शनिवार, अक्टूबर 19, 2019

नेपाल उप प्रधानमंत्री: श्रीलंका हमला दक्षिण एशिया में नए प्रकार के आतंकी खतरे का संकेत

Must Read

बाबा जेल में पर राम रहीम के डेरे पर अब भी माथा टेक रहे नेता

सिरसा, 19 अक्टूबर (आईएएनएस)। दो साध्वियों के साथ दुष्कर्म और एक पत्रकार की हत्या के मामले में जेल में...

अयोध्या में आधा से ज्यादा बन चुका है राममंदिर : विहिप

लखनऊ , 19 अक्टूबर (आईएएनएस)। रामंदिर पर विवाद पर सर्वोच्च न्यायालय में सुनवाई पूरी हो चुकी है, और अदालत...

ब्रेक्जिट समझौते पर समयसीमा बढ़ी

लंदन, 19 अक्टूबर (आईएएनएस)। ब्रिटेन की संसद में शनिवार को यूरोपीय संघ(ईयू) के साथ प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन की सहमति...
पंकज सिंह चौहान
पंकज दा इंडियन वायर के मुख्य संपादक हैं। वे राजनीति, व्यापार समेत कई क्षेत्रों के बारे में लिखते हैं।

काठमांडू, 17 जून (आईएएनएस)| नेपाल (Nepal) के उप प्रधानमंत्री ईश्वर पोखरियाल ने कहा है कि श्रीलंका में 21 अप्रैल को ईस्टर रविवार के दिन हुए आत्मघाती हमलों ने स्पष्ट और मजबूत संदेश दिया है कि दक्षिण एशिया में नए प्रकार के आतंकवाद का खतरा पनप चुका है।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, देश के रक्षा मंत्री का भी पद संभाल रहे पोखरियाल ने रविवार को काठमांडू में नेपाली सेना द्वारा आयोजित डायलॉग्स ऑन पब्लिक सिक्योरिटी : काउंटरिंग टेरेरिज्म शीर्षक के सेमिनार को संबोधित करते समय ये बयान दिया।

उन्होंने कहा कि नेपाली सरकार सोचती है कि क्षेत्रीय और राष्ट्रीय संदर्भो में आतंकवाद की इस जटिल घटना को समझना बहुत महत्वपूर्ण है।

उन्होंने कहा, “हम यह भी सोचते हैं कि आतंकवाद से निपटने के लिए हमें दुनियाभर के अपने दोस्तों के अनुभवों से और सबकों से सीखने की जरूरत है।”

पोखरियाल ने आतंकवाद की समस्या से निपटने के लिए घरेलू, क्षेत्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर प्रयास करने पर जोर दिया।

उन्होंने कहा, “इस सदी में, कई सुरक्षा संबंधी खतरे अपारंपरिक हैं। वे ना तो राष्ट्रीय सीमाओं में बंधे हैं और ना ही उनसे आम युद्ध की तरह निपटा जा सकता है। मानवता और वैश्विक सुरक्षा को चुनौती देने वाले इन खतरों में सबसे बड़ा खतरा आतंकवाद है।”

मंत्री ने यह भी कहा कि बदले सुरक्षा वातावरण पर प्रकाश डालने के लिए नेपाल सरकार ने हाल ही में राष्ट्रीय सुरक्षा नीति पेश की है।

उन्होंने कहा, “हम राष्ट्रीय सुरक्षा नीति लागू करने के लिए जरूरी निर्देश और ढांचा तैयार करने की प्रक्रिया में हैं। इससे हमें यह जानने में मदद मिलेगी कि उभरते खतरों से निपटने के लिए विकसित देशों ने कैसी संस्थागत व्यवस्था की है। इससे हमें अपनी नीति, योजना और क्षमता विकसित करने में मदद मिलेगी।”

श्रीलंका में 21 अप्रैल को लग्जरी होटलों और चर्चो पर हुए आतंकवादी हमलों में लगभग 250 लोगों की मौत हो गई थी और सैकड़ों लोग घायल हुए थे।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

बाबा जेल में पर राम रहीम के डेरे पर अब भी माथा टेक रहे नेता

सिरसा, 19 अक्टूबर (आईएएनएस)। दो साध्वियों के साथ दुष्कर्म और एक पत्रकार की हत्या के मामले में जेल में...

अयोध्या में आधा से ज्यादा बन चुका है राममंदिर : विहिप

लखनऊ , 19 अक्टूबर (आईएएनएस)। रामंदिर पर विवाद पर सर्वोच्च न्यायालय में सुनवाई पूरी हो चुकी है, और अदालत ने फैसला सुरक्षित रख लिया...

ब्रेक्जिट समझौते पर समयसीमा बढ़ी

लंदन, 19 अक्टूबर (आईएएनएस)। ब्रिटेन की संसद में शनिवार को यूरोपीय संघ(ईयू) के साथ प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन की सहमति के बाद हुए ब्रेक्जिट समझौते...

आजम को परेशान किया जा रहा, ताकि हमारी सरकार न बने : अखिलेश

रामपुर, 19 अक्टूबर (आईएएनएस)। समाजवादी पार्टी (सपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने यहां शनिवार को कहा कि आजम खां को इसलिए परेशान किया...

उप्र : स्नातक में दाखिला निरस्त होने पर छात्राएं अनशन पर बैठीं

बांदा, 19 अक्टूबर (आईएएनएस)। उत्तर प्रदेश में बांदा जिला मुख्यालय के पंडित जवाहरलाल नेहरू डिग्री कॉलेज में स्नातक कक्षा का दखिला निरस्त होने से...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -