Thu. Jun 20th, 2024

    भाजपा और कांग्रेस बुधवार को आरोपों  के चलते टकराव में रहे कि विपक्षी दल ने कोविड -19 महामारी की दूसरी लहर पर मोदी सरकार को बदनाम करने के लिए एक “टूलकिट” अभियान चलाया था। यहां तक ​​​​कि भाजपा ने कांग्रेस की कानूनी कार्रवाई की धमकी को नजरअंदाज करते हुए, “टूलकिट” को कांग्रेस के अंदरूनी सूत्र से जोड़ने वाले अभियान में आरोपों को दोगुना कर दिया है।  इसी पर कांग्रेस के नेता राहुल गांधी ने भाजपा पर अपनी विफलताओं से ध्यान हटाने के लिए झूठ फैलाने का आरोप लगाया है।

    “टीकों की आपूर्ति कम हो रही है और कोविड से मौतें बढ़ रही हैं। केंद्र सरकार की नीति: ध्यान भटकाना, झूठ फैलाना और तथ्यों को छिपाने के लिए शोर मचाना” राहुल गांधी ने ट्वीट करते हुए  कहा

    बीजेपी के संबित पात्रा ने टूलकिट को कांग्रेस से जोड़ने का सबूत पेश करते हुए कहा “कांग्रेस की सौम्या वर्मा, जो राजीव गौड़ा के नेतृत्व में पार्टी की शोध टीम के लिए काम करती हैं वह दावा करती हैं कि राहुल गांधी की टीम की सदस्य संजुक्ता बसु ने टूलकिट के पार्टी लेखकत्व को प्रमाणित किया था। कांग्रेस के राजीव गौड़ा का आरोप है कि संबित पात्रा सेंट्रल विस्टा परियोजना पर एक वास्तविक दस्तावेज के मेटाडेटा/लेखक को गलत रूप से दिखा रहे हैं और एक नकली दस्तावेज के लिए  जिम्मेदार ठहरा रहे है।

    कांग्रेस के राहुल गौड़ा ने भाजपा पर जालसाजी का आरोप लगाया है। राहुल गौड़ा ने कहा की कांग्रेस ने सेंट्रल विस्टा पर एक वास्तविक और तथ्य आधारित शोध नोट बनाया था। उन्होंने कल ट्वीट किया था कि ‘कोविड-19 टूलकिट’ जाली है और भाजपा ने इसे कांग्रेस को बदनाम करने के लिए बनाया है। हालांकि भाजपा के संबित पात्रा ने यह दावा करते हुए जोर दिया कि राहुल गांधी की सोशल मीडिया टीम के सदस्यों में से एक, संजुक्ता बसु ने टूलकिट के कांग्रेस के लेखक होने की पुष्टि की थी।

    कांग्रेस ने इनकार किया कि टूलकिट उनका है। उन्होंने सौम्या वर्मा के डिजिटल पदचिह्न को अस्वीकार कर दिया, जिनका नाम टूलकिट के लेखक के रूप में था, लेकिन राहुल गांधी की सोशल मीडिया टीम का हिस्सा संजुक्ता बसु खुले तौर पर स्वीकार करती हैं कि टूलकिट उनका है।

    भाजपा आईटी सेल के अमित मालवीय ने ट्वीट किया, “एक अन्य विकास में, सौम्या वर्मा, जिनका नाम कांग्रेस टूलकिट के लेखक के रूप में सामने आया उन्होंने अपने ट्विटर और लिंक्डइन खातों को सोशल मीडिया से हटा दिया है। जैसे-जैसे कांग्रेस अपनी भारत विरोधी गतिविधियों के डिजिटल पदचिह्नों को मिटाने की कोशिश कर रही है, यह और भी स्पष्ट होता जा रहा है कि कांग्रेस इस बार पकड़ी गई है।

    By दीक्षा शर्मा

    गुरु गोविंद सिंह इंद्रप्रस्थ विश्वविद्यालय, दिल्ली से LLB छात्र

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *