जिओ और बीएसएनएल ने जनवरी माह में जोड़े लाखों ग्राहक; वोडाफोन ने खोये 30 लाख से अधिक ग्राहक

भारतीय टेलीकॉम बाज़ार में वर्तमान में प्रतिस्पर्धा अपने चरम पर है। सभी प्रदाता नए नए ऑफर लाकर अपने ग्राहकों को आकर्षित करने में लगे हैं और ज्यादा ग्राहक जोड़ने की कोशिश कर रहे हैं। इसके साथ साथ ये अपने पुराने प्लानों के लाभ बधा कर उन्हें और आकर्षित बना रहे हैं। हालंकि अभी टेलिकॉम इंडस्ट्री में जिओ छाया हुआ है और सबीह प्रदाताओं से आकर्षक ऑफर प्रदान कर रहा है।

इसके परिणामस्वरूप हर महीने यह लाखों नए यूजर्स जोड़ने में सफल हो रहा है। जिओ के कारण दुसरे सभी टेलिकॉम प्रदाता अभी तक बड़ी संख्या में अपने ग्राहक खो रहे थे। हालांकि एयरटेल ने सही योजना बनाकर अपने घाटे को संभाला है और जनवरी माह में इसे अपने ग्राहक बढाने में सफलता मिली है। TRAI ने रिपोर्ट पेश की है जिसमे इसने ग्राहकों के आंकड़े पेश किये हैं।

TRAI की रिपोर्ट :

विभिन्न प्रदाताओं द्वारा जोड़े या खोये ग्राहकों की संख्या पर TRAI हर महीने रिपोर्ट प्रकाशित करता है। हाल ही की TRAI की रिपोर्ट के अनुसार जनवरी 2019 माह में रिलायंस जिओ ने अपने ग्राहकों की संख्या में सबसे ज्यादा इजाफा किया। टेलिकॉम ऑपरेटर को 9.3 मिलियन सब्सक्राइबर मिले, जिससे चार्ट में भारी अंतर आया। बीएसएनएल इसी अवधि में 9,86,681 अधिक ग्राहकों के साथ दूसरे स्थान पर रहा। भारती एयरटेल ने 1,03,389 नए ग्राहकों के साथ तीसरा स्थान हासिल किया। सूची में मौजूद सभी नामों में जिओ ने सबसे ज्यादा ग्राहक जोड़े।

वोडाफोन अभी भी खो रहा ग्राहक :

हम देख सकते हैं  की एयरटेल ने अपनी विभिन्न योजनाओं में बदलाव करके किसी तरह कम हो रहे ग्राहकों की संख्या में सुधार कर लिया है लेकिन वोडाफोन के लिए अभी भी सही समय नहीं आया है। रिपोर्ट एक अनुसार जनवरी माह में वोडाफोन ने कुल 35 लाख ग्राहक खोये जोकि सबसे बड़ा घाटा था।

हालांकि यदि हम बाज़ार के हिस्से की बात करें तो परिणाम बिलकुल अलग हैं क्योंकी अभी भी वोडाफोन के ग्राहकों की संख्या कुल टेलिकॉम उपभोक्ताओं की संख्या का 35.12 प्रतिशत है। एयरटेल 28.8 प्रतिशत बाजार हिस्सेदारी के साथ दूसरे स्थान पर आता है जबकि रिलायंस जियो 24.4 प्रतिशत हिस्सेदारी के साथ तीसरे स्थान पर आता है। बीएसएनएल 9.76 प्रतिशत की हिस्सेदारी के साथ पीछे है जबकि टाटा टेलीसर्विसेज केवल 1.54 प्रतिशत की हिस्सेदारी रखता है।

वोडाफोन ने बनाई यह योजना :

तेजी से ग्राहक खो रहे वोडाफोन ने इस समस्या का समाधान करने के लिए योजना बनाई है जिसके अंतर्गत इसने 25000 करोड़ की पूँजी जुताई है जिसका निवेश करके यह अपने घाटे की भरपाई करेगा और दुसरे ऑपरेटरों से प्रतिस्पर्धा करने की सोच रहा है।

अपनी अप्रैल तक जुटाई जाने वाली पूँजी के द्वारा वोडाफोन अगली पांच तिमाहियों में कुल 20000 करोड़ व्यय करने की योजना बना रहा है। वोडाफोन आइडिया को उम्मीद है कि अगली दो तिमाहियों में भी इसके न ग्राहकों की संख्या कम होने के पूरे आसार हैं क्योंकि इसने न्यूनतम रिचार्ज योजना जारी की है।

लेकिन अगली तिमाहियों में वोडाफोन विभिन्न योजनाओं में जमकर खर्च करने वाला है। इसको आशा है की इससे जिओ को टक्कर मिलेगी और उसका एकाधिकार सफल नहीं होगा।

विकास सिंह: विकास नें वाणिज्य में स्नातक किया है और उन्हें भाषा और खेल-कूद में काफी शौक है. दा इंडियन वायर के लिए विकास हिंदी व्याकरण एवं अन्य भाषाओं के बारे में लिख रहे हैं.