Thu. Jun 20th, 2024
    किम जोंग उन और डोनाल्ड ट्रम्प

    अमेरिका के व्हाइट हाउस ने कहा कि “अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प परमाणु निरस्त्रीकरण के लिए उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन से दोबारा मुलाकात के लिए तैयार है। डोनाल्ड ट्रम्प ने हनोई में आयोजित बैठक से वॉक आउट कर लिया था जिससे अन्य देशों में सन्देश पंहुचा था कि वह समझौते के लिए उत्सुक नहीं है, जब तक वह अमेरिकी हितैषी न हो।

    हम जल्द किम के साथ मुलाकात करेंगे

    अमेरिकी राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जॉन बोल्टन ने एबीसी न्यूज़ से कहा कि “किम के साथ मुलाकात में ट्रम्प का वॉक आउट मैत्रीपूर्ण था। यह क़तई साबित नहीं करता कि वार्ता अधूरी रह गयी है। मेरे ख्याल से तो कुछ टूटा नहीं है। राष्ट्रपति ने बिल्कुल सही चीज़ की है।”

    जॉन बोल्टन ने कहा कि “डोनाल्ड ट्रम्प और किम जोंग उन के बीच परमाणु निरस्त्रीकरण के बाद उत्तर कोरिया की स्थिति के बाबत भी चर्चा हुई थी। किम जोंग उन ने पक्षपातपूर्ण डील प्रस्तावित की थी। हालाँकि राष्ट्रपति स्पष्ट थे कि पूर्ववर्ती प्रशासन की तरह वह कोई भी भूल नहीं करेंगे।”

    जॉन बोल्टन के मुताबिक हनोई में जो राष्ट्रपति ने किया वह सिर्फ उत्तर कोरिया के साथ वार्ता के लिए ही महत्वपूर्ण नहीं था बल्कि चीन के साथ व्यापार और रूस व अन्य देशों के साथ हथियार नियंत्रण के लिए भी आवश्यक था।

    अमेरिकी हित से सर्वोपरि कुछ नहीं

    मीडिया की अफवाहों के अनुसार डोनाल्ड ट्रम्प उत्तर कोरिया के साथ परमाणु निरस्त्रीकरण की डील के लिए ही उत्सुक नहीं थे। जॉन बोल्टन ने कहा कि “वह हमारे हित में नहीं थी। वह अमेरिकी जनता की भलाई के लिए हनोई सम्मेलन की असफलता का भार उठाने के लिए तत्पर थे। हम उन शर्तों को नहीं मान सकते जो हमारे राष्ट्रीय हितों को चुनौती देती हो।”

    उन्होंने कहा कि “चीन के साथ व्यापार वार्ता हाल ही में वांशिगटन में आयोजित हुई थी। इस प्रगति भी हो रही है, लेकिन बेहद कार्य करना अभी बाकी है। अभी अगली मुलाकात के लिए कोई समय निश्चित नहीं किया गया है लेकिन यह पिछली दफा आयोजित मुलाकात से जल्द होगी। हम अधिक वार्ता करेंगे ताकि अधिक कार्य को अंजाम दिया जा सके।”

    रायटर्स के मुताबिक डोनाल्ड ट्रम्प ने शनिवार को कहा कि “उत्तर कोरिया का परमाणु हथियारों के साथ भविष्य अन्धकार में हैं।” पेंटागन ने पुष्टि की कि अमेरिका और दक्षिण कोरिया ने सैन्य अभ्यास को बंद करने की रजामंदी जाहिर की है।

    डोनाल्ड ट्रम्प ने बिना किसी संयुक्त बयान के शिखर सम्मलेन के बाद कहा कि “यह प्रतिबंधों के लिए हुआ, वो चाहते थे सभी प्रतिबंधों को पूर्ण रूप से हटाया जाए लेकिन हम ऐसा नहीं कर सकते थे।” तीसरे शिखर सम्मलेन के आयोजन पर सहमति के बाबत अमेरिकी राष्ट्रपति से पूछने पर उन्होंने बताया कि “नहीं, अभी कोई बातचीत नहीं हुई है। लेकिन हम इस पर विचार करेंगे।”

    By कविता

    कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *