रविवार, अप्रैल 5, 2020

चीन से तनातनी बढ़ने के बाद ताइवान ने खरीदे दो युद्धपोत

Must Read

दिल्ली में 68 वर्षीय महिला की कोरोनोवायरस से मृत्यु, भारत में अबतक दूसरी मृत्यु

देश में वैश्विक महामारी से जुड़ी दूसरी मौत में शुक्रवार को दिल्ली में 68 वर्षीय एक महिला की मौत...

‘बागी 3’ बॉक्स ऑफिस कलेक्शन: टाइगर श्रॉफ, श्रद्धा कपूर नें होली पर जमकर की कमाई

टाइगर श्रॉफ की बागी 3 (Baaghi 3) ने अपने शुरुआती सप्ताहांत में बॉक्स ऑफिस पर 53.83 करोड़ रुपये कमाए।...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

चीन और ताईवा के मध्य साल 1949 से तनातनी का दौर चल रहा है। चीन ताइवान पर अपने अधिकार का दावा करता है, जबकि ताइवान खुद को स्वतंत्र देश कहता है।

सूत्रों के मुताबिक जापान के ताइवान को मुक्त करने के बाद चीन ने ताइवान पर अपना आधिपत्य स्थापित किया था। चीन केवल ताइवान ही नहीं बल्कि सभी मंगोल देशों और अरुणाचल प्रदेश को भी अपना हिस्सा मानता है।

अमेरिका से ख़रीदे दो जंगी जहाजों का उद्धघाटन करते हुए ताइवान की राष्ट्रपति त्सी इंग वेन ने कहा कि ताइवान किसी का प्रहार स्वीकार नहीं करेगा, अपना बचाव करेगा। ताइवान ने चीन की बढ़ती सैन्य गतिविधियों के प्रतिकार के लिए अमेरिका से दो जंगी जहाज खरीदे हैं।

ताइवान को चीन अपने देश का हिस्सा मानता है और एकीकरण के लिए इंतजार कर रहा है, फिर चाहे जबरन ही क्यों न हो। साल 1949 में हुए गृह युद्ध के बाद ताइवान अपने भूभाग में स्वतंत्र राज कर रहा है। हाल ही में अमेरिका और ताइवान के मध्य हुए समझौते से चीन की चिंताए बढ़ी हुई हैं। अमेरिकी विभाग ने ताइवान को समुन्द्री तकनीक बेचने के लाइसेंस की अनुमति दे दी है।

ताइवान की राष्ट्रपति ने कहा कि ताईवानी जनता की ओर से अंतर्राष्ट्रीय समुदाय को साफ़ सन्देश देना चाहती हूँ कि ताइवान अपने मुक्त और लोकतंत्र जीवन की रक्षा करता रहेगा। उन्होंने कहा कि चीनी सेना की गतिविधियाँ केवल हमें कमजोर करने की नहीं बल्कि इस क्षेत्र की शान्ति और स्थिरता को नुकसान पहुंचाने की है।

अमेरिकी इंस्टिट्यूट ऑफ़ ताइवान ने कहा कि इस जंगी जहाजों से ताइवान की क्षमता में वृद्धि होगी जो क्षेत्रीय स्थिरता को बनाये रखेगी। दो साल पूर्व ताइवान के राष्ट्रपति के सात पर आसीन होने के बाद ही चीन लगातार ताइवान पर सैन्य और कूटनीतिक दबाव बनता रहा है ताकि वह चीन के आधिपत्य को स्वीकार कर ले।

सितम्बर में अमेरिका ने ताइवान को 330 मिलियन डॉलर के जंगी विमान के उपकरण बेचने के ऐलान से चीन को सकते में डाल दिया था। अमेरिका ताइवान  का सबसे ताकतवर अनाधिकारिक साझेदार रहा है और साथ ही चीन को हथियार निर्यात कर, उसका कूटनीतिक साझेदार भी है।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

दिल्ली में 68 वर्षीय महिला की कोरोनोवायरस से मृत्यु, भारत में अबतक दूसरी मृत्यु

देश में वैश्विक महामारी से जुड़ी दूसरी मौत में शुक्रवार को दिल्ली में 68 वर्षीय एक महिला की मौत...

एक विलेन 2: दिशा पटानी के बाद, तारा सुतारिया फिल्म से जुड़ी, जॉन अब्राहम और आदित्य रॉय कपूर भी होंगे फिल्म का हिस्सा

यह पहले बताया गया था कि जॉन अब्राहम 2014 की फिल्म, एक विलेन की अगली कड़ी बनाने के लिए बातचीत कर रहे थे। जनवरी...

‘बागी 3’ बॉक्स ऑफिस कलेक्शन: टाइगर श्रॉफ, श्रद्धा कपूर नें होली पर जमकर की कमाई

टाइगर श्रॉफ की बागी 3 (Baaghi 3) ने अपने शुरुआती सप्ताहांत में बॉक्स ऑफिस पर 53.83 करोड़ रुपये कमाए। 2 दिन में 16.03 करोड़...

महाराष्ट्र सरकार को कोई खतरा नहीं – कांग्रेस

एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने बुधवार शाम को अपने सभी विधायकों की बैठक बुलाई है। राकांपा नेताओं ने कहा कि 26 मार्च को होने...

पीएम मोदी, राहुल गांधी ने पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह को उनके जन्मदिन पर शुभकामनाएं दीं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह को उनके 78 वें जन्मदिन पर शुभकामनाएं दीं। पीएम मोदी ने ट्विटर पर लिखा,...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -