गुरूवार, नवम्बर 14, 2019

तुर्की के राष्ट्रपति ने कहा, डोनाल्ड ट्रम्प प्रतिबंधों को माफ़ कर सकते हैं: रिपोर्ट

Must Read

गन्ने को प्रदेश के औद्योगिक विकास की बुनियाद बनाएंगे : योगी

लखनऊ, 13 नवम्बर(आईएएनएस)। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को यहां कहा कि भविष्य में गन्ना प्रदेश...

शी चिनफिंग ने एक्रोपोलिस संग्रहालय का दौरा किया

बीजिंग, 13 नवंबर (आईएएनएस)। चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग और उनकी पत्नी फंग लीयुआन ने 12 नवंबर को ग्रीस के...

हांगकांग चीन का घरेलू मामला : चीन

बीजिंग, 13 नवंबर (आईएएनएस)। हांगकांग चीन का हांगकांग है। हांगकांग का मामला चीन का घरेलू मामला है। कोई भी...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

तुर्की के राष्ट्रपति रिचप तैयाब एर्दोगन ने कहा कि “अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प को तुर्की पर प्रतिबंधों को माफ़ करने का अधिकार है। तुर्की ने रूस की वायु रक्षा प्रणाली को खरीदा रा और उन्हें मतभेद में बीच के रास्ते को ढूँढना चाहिए।”

प्रतिबंधो से बचाव का राष्ट्रपति को हक़

तुर्की को दो दिन पूर्व ही रूस की एस-400 रक्षा प्रणाली के भागो की पहली डिलीवरी मिली थी। जबकि अमेरिका ने धमकी दी थी कि यह कदम अमेरिकी प्रतिबंधों को आमंत्रण दे सकता है। एर्दोगन ने तुर्की के पत्रकार के हवाले से कहा कि “ट्रम्प के समक्ष कास्टा प्रतिबंधो को स्थगित करने का अधिकार है।”

अमेरिका के प्रतिबन्ध रूस से सैन्य उपकरणों को खरीदने से रोकने के लिए तय किये गए थे। एर्दोगन ने कहा कि “यह मामले की शुरुआत से ट्रम्प को बीच के मार्ग को खोजने की जरुरत थी।” जी-20 शिखर सम्मेलन में मुलाकात के दौरान ट्रम्प ने तुर्की की स्थिति के प्रति संवेदना व्यक्त की थी।

तुर्की का सौदा प्रतिबंधो को देगा न्योता

उन्होंने कहा था कि “अंकारा ने मोस्को से एस-400 प्रणाली को खरीदा क्योंकि अमेरिका के पूर्व शासन ने अंकारा को पेट्रियट मिस्सले बेचने से इंकार कर दिया था।

एर्दोगन ने कहा कि “अब, मुझे नहीं लगता कि ट्रम्प के सहयोगियों का भी यही विचार होगा और उन्होंने यह समस्त वैश्विक मीडिया के सामने कहा था। एस-400 को खरीदने का मतलब हम जंग के लिए तैयार नहीं है। हम राष्ट्रीय सुरक्षा और शान्ति की गारंटी देने की कोशिश कर रहे हैं।”

कास्टा प्रतिबंधों की धमकी के बाबत अमेरिका के अधिकारी ने कहा कि “तुर्की को एफ-35 स्टील्थ जेट फाइटर प्रोग्राम से बाहर फेंका जा सकता है। इसका मतलब वह इसकी उत्पादन प्रक्रिया या इन लडाकू विमानों को खरीदने का हिस्सा नहीं बन सकेगा।”

अमेरिका को भय है कि अंकारा एस-400 को अपनी रक्षा में शामिल कर लेगा तो अमेरिका द्वारा निर्मित एफ-35 का डाटा रूस के समक्ष लीक हो जायेगा। इस भय के कारण वांशिगटन इस लडाकू विमान से तुर्की को बाहर रखना चाहता है।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

गन्ने को प्रदेश के औद्योगिक विकास की बुनियाद बनाएंगे : योगी

लखनऊ, 13 नवम्बर(आईएएनएस)। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को यहां कहा कि भविष्य में गन्ना प्रदेश...

शी चिनफिंग ने एक्रोपोलिस संग्रहालय का दौरा किया

बीजिंग, 13 नवंबर (आईएएनएस)। चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग और उनकी पत्नी फंग लीयुआन ने 12 नवंबर को ग्रीस के राष्ट्रपति प्रोकोपिस पावलोपोलोस दंपति के...

हांगकांग चीन का घरेलू मामला : चीन

बीजिंग, 13 नवंबर (आईएएनएस)। हांगकांग चीन का हांगकांग है। हांगकांग का मामला चीन का घरेलू मामला है। कोई भी विदेशी सरकार, संगठन और निजी...

मोदी हर काम में पादर्शिता चाहते हैं : साध्वी निरंजन ज्योति

नई दिल्ली, 13 नवंबर (आईएएनएस)। ग्रामीण विकास राज्यमंत्री साध्वी निरंजन ज्योति ने बुधवार को कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चाहते हैं कि हर काम...

बीबी की आदतों से आजिज इंजीनियर पति ने जान दे दी

फरीदाबाद, 13 नवंबर (आईएएनएस)। बीबी से आए-दिन होने वाली चिक-चिक से परेशान इंजीनियर ने जहर खा लिया। उसे गंभीर हाल में अस्पताल में दाखिल...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -