेसाइज करते हैं। फोटो का मतलब है कि प्रकाश और सिंथेसिस का मतलब निर्माण करना है, इसलिए फोटोसिंथेसिस का अर्थ है ‘प्रकाश से निर्माण करना’। क्लोरोफिल की उपस्थिति में पौधे कार्बन डाइऑक्साइड और पानी जैसे इनऑर्गेनिक पदार्थों से सूरज की रोशनी में भोजन का निर्माण करते हैं।

हरे पौधे प्रकाश संश्लेषण द्वारा अपना खाना बनाते हैं

क्लोरोफिल क्लोरोप्लास्ट नामक हरी रंगीन निकायों में मौजूद होता है। क्लोरोफिल की उपस्थिति के कारण ही पौधे की पत्तियां हरी होती हैं।

पौधे की हरी पत्तियों में भोजन तैयार किया जाता है। भोजन को बनाने के लिए कार्बन डाइऑक्साइड की आवश्यकता होती है जो हवा द्वारा ली जाती है। कार्बन डाइऑक्साइड पत्तियों में छोटे छिद्रों के माध्यम से प्रवेश करता है जिन्हें स्टोमेटा कहा जाता है। खाना बनाने के लिए आवश्यक पानी मिट्टी से लिया जाता है।

यह पानी पत्तियों में जड़ों और तने के माध्यम से ले जाया जाता है। सूरज की रोशनी हरे पत्ते में मौजूद रासायनिक प्रतिक्रियाओं और क्लोरोफिल को चलाने के लिए ऊर्जा प्रदान करती है जो इस ऊर्जा को अवशोषित करने में मदद करती है। ऑक्सीजन इस प्रक्रिया में उप-उत्पाद के रूप में उत्पादित होता है जो हवा में बाहर निकलता है।

पत्तियों द्वारा तैयार भोजन ग्लूकोज नामक सिंपल शुगर के रूप में होता है। यह ग्लूकोज तब पौधे के अन्य हिस्सों में भेजा जाता है। स्टार्च के रूप में पौधे की पत्तियों में अतिरिक्त ग्लूकोज संग्रहित होता है। ग्लूकोज और स्टार्च कार्बोहाइड्रेट नामक एक श्रेणी से संबंधित है। इस प्रकार हरे पौधे सूर्य की रोशनी को रासायनिक ऊर्जा में परिवर्तित करते हैं।

फोटोसिंथेसिस की प्रक्रिया:

  1. सूरज की रोशनी से मिली ऊर्जा क्लोरोफिल द्वारा अवशोषित की जाती है।
  2. सूर्य की रोशनी की ऊर्जा को रासायनिक ऊर्जा में परिवर्तित कर दिया जाता है और पानी को
  3. हाइड्रोजन और ऑक्सीजन में विभाजित किया जाता है।
  4. कार्बन डाइऑक्साइड हाइड्रोजन में रिड्यूस हो जाता है ताकि ग्लूकोज की तरह कार्बोहाइड्रेट बन जाए।

यह आवश्यक नहीं है कि फोटोसिंथेसिस के ये चरण एक-दूसरे के बाद ही होते हो।

फोटोसिंथेसिस के लिए आवश्यक शर्तें:

  1. सूरज की रोशनी
  2. क्लोरोफिल
  3. कार्बन डाइऑक्साइड
  4. पानी।

यह लेख आपको कैसा लगा?

नीचे रेटिंग देकर हमें बताइये, ताकि इसे और बेहतर बनाया जा सके

औसत रेटिंग 4.7 / 5. कुल रेटिंग : 87

कोई रेटिंग नहीं, कृपया रेटिंग दीजिये

यदि यह लेख आपको पसंद आया,

सोशल मीडिया पर हमारे साथ जुड़ें

हमें खेद है की यह लेख आपको पसंद नहीं आया,

हमें इसे और बेहतर बनाने के लिए आपके सुझाव चाहिए

कृपया हमें बताएं हम इसमें क्या सुधार कर सकते है?

इस लेख से सम्बंधित यदि आपका कोई भी सवाल या सुझाव है, तो आप उसे नीचे कमेंट में लिख सकते हैं।

About the author

अपूर्वा सिंह

Add Comment

Click here to post a comment

फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!