दा इंडियन वायर » खानपान » दालचीनी के 10 बेहतरीन फायदे
खानपान

दालचीनी के 10 बेहतरीन फायदे

दालचीनी के फायदे benefits of cinnamon in hindi

दालचीनी को बहुत पुराने जमाने से अत्यधिक लाभदायक माना जाता है। यह स्वाद में भी उच्च होता है और सेहत की दृष्टि से भी महत्त्वपूर्ण होता है। लगभग हज़ार वर्षों से इसके गुणों का इस्तेमाल किया जाता रहा है।

पुरानी मान्यता को साबित करते हुए आधुनिक विज्ञान ने भी यह दावा किया है कि दालचीनी सेहत के लिए लाभदायक होती है और इसके अनेक फायदे होते हैं।

दालचीनी के फायदे (benefits of cinnamon in hindi)

आइये, दालचीनी से होने वाले फायदों के बारे में चर्चा करते हैं।

1. दालचीनी हार्मोन इंसुलिन की संवेदनशीलता में सुधार करता है (cinnamon for insulin in hindi)

इन्सुलिन मानव शरीर में पाया जाना वाला ऐसा हॉर्मोन है जो मेटाबोलिज्म की दर को बढाता है और ऊर्जा के स्तर को भी नियंत्रित करता है। यह रक्त शर्करा के रक्त प्रवाह के नियंत्रण के लिए और और कोशिकाओं में परिवहन के लिए भी अतिआवश्यक है।

सबसे बड़ी समस्या यह है कि कई लोगों में इन्सुलिन प्रतिरोधी क्षमता नहीं पायी जाती है। इस समस्या को इन्सुलिन रेजिस्टेंस के नाम से जाना जाता है। इसके कारण मेटाबोलिक सिंड्रोम और टाइप-2 डायबिटीज जैसी समस्याएं हो जाती हैं।

इन समस्याओं से निजात दिलाने में दालचीनी उपयोगी पायी गयी है। यह शरीर में इन्सुलिन रेजिस्टेंस को कम करता है जिससे रक्त शर्करा की मात्रा कम हो जाती है।

2. दालचीनी एचआइवी वायरस से लड़ने में सहायक होता है (cinnamon for hiv in hindi)

एचआइवी वायरस शरीर के इम्यून सिस्टम को इतना कमज़ोर कर देता है कि उसकी रोग प्रतिरोधक क्षमता क्षीण हो जाती है।
कैसिया की किस्मों से निकाले जाने वाले दालचीनी को एचआईवी -1 से लड़ने में सहायक पाया गया है।

69 तरह के औषधीय पौधों पर किये गए एक शोध में यह पाया गया है कि एचआइवी से ग्रस्त सेल्स में संक्रमण दूर करने में दालचीनी सबसे अधिक उपयोगी होती है

3. दालचीनी के औषधीय उपयोग (medicinal uses of cinnamon in hindi)

दालचीनी एक लोकप्रिय मसाला है जो सिनामाल्डिहाइड नामक पदार्थ में उच्च होता है। यह पदार्थ ही दालचीनी से होने वाले अधिकांश स्वास्थ्य लाभों के लिए जिम्मेदार होता है।

दालचीनी में मौजूद गंध और स्वाद इसमें मौजूद सिनामाल्डिहाइड के कारण ही होता है।

4. दालचीनी ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करता है (cinnamon for blood pressure in hindi)

दालचीनी रक्त में मौजूद शक्कर को नियंत्रित करने के लिए जाना जाता है। यह पहले पाचन में उपयोगी एन्ज्य्मेस की सहायता से कार्बोहाइड्रेट्स को तोड़ता है और रक्त में पहुँचने वाले ग्लूकोस की मात्रा को कम करता है।

दालचीनी में एक यौगिक ऐसा होता है जो इंसुलिन की नकल करके कोशिकाओं पर कार्य कर सकता है। यह कोशिकाओं द्वारा ग्लूकोज के अपटेक में सुधार करता है। हालांकि, यह इंसुलिन से ज्यादा धीमी गति से काम करता है।

कई मानव परीक्षणों ने दालचीनी के मधुमेह के विरोधी प्रभावों की पुष्टि की है, जिससे यह दिखाता है कि यह रक्त शर्करा का स्तर 10-29% तक कम कर सकता है।इसकी प्रभावी खुराक आमतौर पर 1 से 6 ग्राम दालचीनी प्रति दिन (लगभग 0.5-2 चम्मच) है।

5. कैंसर से बचाव (cinnamon in cancer in hindi)

कैंसर एक घातक रोग है जिसमे सेल्स अनियंत्रित तरीके से बढ़ने लगते हैं। दालचीनी को काफी समय से कैंसर के खिलाफ लड़ने में इस्तेमाल किया जाता रहा है।

यह कोशिकाओं और टुमर वाली रक्त वाहिकाओं के विकास को रोकता है और कैंसर के लिए विषैला साबित होता है जिससे कैंसर सेल्स का खात्मा हो जाता है।

चूहों पर किये गए एक शोध में यह पाया गया है कि पेट के कैंसर से छुटकारा दिलाने के लिए ये ऐसे एन्ज्य्मेस रिलीज़ करता है जिससे कैंसर सेल्स का विकास रुक जाता है। इसके अलावा ये पेट में ऐसे एंटीओक्सीडैन्ट्स सक्रिय कर देता है जिससे कैंसर कोशिकाओं में मौजूद कैंसर खत्म हो जाता है। हालांकि, अभी इंसानों पर शोध किया जाना बाकि है।

6. ये बैक्टीरिया और फंगस के संक्रमण से बचाता है (cinnamon in infection in hindi)

दालचीनी में मौजूद सिनामाल्डिहाइड कई प्रकार के संक्रमण से बचाता है। ये श्वास नली में होने वाले संक्रमण के खिलाफ भी लड़ता है।

इसकी इसी क्षमता के चलते ये दांतों में सडन और श्वास में बदबू से छुटकारा दिलाता है।

7. हृदय रोग से बचाव (cinnamon benefits for heart in hindi)

दालचीनी को हृदय रोग और ब्लड प्रेशर के रोगियों के लिए फायदेमंद पाया गया है। मधुमेह से पीड़ित लोगों में एक ग्राम दालचीनी अत्यधिक फायदेमंद होती है।

ये रक्त में मौजूद एलडीएल कोलेस्ट्रोल के स्तर को और ट्राइग्लिसराइड्स के स्तर को घटाती है और एचडीएल के स्तर को स्थिर रखती है।

जानवरों पर किये शोधों में इसे ब्लड प्रेशर नियंत्रण में उपयोगी पाया गया है। यदि इन सबको जोड़ दिया जाये तो दालचीनी हृदय रोग से लड़ने में लाभदायक पायी जाती है।

8. इसमें भरपूर मात्रा में एंटीओक्सीडैन्ट्स होते हैं (antioxidants in cinnamon in hindi)

एंटीओक्सीडैन्ट्स फ्री रेडिकल्स से होने वाले ओक्सिडेतिव क्षति से लड़ते हैं और दालचीनी में ये प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं। इसमें पोलीफिनॉल नामक एंटीओक्सीडैन्ट पाया जाता है।

एक शोध में इसकी तुलना 26 तरह के मसालों से की गयी और यह पाया गया कि यह लहसुन और ऑरेगैनो जैसे मसालों से भी ज्यादा असरदार है और प्राकृतिक फूड प्रिसरवेटिव के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है।

9. इसमें सूजन से लड़ने की क्षमता होती है (cinnamon helps in swelling in hindi)

सूजन शरीर के लिए अत्यंत आवश्यक होती है लेकिन यदि ये लम्बे समय तक शरीर में रहे तो वह शरीर को नुक्सान पहुंचा सकती है। ये शरीर के टिश्यू के लिए नुक्सानदायक होती है।

दालचीनी इससे निजात पाने के काबिल होती है क्योंकि इसमें सूजन से लड़ने की क्षमता पायी जाती है।

10. दालचीनी से दिमागी रोगों पर लाभकारी प्रभाव पड़ता है (cinnamon for brain in hindi)

मस्तिष्क कोशिकाओं की संरचना या कार्य के प्रगतिशील नुकसान के कारण न्यूरॉइडजनरेटिव रोग उत्पन्न हो जाते है। अल्जाइमर रोग और पार्किंसंस रोग इनमें सबसे आम प्रकार माने जाते हैं।

दालचीनी में पाया जाने वाले दो यौगिक मस्तिष्क में ताउ नामक एक प्रोटीन के निर्माण को रोकते हैं, जो अल्जाइमर रोग के कारण माने जाते हैं।

चूहों पर किये गए पार्किंसंस की बीमारी पर एक अध्ययन में, दालचीनी ने न्यूरॉन्स की रक्षा में योगदान दिया, न्यूरोट्रांसमीटर के स्तर को सामान्य बना दिया और मोटर फ़ंक्शन में सुधार किया। लेकिन इन प्रभावों को मनुष्यों में आगे अध्ययन करने की आवश्यकता है।

इस लेख से सम्बंधित अपने सवाल और सुझाव आप नीचे कमेन्ट में लिख सकते हैं।

About the author

दिव्या

1 Comment

Click here to post a comment

  • dalchein ka sevan ashwagandha ke saath karna chahiye. main roj ashwagandha leta hoon. ab maine dalcheni bhi khana shuru kar diya hai. dalchein se neend achchi aati hai.

फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!