दा इंडियन वायर » समाचार » नीति आयोग ने मुद्रीकरण को सुचारु बनाने के लिए सरकार से की आयकर छूट की सिरफिश
अर्थशास्त्र समाचार

नीति आयोग ने मुद्रीकरण को सुचारु बनाने के लिए सरकार से की आयकर छूट की सिरफिश

नीति आयोग ने सिफारिश की है राष्ट्रीय मुद्रीकरण पाइपलाइन (एनएमपी) को सफल बनाने के लिए सरकार को खुदरा निवेशकों को इन्फ्रास्ट्रक्चर इन्वेस्टमेंट ट्रस्ट्स (इनविट्स) जैसे उपकरणों में आकर्षित करने के लिए आयकर छूट देनी चाहिए।

एनएमपी का संचालन करने वाले केंद्र के थिंक टैंक निति आयोग ने चार वर्षों में सरकारी खजाने के लिए लगभग ₹6 लाख करोड़ जुटाने का अनुमान लगाया है। साथ ही आयोग ने निवेशकों को अधिक आराम प्रदान करने के लिए ऐसे ट्रस्टों को दिवाला और दिवालियापन संहिता (आईबीसी) के दायरे में लाने का भी आह्वान किया है।

इनविट्स और रियल एस्टेट इन्वेस्टमेंट ट्रस्ट्स (आरईआईटी) जैसे मुद्रीकरण साधनों को बढ़ाने और अपने निवेशक आधार का विस्तार करने के लिए नीति और नियामक परिवर्तन लाना एनएमपी के लिए एक महत्वपूर्ण तत्व के रूप में पहचाना गया है। सरकार की योजना राजमार्गों, गैस पाइपलाइनों, रेलवे पटरियों और बिजली पारेषण लाइनों जैसी सार्वजनिक संपत्तियों के मुद्रीकरण के लिए इनविट्स और आरईआईटी मार्ग का उपयोग करने की है।

आयोग ने अपने ब्लूप्रिंट में कहा कि, “कर-कुशल और उपयोगकर्ता के अधिक अनुकूल तंत्र जैसे कि आयकर अधिनियम, 1961 की धारा 54ईसी के तहत निवेश करने के लिए पात्र सुरक्षा के रूप में इनविट्स में कर लाभ की अनुमति देना, उपकरणों में खुदरा भागीदारी शुरू करने के लिए महत्वपूर्ण शुरुआती बिंदु हैं।” यह ब्लूप्रिंट दर्शाता है कि रास्ते में और कर से संबंधित बदलावों की आवश्यकता हो सकती है।

धारा 54ईसी करदाताओं को कुछ सरकार समर्थित बुनियादी ढांचा फर्मों द्वारा जारी बांडों में निवेश के माध्यम से अचल संपत्तियों में लेनदेन से दीर्घकालिक पूंजीगत लाभ की भरपाई करने की अनुमति देता है।

आयोग ने बताया कि जबकि 2014 से भारत में इनविट्स संरचनाओं का उपयोग किया गया है, ऐसे ट्रस्टों को ‘कानूनी व्यक्ति’ नहीं माना जाता है और इसलिए उन्हें आईबीसी कार्यवाही के तहत नहीं लाया जा सकता है जिससे ऋणदाताओं को भाग लेने से रोका जा सकता है। आयोग ने आगे कहा कि, “चूंकि ट्रस्टों को मौजूदा नियमों के तहत ‘कानूनी व्यक्ति’ के रूप में नहीं माना जाता है, इसलिए आईबीसी नियम इनविट ऋणों पर लागू नहीं होते हैं।”

About the author

आदित्य सिंह

दिल्ली विश्वविद्यालय से इतिहास का छात्र। खासतौर पर इतिहास, साहित्य और राजनीति में रुचि।

Add Comment

Click here to post a comment




फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!