दा इंडियन वायर » सौंदर्य » चेहरे और त्वचा पर दाग-धब्बे हटाने के घरेलु उपाय
सौंदर्य

चेहरे और त्वचा पर दाग-धब्बे हटाने के घरेलु उपाय

अकसर मुंह और शरीर के अन्य हिस्सों पर दाग धब्बे हो जाते हैं। ये निशान फुंसी या किसी चोट के कारण हो जाते हैं। मुंह पर फुंसी के अनेक कारण हो सकते हैं। इन दाग धब्बों को हटाने और चेहरे को साफ़ और गोरा करने के लिए आप तरह-तरह की क्रीम या अन्य नुस्खे अपनाते हैं, लेकिन कुछ असर नहीं होता है।

डार्क स्पॉट्स को ऐज स्पॉट्स या ब्लैक स्पॉट्स के नाम से भी जाना जाता है। वे त्वचा के ऐसे पैच हैं जो आपके चेहरे, कंधों, हाथों या पीठ पर दिखाई दे सकते हैं। ये लाल, भूरे या अन्य रंगों में हो सकते हैं। मेलेनिन के अत्यधिक निर्माण के कारण ये स्पॉट दिखाई देते हैं।

मेलेनिन एक ऐसा कंपाउंड है जो त्वचा के रंग के लिए जिम्मेदार होता है। हालांकि, ये धब्बे छाया और आकार में भिन्न हो सकते हैं लेकिन एक बात इन सभी में समान हैं कि वे पीड़ित के लिए संकट का एक बड़ा स्रोत हैं।

मुंह पर दाग-धब्बों के कारण

1. अत्यधिक धूप में निकलना

बिना सनस्क्रीन क्रीम का उपयोग किये धूप में अत्यधिक समय व्यतीत करने से शरीर में मेलेनिन का उत्पादन बढ़ जाता है जिससे दाग धब्बे आदि हो जाते हैं। ये शरीर का अपने आप को यूवी किरणों से बचाने का उपाय होता है। सूरज से निकलने वाली इन किरणों से बचने के लिए शरीर मेलेनिन का उत्पादन करता है जिसका परिणाम अत्यधिक दाग धब्बे होते हैं। 

2. हॉर्मोन में परिवर्तन

जब आप गर्भवती होती हैं तो गर्भनिरोधक गोलियों के सेवन से या मेनोपौस के दौरान एस्ट्रोजेन और प्रोजेस्टेरोन के उत्पादन में अस्थिरता आ जाती है जिससे असमान मेलेनिन उत्पादन होने लगता है।

सूर्य के प्रकाश में एक्सपोजर इन स्थानों में मेलेनिन के स्राव को सक्रिय करता है, जिसके कारण दाग धब्बे हो जाते हैं।

3. चेहरे के बालों को हटाना

त्वीज़िंग, वैक्सिंग या विषादकारी क्रीम का उपयोग करके अपने चेहरे के बाल निकालने से त्वचा की सूजन हो सकती है। इससे बाद में उन क्षेत्रों में त्वचा पर दाग धब्बे पड़ सकते हैं।

4. मुँहासे / चोट

मुंहासे, चोट या किसी भी प्रकार की सर्जरी के कारण पड़ जाने वाला निशान, धीरे-धीरे लुप्त हो जाने के बजाय, दाग धब्बों में विकसित हो सकता है।

5. उम्र बढ़ना (एजिंग)

आपकी उम्र के रूप में, आपकी त्वचा की कोशिकाओं को उतना आसानी से पुन: पेश नहीं किया जाता जितना कि युवाओं में होता है। इस प्रकार, आपकी त्वचा के लिए क्षतिग्रस्त क्षेत्रों की मरम्मत और दाग धब्बों से छुटकारा पाना अधिक मुश्किल हो जाता है।

चेहरे के दाग धब्बे हटाने के उपाय

आइये यहाँ हम जानते हैं कि इन दाग धब्बों की समस्या से हम कैसे निजात पा सकते हैं।

1. एलो वेरा 

विधि 1: एलो वेरा जेल

सीधा एलो वेरा के पेड़ की पत्तियों से निकाला गया जेल धब्बों से छुटकारा पाने का सबसे अच्छा तरीका है

सामग्री
  • एलो वेरा की एक पत्ती
  • चाक़ू
कैसे इस्तेमाल करें?
  • चाकू की सहायता से पत्ती को छील लें। 
  • इसमें से जेल निकालें और सीधे अपने दागों पर लगा लें। 
  • इसे 20 मिनट लगा रहने दें फिर साफ़ पानी से धो लें। 

इसे आप नियमित रूप से इस्तेमाल करके इसका सबसे अधिक लाभ उठा सकते हैं। 

विधि 2: एलो वेरा जेल, शक्कर और नीम्बू का रस
सामग्री
  • 1/2 कप एलो वेरा जेल
  • 1 बड़े चम्मच शक्कर
  • 2 बड़े चम्मच नीम्बू का रस
कैसे इस्तेमाल करें?
  • एलो वेरा जेल, शक्कर और नीम्बू के रस को एक साथ मिला लें। 
  • साफ़ हाथों से इसे अपने चेहरे पर लगायें और प्रभावित स्थानों पर अतिरिक्त ध्यान दें। इसे 10 मिनट तक लगा रहने दें। 
  • साफ़ पानी से धो लें और मॉइस्चराइजर लगा लें। 

इसका इस्तेमाल आप हर दूसरे दिन कर सकते हैं। 

ध्यान रखें
  • लेटैक्स से एलर्जी वाले लोग पीड़ा का अनुभव कर सकते हैं क्योंकि एलो वेरा के पत्तों की परत में पाए जाने वाले घटक के साथ संपर्क में आने के परिणामस्वरूप जलन होती है। इस प्रकार, अपने पत्तों से एलो वेरा जेल निकालने के दौरान दस्ताने पहनना सबसे अच्छा है। 
  • यदि आपको लहसुन, प्याज या ट्यूलिप से एलर्जी हो, तो आपको एलो वेरा से एलर्जी हो सकती है। ऊपर सूचीबद्ध किसी भी घरेलू उपचार के साथ आगे बढ़ने से पहले अपनी बांह की कवच ​​के अंदर एक पैच परीक्षण करें। 

2. ओटमील

विधि 1: ओटमील, शहद और दूध 
सामग्री
  • 3 बड़े चम्मच ग्राउंड ओटमील
  • 1 बड़ा चम्मच शहद
  • 1 बड़ा चम्मच दूध
कैसे इस्तेमाल करें?
  • ग्राउंड ओटमील, शहद और दूध को एक साथ मिला लें और एक पेस्ट बना लें। 
  • इसे अपने पूरे चेहरे पर लगा लें। 
  • इसे सूखने दें।
  • साफ पानी से धो लें।

इसे हफ्ते में 3 बार अपने चेहरे पर लगायें। 

इसके अलावा आप शहद और दूध को पीने में भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

विधि 2: ओटमील, हल्दी, बेसन और ग्रीन टी
सामग्री
  • 2 बड़े चम्मच ग्राउंड ओटमील
  • 1/2 चम्मच हल्दी
  • 1 बड़ा चम्मच बेसन
  • 1 चम्मच ग्रीन टी लीव्स
  • पानी
कैसे इस्तेमाल करें?
  • ग्राउंड ओटमील, हल्दी, बेसन और ग्रीन टी लीव्स को एक साथ मिला लें। 
  • इस मिश्रण में पानी मिलाकर पेस्ट बना लें। 
  • इसे अपने चेहरे पर लगायें और सूखने दें।
  • साफ़ पानी से धो लें। 

इसका इस्तेमाल आप हफ्ते में दो बार कर सकते हैं। 

ध्यान रखें

सुनिश्चित करें कि आप ओटमील को किसी भी फेस पैक में जोड़ने से पहले महीन पाउडर में पीस लें। अन्यथा, इसके बड़े अनाज और मोटे बनावट आपकी त्वचा को खरोंच कर सकते हैं और आपको परेशान कर सकते हैं।

3. हल्दी

विधि 1: हल्दी, नीम्बू का रस और दूध 
सामग्री
  • 1/2 चम्मच हल्दी
  • 1 चम्मच नीम्बू का रस
  • 2 बड़े चम्मच दूध
कैसे इस्तेमाल करें?
  • हल्दी, नीम्बू का रस और दूध को एक साथ मिला लें। 
  • पतला पेस्ट बनाकर अपने चेहरे पर लगा लें। 
  • प्रभावित जगहों पर हलके हाथों से मालिश करें।
  • 15 मिनट बाद साफ पानी से धो लें।

इसका प्रयोग हर दूसरे दिन करना फायदेमंद होगा। 

विधि 2: हल्दी, योगर्ट और जैतून तेल (ओलिव ओइल)
सामग्री
कैसे इस्तेमाल करें?
  • हल्दी, योगर्ट और ओलिव ओइल को एक साथ मिला लें। 
  • इस पेस्ट को पूरे चेहरे पर लगा लें और प्रभावित जगहों पर हलके हाथ से मसाज करें। 
  • 20 मिनट बाद साफ़ पानी से धो लें। 

इसका इस्तेमाल आप हफ्ते में तीन बार कर सकते हैं। 

ध्यान रखें
  • यदि आप इसे 20 मिनट से ज्यादा लगा रहने देंगे तो आपका चेहरा पीला पड़ जायेगा और इस पीलपन को जाने में थोड़े दिन लग जायेंगे। 
  • किसी भी ज़रूरी कार्यक्रम में जाने से पहले हल्दी के मास्क को न लगायें। 

4. आलू

विधि 1: आलू के टुकड़े
सामग्री
  • 1 आलू
  • 1 चाकू
कैसे इस्तेमाल करें?
  • आलू को पतले टुकड़ों में काट लें। 
  • थोडा पानी डालकर इन टुकड़ों को गीला कर लें और प्रभावित स्थानों पर रख लें। 
  • इन टुकड़ों को 10 मिनट तक लगा रहने दें।

इसको प्रतिदिन लगाना आपके लिए फायदेमंद होगा। 

विधि 2: आलू और नीम्बू का रस
सामग्री
  • 1 आलू
  • 1 कप गर्म पानी
  • 1 बड़ा चम्मच नीम्बू का रस
  • 1 चाकू
  • रुई
कैसे इस्तेमाल करें?
  • आलू को पतले टुकड़ों में काट लें और गर्म पानी में डालकर रख दें। 
  • इनको लगभग एक घंटे तक पानी में भीगने दें।
  • आलू को टुकड़ों को हटायें और बचे हुए पानी में 1 बड़ा चम्मच नीम्बू का रस डाल दें।
  • आलू के पानी और नीम्बू के रस को फ्रिज में रख दें और ठंडा होने दें
  • इस ठन्डे मिश्रण को प्रभावित स्थानों पर रुई की मदद से लगा लें
  • 20 मिनट बाद साफ़ पानी से धो लें। 

इसके उच्च परिणाम के लिए इसको दिन में दो बार उपयोग करें। 

विधि 3: आलू और शहद
सामग्री
  • 1 आलू
  • 1 चम्मच शहद
  • 1 पिसाई यंत्र
कैसे इस्तेमाल करें?
  • आलू को अच्छी तरह घिस लें। 
  • इस आलू में 1 चम्मच शहद डाल लें।
  • इस चेहरे पर लगायें और 15 मिनट तक लगा रहने दें।
  • साफ़ पानी से धो लें। 

इसका प्रयोग हर दूसरे दिन करना लाभकारी होगा। 

ध्यान रखें

यदि आपको आलू के प्रयोग से किसी भी प्रकार की जलन या लाली महसूस होती है तो आप इसे तुरंत धो लें और आगे से इसका प्रयोग न करें। 

5. स्वीट आलमंड ओइल (बादाम का तेल)

विधि 1: बादाम का तेल
सामग्री
  • स्वीट आलमंड ओइल
कैसे इस्तेमाल करें?
  • बादाम के तेल की कुछ बूँदें अपनी उँगलियों पर मल लें और चेहरे पर इससे मालिश करें। ध्यान रखें कि आप काले धब्बों पर इसका अधिक प्रयोग करें। 
  • धोएं नहीं। 

इसका प्रयोग प्रति रात्रि सोने से पहले करें। 

विधि 2: बादाम का तेल, नीम्बू का रस, दूध का पाउडर और शहद
सामग्री
  • बादाम के तेल की 4-5 बूँदें
  • 2 चम्मच नीम्बू का रस
  • 1 चम्मच शहद
  • 1 बड़ा चम्मच दूध का पाउडर
कैसे इस्तेमाल करें?
  • बादाम का तेल, नीम्बू का रस, शहद और दूध के पाउडर को एक साथ मिला लें। 
  • इस पेस्ट को चेहरे पर लगा कर आधा घंटे तक लगा रहने दें।
  • साफ़ पानी से धो लें

इसके अधिक फायदों के लिए इसे हफ्ते में तीन बार लगायें। 

विधि 3: बादाम का तेल और विटामिन ई का तेल
सामग्री
  • 1 चम्मच बादाम का तेल
  • 2 बूँद विटामिन ई का तेल
  • माइक्रोवेव
कैसे इस्तेमाल करें?
  • एक कप में बादाम का तेल और विटामिन ई का तेल डाल लें। आप इसके लिए बोतल वाले विटामिन ई के तेल का इस्तेमाल कर सकते हैं या फिर कैप्सूल का भी प्रयोग कर सकते हैं।
  • इस मिश्रण को 10 मिनट के लिए माइक्रोवेव में गर्म कर लें।
  • इस अपने पूरे चेहरे पर लगायें।
  • 10 मिनट के लिए प्रभावित स्थानों पर इससे मालिश करें
  • इसे साफ़ कपडे यस टिश्यू से साफ़ करें। 

इसका इस्तेमाल प्रति रात्रि सोने से पहले करें। 

ध्यान रखें

यदि आपको बा दाम से एलर्जी है या किसी और नट से एलर्जी है तो बादाम के तेल का प्रयोग न करें क्योंकि इससे भयानक एलर्जिक रिएक्शन हो सकता है

6. अजमोद

विधि 1: अजमोद, नीम्बू का रस और शहद
सामग्री
  • 1 अजमोद
  • 1 चम्मच नीम्बू का रस
  • 2 चम्मच शहद
  • 1 ब्लेंडर
कैसे इस्तेमाल करें?
  • अजमोद को बारीक काट लें, उसमें पानी मिलाएं और ब्लेंडर में चला लें
  • इस पेस्ट में शहद और नीम्बू का रस डाल लें और अच्छे से मिला लें
  • इसे अपने पूरे चेहरे पर लगायें, ध्यान रखें कि प्रभावित जगहों पर ज्यादा ध्यान दें
  • 20 मिनट बाद साफ़ पानी से धो लें 

इसका प्रयोग हर दूसरे दिन किया जा सकता है। 

विधि 2: अजमोद और नीम्बू के रस की चाय
सामग्री
  • 1 अजमोद
  • 1 बड़ा चम्मच नीम्बू का रस
  • पानी
  • रुई
कैसे इस्तेमाल करें?
  • अजमोद को बारीक काट कर उसे 10-12 मिनट के लिए 2 कप पानी में डाल दें। 
  • इस पानी को एक कप में निकाल लें।
  • इस पानी में 1 बड़ा चम्मच नीम्बू का रस मिला लें।
  • रुई की मदद से अजमोद और नीम्बू की चाय पर सीधा प्रभावित स्थानों पर लगा लें
  • इसे आधा घंटे बाद साफ़ पानी से धो लें

इसके अधिक फायदों के इसे प्रति रात्रि सोने से पहले इस्तेमाल करें। 

ध्यान रखें

कभी कभी लोगों में अजमोद के प्रयोग के बाद फोटोडर्मेटाइटिस की समस्या से जूझना पढता है। इस समस्या में सूरज की किरणों के कारण लोगों को चकत्ते और फफोले पड़ जाते हैं। इसलिए  यह अतिआवश्यक है कि आप इसको उपयोग में लाने से पहले इसका पैच टेस्ट कर लें

7. प्याज का रस

विधि 1: प्याज का रस और लहसुन का रस
सामग्री
  • 1/2 प्याज
  • 3 लहसुन की कलियाँ
  • 1 स्ट्रेनर
  • 1 ब्लेंडर
  • रुई
कैसे इस्तेमाल करें?
  • प्याज और लहसुन को ब्लेंडर में अच्छी तरह पीस लें और उसका रस निकाल लें।
  • रुई की सहायता से इसे प्रभावित स्थानों पर लगायें और सूखने दें।
  • पानी से धो लें

इसका इस्तेमाल हर रात को सोने से पहले करें।

विधि 2: प्याज का रस और शहद
सामग्री
  • 1 बड़ा चम्मच प्याज का रस
  • 2 बड़े चम्मच शहद
  • रुई
कैसे इस्तेमाल करें?
  • एक कटोरी में प्याज का रस और शहद मिला लें। 
  • रुई की सहायता से इसे प्रभावित स्थानों पर लगायें।
  • इसे आधा घंटे बाद साफ़ पानी से धो लें

इसके अधिक फायदों के इसे प्रतिदिन इस्तेमाल करें। 

विधि 3: प्याज का रस, बेसन और गुलाब जल
सामग्री
  • 1 बड़ा चम्मच प्याज का रस
  • 2 बड़े चम्मच बेसन
  • 1 बड़ा चम्मच गुलाब जल
कैसे इस्तेमाल करें?
  • प्याज का रस, बेसन और गुलाब जल को एक कटोरी में मिलाकर पेस्ट बना लें। 
  • इसे पूरे चेहरे पर लगायें और 30 मिनट तक लगा रहने दें।
  • पानी से धो लें।

इसके आप हफ्ते में 3 बार प्रयोग में ला सकते हैं। 

ध्यान रखें

किसी भी महत्त्वपूर्ण कार्यक्रम में जाने से एक दिन पहले प्याज के रस का प्रयोग न करें क्योंकि इसकी दुर्गन्ध रह जाती है। 

8. अनानास का रस

विधि 1: अनानास का रस
सामग्री
  • 1/4 अनानास
  • 1 स्ट्रेनर
  • 1 ब्लेंडर
  • रुई
कैसे इस्तेमाल करें?
  • अनानास को ब्लेंड कर लें और उसका रस निकाल लें।
  • रुई की सहायता से इसे प्रभावित स्थानों पर लगायें और सूखने दें।
  • पानी से धो लें

इसका इस्तेमाल प्रतिदिन करने पर अत्यधिक फायदे मिलते हैं। 

विधि 2: अनानास का रस और योगर्ट
सामग्री
  • 2 बड़े चम्मच ताज़ा अनानास का रस
  • 2 बड़े चम्मच योगर्ट
कैसे इस्तेमाल करें?
  • अनानास के रस और योगर्ट को मिलाकर एक गाढ़ा पेस्ट बना लें। 
  • इस पेस्ट को पूरे चेहरे पर लगायें और 25 मिनट तक लगा रहने दें।
  • पानी से धो लें

इसके हफ्ते में तीन बार लगाना फायदेमंद होता है। 

ध्यान रखें
  • पैच टेस्ट करके एक बार जांच लें कि कहीं ये आपकी त्वचा को नुक्सान तो नहीं पहुंचा रहा है। 
  • बाहर से ये रस न लायें क्योंकि उसमें रसायन होते हैं जो आपकी त्वचा को नुक्सान पहुंचा सकते हैं। 

9. पपीता

विधि 1: पपीते का पेस्ट
सामग्री
  • 1/2 पपीता
  • 1 ब्लेंडर
कैसे इस्तेमाल करें?
  • पपीते को पीस लें ताकि वो एक गाढ़ा पेस्ट बन जाए।
  • इसे पूरे चेहरे पर लगायें और 20 मिनट तक सूखने दें।
  • पानी से धो लें

इसका हफ्ते में तीन बार लगाना चाहिए। 

विधि 2: पपीता, ओटमील, नारियल का तेल
सामग्री
  • 1/2 पपीता
  • 2 बड़े चम्मच ओटमील
  • 1 चम्मच नारियल का तेल
कैसे इस्तेमाल करें?
  • एक कटोरी में पपीते का गूदा कांटे की मदद से निकाल लें और इसे ओटमील और नारियल के तेल के साथ मिला लें ताकि एक गाढ़ा पेस्ट बन जाए। 
  • इस पेस्ट को पूरे चेहरे पर लगायें और 30 मिनट तक लगा रहने दें।
  • साफ़ पानी से धो लें

इसके हफ्ते में तीन बार लगाना फायदेमंद होता है। 

ध्यान रखें

पपीते के गूदे में लेटैक्स पाया जाता है इसलिए याद रखें कि इसका प्रयोग करने से पहले आप इसका पैच टेस्ट करके ये जांच लें कि कहीं आप इससे एलर्जिक तो नहीं हैं, विशेषकर यदि आपकी तवचा अधिक संवेदनशील है। 

10. टमाटर

विधि 1: टमाटर का रस और नीम्बू का रस
सामग्री
  • 2 बड़े चम्मच टमाटर का रस
  • 1 बड़ा चम्मच नीम्बू का रस
कैसे इस्तेमाल करें?
  • टमाटर के रस और नीम्बू के रस को एक साथ मिला लें।
  • रुई की सहायता से इसे अपने चेहरे पर लगा लें विशेषकर प्रभावित स्थानों पर।
  • सूखने का इंतज़ार करें फिर धो लें।

इसका प्रयोग प्रतिदिन किया जाना चाहिए। 

विधि 2: टमाटर और शक्कर
सामग्री
  • 1 टमाटर
  • 1 बड़ा चम्मच शक्कर
कैसे इस्तेमाल करें?
  • शक्कर को एक प्लेट में निकाल लें
  • टमाटर का एक टुकड़ा लेकर उसे शक्कर में डाल दें और तब तक रहने दें जब तक वो एक तरफ से पूरी तरह शक्कर से न ढक जाए
  • जिस तरफ शक्कर है उस तरफ से अपने चेहरे पर इसे मल लें, प्रभावित स्थानों पर विशेष ध्यान देते हुए।
  • जब ये पूरे चेहरे पर लग जाए, इसे 10 मिनट लगा रहने दें।
  • पानी से धो लें
ध्यान रखें

टमाटर एसिडिक होने के कारण सम्वेदंशील त्वचा पर थोड़े सख्त हो सकते हैं इसलिए टमाटर से बना कोई भी स्क्रब इस्तेमाल करने से पहले इसका पैच टेस्ट कर लें

11. खीरा

विधि 1: खीरा, एलो वेरा जेल और नीम्बू का रस
सामग्री
  • 1 खीरा
  • 1/2 चम्मच एलो वेरा जेल
  • 1 बड़ा चम्मच नीम्बू का रस
  • 1 ब्लेंडर
कैसे इस्तेमाल करें?
  • खीरे को ब्लेंड करके उसका गूदा बना लें, फिर उसमें एलो वेरा जेल और नीम्बू का रस मिला लें।
  • इस मास्क को अपने चेहरे पर लगा लें और आधा घंटे तक लगा रहने दें।
  • पानी से धो लें।

इसका प्रयोग प्रतिदिन किया जाना चाहिए। 

विधि 2: खीरा और योगर्ट
सामग्री
  • 1 खीरा
  • 2 बड़े चम्मच योगर्ट
  • 1 ब्लेंडर
कैसे इस्तेमाल करें?
  • खीरे और योगर्ट को तब तक ब्लेंड कर लें जब तक वे एक गाढ़ा पेस्ट न बना लें।
  • इस पेस्ट को अपने पूरे चेहरे और 40 मिनट तक लगा रहने दें
  • पानी से धो लें

इसको प्रतिदिन इस्तेमाल करें

ध्यान रखें

इसके कोई नुक्सान नहीं हैं तो आप इसको आसानी से इस्तेमाल कर सकते हैं

12. योगर्ट

विधि 1: योगर्ट, ओटमील और नीम्बू का रस
सामग्री
  • 2 बड़े चम्मच योगर्ट
  • 1 बड़ा चम्मच ओटमील
  • 1 बड़ा चम्मच नीम्बू का रस
कैसे इस्तेमाल करें?
  • योगर्ट, ओटमील और नीम्बू के रस को मिलाकर एक गाढा पेस्ट बना लें।
  • इसे पूरे चेहरे पर लगा लें और 20 मिनट तक लगा रहने दें।
  • पानी से धो लें।

इसका हफ्ते में 3 बार लगायें। 

विधि 2: योगर्ट, पुदीना और गुलाब जल
सामग्री
  • 2 बड़े चम्मच योगर्ट
  • 1 बड़ा चम्मच पुदीना
  • 1 बड़ा चम्मच गुलाब जल
  • 1 ब्लेंडर
कैसे इस्तेमाल करें?
  • योगर्ट, पुदीना और गुलाब जल मिलाकर एक पेस्ट बना लें।
  • इस पेस्ट को अपने पूरे चेहरे और 40 मिनट तक लगा रहने दें
  • पानी से धो लें

इसको प्रतिदिन इस्तेमाल करें

ध्यान रखें

कभी भी फ्लेवर्ड योगर्ट का न इस्तेमाल करें क्योंकि इसमें रसायन मौजूद होते हैं जो आपकी त्वचा के लिए हानिकारक होते हैं

13. शहद

विधि 1: शहद और आलू
सामग्री
  • 2 बड़े चम्मच शहद
  • 1 आलू
  • 1 ग्रेटर
कैसे इस्तेमाल करें?
  • आलू को पीस लें और उसमें शहद मिलाकर एक पेस्ट बना लें।
  • इसे प्रभावित स्थानों पर लगा लें और 20 मिनट तक लगा रहने दें।
  • गर्म पानी से धो लें।

इसे प्रतिदिन लगायें। 

विधि 2: शहद और टमाटर का रस
सामग्री
  • 1 बड़ा चम्मच शहद
  • 2 बड़े चम्मच टमाटर का रस
  • रुई
कैसे इस्तेमाल करें?
  • शहद और टमाटर को पीस कर पेस्ट बना लें।
  • रुई की सहायता से इसे प्रभावित स्थानों पर लगायें और सूखने दें।
  • गर्म पानी से धो लें

इसको प्रतिदिन दो बार इस्तेमाल करें

ध्यान रखें

तैलीय त्वचा वाले लोगों को शहद का इस्तेमाल करने से टेस्ट करके ये जांच लेना चाहिए कि उनकी त्वचा कैसी प्रतिक्रिया दे रही है

14. स्ट्रॉबेरी

विधि 1: स्ट्रॉबेरी और शहद
सामग्री
  • 4-5 स्ट्रॉबेरीज
  • 1 बड़ा चम्मच शहद
  • 1 ब्लेंडर
कैसे इस्तेमाल करें?
  • स्ट्रॉबेरीज और शहद को ब्लेंड करके पेस्ट बना लें।
  • इसे पूरे चेहरे पर लगायें और 40 मिनट तक लगा रहने दें।
  • गर्म पानी से धो लें।

इसे प्रयोग हर दूसरे दिन करें। 

विधि 2: स्ट्रॉबेरीज और एप्पल साइडर विनेगर
सामग्री
  • 3-5 स्ट्रॉबेरीज
  • 1 बड़ा चम्मच एप्पल साइडर विनेगर
  • 1 काँटा
कैसे इस्तेमाल करें?
  • कांटे से स्ट्रॉबेरीज का गूदा अलग कर लें।
  • इन स्ट्रॉबेरीज में एप्पल साइडर विनेगर डाल लें।
  • इस पेस्ट को अपने पूरे चेहरे पर लगा लें और 20 मिनट तक लगा रहने दें
  • पानी से धो लें

इसको हफ्ते में दो बार लगायें

ध्यान रखें

इनमें से कोई भी विधि का इस्तेमाल करते समय ये याद रखें कि आप सनस्क्रीन का इस्तेमाल भी करें क्योंकि इसको लगाने से आपकी त्वचा सूरज की यूवी किरणों के प्रति अति’संवेदनशील हो जाती है

15. कैलेमाइन लोशन

सामग्री
  • कैलेमाइन लोशन
  • रुई
कैसे इस्तेमाल करें?
  • कैलेमाइन लोशन को रुई की सहायता से प्रभावित स्थानों पर लगायें।
  • रातभर लगा रहने दें और सुबह धो लें

इसे प्रयोग प्रतिदिन करें। 

ध्यान रखें

किसी भी लालिमा, खुजली, या सूजन की जांच करने के लिए एक पैच टेस्ट करें, यह निर्धारित करने के लिए कि आपको कैलामाइन से एलर्जी है या नहीं।

16. संतरे का छिलका

विधि 1: संतरे का छिलका और योगर्ट
सामग्री
  • 1 बड़ा चम्मच सूखा और पिसा हुआ संतरे का छिलका
  • 2 बड़े चम्मच योगर्ट
कैसे इस्तेमाल करें?
  • पीसी हुए संतरे के छिलके और योगर्ट को मिलाकर एक पेस्ट बना लें।
  • इस पेस्ट को पूरे चेहरे पर लगायें और 25 मिनट तक लगा रहने दें।
  • पानी से धो लें।

इसे प्रतिदिन इस्तेमाल करें। 

विधि 2: संतरे का छिलका, शहद और दूध
सामग्री
  • 2 बड़े चम्मच पिसा हुआ संतरे का छिलका
  • 2 बड़े चम्मच दूध
  • 1 बड़ा चम्मच शहद
कैसे इस्तेमाल करें?
  • संतरे के छिलके के पाउडर, दूध और शहद को मिलाकर एक पेस्ट बना लें।
  • इस पेस्ट को अपने पूरे चेहरे पर लगा लें और सूखने दें
  • गर्म पानी से धो लें

इसको प्रतिदिन उपयोग में लायें

ध्यान रखें

ऐसे संतरे जिन्हें कीटनाशक डालकर उगाया गया है उनके कीटनाशक इसके छिलके में प्रवेश कर सकते हैं और आपकी त्वचा को नुकसान पहुंचा सकते हैं

17. हॉर्सरैडिश

विधि 1: हॉर्सरैडिश पेस्ट
सामग्री
  • 1 हॉर्सरैडिश
  • 1 ब्लेंडर
  • पानी
कैसे इस्तेमाल करें?
  • हॉर्सरैडिश को काट लें और थोडा पानी मिलकर पीस लें।
  • इस पेस्ट को पूरे चेहरे पर लगायें, विशेषकर प्रभावित स्थानों पर और 20 मिनट तक लगा रहने दें।
  • पानी से धो लें।

इसे प्रतिदिन इस्तेमाल करें। 

विधि 2: हॉर्सरैडिश, एप्पल साइडर विनेगर और शहद
सामग्री
  • 1 हॉर्सरैडिश
  • 1 बड़ा चम्मच एप्पल साइडर विनेगर
  • 1 चम्मच शहद
कैसे इस्तेमाल करें?
  • हॉर्सरैडिश को अच्छी तरह पीस कर गूदा बना लें।
  • इस पेस्ट में एप्पल साइडर विनेगर और शहद डालकर अच्छी तरह मिला लें।
  • इस पेस्ट को पूरे चेहरे पर लगायें और 30 मिनट तक लगा रहने दें।
  • पानी से धो लें

इसे हफ्ते में 3 बार लगायें

ध्यान रखें
  • इसका इस्तेमाल करने के बाद सनस्क्रीन अवश्य लगायें अन्यथा आपकी त्वचा सूरज की यूवी किरणों के प्रति अतिसंवेदनशील हो जाती है
  • कभी कभी इससे त्वचा और आँखों में जलन भी हो जाती है
  • गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं को हॉर्सरैडिश से दूर रहना चाहिए क्योंकि यह गर्भस्राव और अन्य जटिलताओं का कारण पाया गया है।

18. दूध

विधि 1: दूध और शहद
सामग्री
  • 4 बड़े चम्मच दूध
  • 2 बड़े चम्मच शहद
  • रुई
कैसे इस्तेमाल करें?
  • दूध और शहद को एक साथ मिला लें।
  • रुई की सहायता से इस पेस्ट को अपने चेहरे पर लगा लें।
  • इससे प्रभावित स्थानों पर 10 मिनट तक मालिश करें।
  • इसे 10 मिनट तक और लगा रहने दें फिर पानी से धो लें

इसे प्रतिदिन इस्तेमाल करें। (पढ़ें: दूध के अन्य फायदे

विधि 2: दूध, हल्दी और चन्दन
सामग्री
  • 2 बड़े चम्मच दूध
  • 1 बड़ा चम्मच चन्दन पाउडर
  • 1/2 चम्मच हल्दी
कैसे इस्तेमाल करें?
  • दूध, हल्दी और चन्दन को मिलाकर एक पेस्ट बना लें।
  • इसे चेहरे पर लगा लें और सूखने दें।
  • पानी से धो लें

इसे हर दूसरे दिन लगायें

ध्यान रखें

दूध के संपर्क में आने के बाद मुँहासे के प्रति प्रवण लोग ब्रेकआउट का अनुभव कर सकते हैं। उनके लिए, यह बेहतर होगा कि वे ऊपर दिए गए घरेलू उपचार में दूध के स्थान पर छाछ या दही का प्रयोग करें।

19. सेब का सिरका

विधि 1: सेब का सिरका और शहद
सामग्री
  • 1 चम्मच सेब का सिरका
  • 1 चम्मच पानी
  • 1 चम्मच शहद
  • रुई

(सेब का सिरका बनाने की विधि)

कैसे इस्तेमाल करें?
  • सेब का सिरका में पानी मिला लें और उसमें शहद डाल लें।
  • रुई की सहायता से इसे प्रभावित स्थानों पर लगायें और 15 मिनट तक लगा रहने दें।
  • पानी से धो लें

इसे प्रतिदिन इस्तेमाल करें।

विधि 2: एप्पल साइडर विनेगर और संतरे का रस
सामग्री
  • 1 चम्मच एप्पल साइडर विनेगर
  • 2 बड़े चम्मच संतरे का रस
  • रुई
कैसे इस्तेमाल करें?
  • एप्पल साइडर विनेगर और संतरे के रस को मिला लें।
  • इसे रुई से प्रभावित स्थानों पर लगायें और सूखने दें।
  • पानी से धो लें

इसे हर दूसरे दिन लगायें

ध्यान रखें
  • सुनिश्चित करें कि आप इन उपचारों का उपयोग करते समय सनस्क्रीन का उपयोग करते हैं, क्योंकि एप्पल साइडर विनेगर आपकी त्वचा को सूरज की यूवी किरणों के प्रति संवेदनशील बनाता है।
  • यदि आपकी संवेदनशील त्वचा है, तो एप्पल साइडर विनेगर का पैच परीक्षण करें ताकि यह पता लगा सके कि आपकी त्वचा इससे कैसे प्रतिक्रिया करती है।

20. अरंडी का तेल

विधि 1: अरंडी का तेल
सामग्री
  • अरंडी का तेल
  • रुई
कैसे इस्तेमाल करें?
  • अरंडी के तेल की 4-5 बूँदें रुई पर डालकर सीधे प्रभावित स्थानों पर लगायें।
  • इसे 1 घंटे तक लगा रहने दें फिर साफ़ पानी से धो लें

प्रतिदिन, सुबह उठने के बाद और रात को सोने से पहले इसका प्रयोग करें। 

विधि 2: अरंडी का तेल और नारियल का तेल
सामग्री
  • अरंडी के तेल की 10 बूँदें
  • नारियल के तेल की 10 बूँदें
कैसे इस्तेमाल करें?
  • अरंडी के तेल और नारियल के तेल को एक साथ मिला लें।
  • रुई से इस मिश्रण को पूरे चेहरे पर लगायें और 15 मिनट तक लगा रहने दें।
  • गर्म पानी से धो लें

इसे प्रति रात्रि सोने से पहले लगायें।

ध्यान रखें
  • यदि आप गर्भवती हैं, आंतरिक या बाह्य रूप से किसी भी अरंडी का तेल का उपयोग न करें, क्योंकि यह लेबर पैदा कर देता है और यदि सही तरीके से उपयोग नहीं किया गया है तो जटिलताओं का कारण भी हो सकता है।
  • पेरिल्स या खुले घावों पर या आस-पास अरंडी ऑइल न लगायें।

21. काबुली चना

विधि 1: काबुली चने का पेस्ट
सामग्री
  • 1/2 कप काबुली चना
  • 1/2 कप पानी
  • ब्लेंडर
कैसे इस्तेमाल करें?
  • काबुली चने को अच्छी तरह उबाल लें।
  • इनके ठन्डे हो जाने पर इन्हें पानी के साथ पीस कर गाढ़ा पेस्ट बना लें।
  • इसे पूरे चेहरे पर लगायें और 30 मिनट तक लगा रहने दें
  • साफ़ पानी से धो लें

इसे प्रतिदिन उपयोग में लायें। 

विधि 2: काबुली चना और नीम्बू का रस
सामग्री
  • 4 बड़े चम्मच काबुली चने का पेस्ट
  • 3 बड़े चम्मच नीम्बू का रस
कैसे इस्तेमाल करें?
  • काबुली चने के पेस्ट और नीम्बू के रस को अच्छी तरह मिलाकर गाढ़ा पेस्ट बना लें।
  • इस पेस्ट को अपने पूरे चेहरे पर लगायें, विशेषकर प्रभावित स्थानों पर।
  • 20 मिनट बाद पानी से धो लें

इसका प्रयोग आप हर दुसरे दिन कर सकते हैं।

ध्यान रखें

काबुली चने का पेस्ट काफी भारी होता है इसलिए यदि इसे चेहरे पर लगाया जाए तो संवेदनशील त्वचा वाले लोगों की त्वचा के रोम छिद्र बंद कर देता है

22. छाछ

विधि 1: कच्ची छाछ
सामग्री
  • छाछ
  • रुई
कैसे इस्तेमाल करें?
  • एक कटोरी में थोड़ी छाछ डाल लें।
  • रुई से इसे सीधे प्रभावित स्थानों पर लगायें।
  • 20 मिनट बाद साफ़ पानी से धो लें

इसे प्रतिदिन उपयोग में लायें। 

विधि 2: छाछ और टमाटर का रस
सामग्री
  • 4 बड़े चम्मच छाछ
  • 3 बड़े चम्मच टमाटर का रस
कैसे इस्तेमाल करें?
  • छाछ और टमाटर के रस को एक कटोरी में डालकर अच्छी तरह मिला लें।
  • इस मिश्रण को पूरे चेहरे पर लगायें और 30 मिनट तक लगा रहने दें।
  • साफ़ पानी से धो लें

इसका प्रतिदिन प्रयोग में लायें।

ध्यान रखें

इसको आँखों के आस पास न लगायें क्योंकि इसमें मौजूद लैक्टिक एसिड से आँखों में जलन हो सकती है

23. नीम्बू का रस

विधि 1: नीम्बू का रस और पानी
सामग्री
  • 1 नीम्बू
  • फिल्टर्ड पानी
  • रुई
कैसे इस्तेमाल करें?
  • नीम्बू को एक कटोरी में निचोड़ लें।
  • सामान मात्रा में फिल्टर्ड पानी भी डाल लें।
  • इस मिश्रण को रुई से अपने पूरे चेहरे पर लगायें
  • 20 मिनट बाद साफ़ पानी से धो लें। साबुन न लगायें।

इसको हर दुसरे दिन प्रयोग करें। 

विधि 2: नीम्बू का रस और योगर्ट का फेस मास्क
सामग्री
  • 1 नीम्बू
  • 1 बड़ा चम्मच ताज़ा योगर्ट
कैसे इस्तेमाल करें?
  • नीम्बू को एक कटोरी में निचोड़ लें।
  • इसमें 1 बड़ा चम्मच योगर्ट डालकर मिला लें
  • इस मिश्रण को पूरे चेहरे पर लगायें और 30 मिनट तक लगा रहने दें।
  • साफ़ पानी से धो लें

इसका हफ्ते में दो बार लगायें।

विधि 3: नीम्बू का रस और शक्कर का फेस स्क्रब
सामग्री
  • 1/2 नीम्बू
  • 1 चम्मच शक्कर
कैसे इस्तेमाल करें?
  • आधे नीम्बू को एक कटोरी में निचोड़ लें।
  • इसमें एक चम्मच शक्कर डालकर अच्छे से मिला लें
  • इस मिश्रण को उँगलियों में लें और चेहरे की अच्छी तरह मालिश करें विशेषकर प्रभावित स्थानों पर।
  • 2 मिनट तक मालिश करते रहें।
  • साफ़ पानी से धो लें

इसको हफ्ते में एक बार लगायें।

ध्यान रखें
  • नीम्बू को आँखों के पास न इस्तेमाल करें क्योंकि इससे आँखों में जलन हो सकती है
  • नीम्बू लगाने के तुरंत बाद धूप में बाहर न निकलें क्योंकि इसकी आपकी त्वचा जल सकती है

24. विटामिन ई का तेल

विधि 1: बोतल वाला विटामिन ई का तेल
सामग्री
  • विटामिन ई के तेल की एक बोतल
कैसे इस्तेमाल करें?
  • विटामिन ई के तेल की कुछ बूँदें प्रभावित स्थानों पर लगायें और उँगलियों से त्वचा की मालिश करें।

इसको प्रतिदिन सोने से पहले लगायें। 

विधि 2: विटामिन ई के कैपसुल
सामग्री
  • 1 विटामिन ई का कैपसुल
  • 1 सुई या सेफ्टी पिन
कैसे इस्तेमाल करें?
  • सुई की मदद से विटामिन ई के कैपसुल में छेद कर लें।
  • इसमें से तेल अपने हाथों में निकाल लें।
  • इसे सीधे प्रभावित स्थानों पर लगायें।

इसका प्रतिदिन सोने से पहले लगायें।

ध्यान रखें
  • कुछ लोगों को विटामिन ई तेल से एलर्जी हो सकती है और अगर वे इसके साथ संपर्क में आते हैं तो संपर्क जिल्द की सूजन विकसित होती है। उपरोक्त उल्लिखित किसी भी घरेलू उपचार की कोशिश करने से पहले अपनी बांह की कलाई पर पैच परीक्षण करें।
  • चूंकि विटामिन ई एक भारी सूत्रीकरण में आता है, यदि आपकी त्वचा पर मुँहासे की संभावना अधिक होती है तो यह आपकी त्वचा को तोड़ने का कारण हो सकता है।

25. चन्दन

विधि 1: चन्दन पाउडर, ग्लिसरीन और दूध
सामग्री
  • 1/2 बड़ा चम्मच चन्दन पाउडर
  • 2 बड़े चम्मच दूध
  • 1 चम्मच ग्लिसरीन
कैसे इस्तेमाल करें?
  • चन्दन पाउडर, दूध और ग्लिसरीन को अच्छी तरह मिलाकर पेस्ट बना लें।
  • इस पेस्ट को पूरे चेहरे पर लगायें और 30 मिनट तक लगा रहने दें
  • पानी से धो लें

इसको हफ्ते में 3 बार लगायें। 

विधि 2: चन्दन पाउडर, संतरे का रस और विटामिन ई का तेल
सामग्री
  • 2 बड़े चम्मच चन्दन पाउडर
  • 3 बड़े चम्मच संतरे का रस
  • 4-5 विटामिन ई के तेल की बूँदें
कैसे इस्तेमाल करें?
  • चन्दन पाउडर, संतरे का रस और विटामिन ई का तेल मिलाकर पेस्ट बना लें।
  • यह पेस्ट चेहरे पर लगा लें और 30 मिनट तक लगा रहने दें।
  • पानी से धो लें।

इसका हर दूसरे दिन लगायें।

ध्यान रखें

हालांकि, चन्दन पाउडर से कोई नुक्सान नहीं होता है लेकिन यह काफी महंगा होता है

जरूरी टिप्स

  • त्वचा को साफ़ रखें: दिन में कम से कम दो बार साफ़ पानी से मुंह धोएं।
  • अलसी का इस्तेमाल करें: अलसी में ओमेगा-3 फैटी एसिड होता है। अलसी का उपयोग आपकी त्वचा को साफ़ बनाने में मदद करता है।
  • डेरी का कम सेवन करें: यदि आप दाग-धब्बे रहित त्वचा चाहते हैं, तो दूध, घी आदि का कम से कम सेवन करें।

About the author

दिव्या

4 Comments

Click here to post a comment

फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!