चक्कर आना और घबराहट होना : कारण और घरेलु उपचार

चक्कर आने के कारण और उपचार

चक्कर आना (घबराहट होना) की समस्या अक्सर सरदर्द के कारण उत्पन्न हो जाती है। इससे आपको घबराहट महसूस होने लगता है, आपका संतुलन बिगड़ने लगता है और आपके आस पास की वस्तुएं घूमती हुई नज़र आती हैं।

सिर चकराना एक बहुत ही आम समस्या है। ये विभिन्न प्रकार से लोगों को परेशान करता है। अत्यधिक चक्कर आने को वर्टिगो का नाम दिया जाता है। इससे शरीर में असंतुलन पैदा हो जाता है।

यदि आपको बहुत ज्यादा चक्कर आते हैं तो आपको तुरंत अपने चिकित्सक से परामर्श ले लेना चाहिए। इसके अतिरिक्त यदि कोई चक्कर आने के कारण बेहोश हो जाता है तो यह समस्या और भी अधिक गंभीर मानी जाती है।

चक्कर आने के कारण

  • कान में संक्रमण या फिर लाब्य्रिन्थितिस अथवा मेनिएर आदि की समस्या
  • माइग्रेन
  • तनाव
  • अत्यधिक चिंता
  • रक्त शर्करा का गिरा हुआ स्तर जो मधुमेह से ग्रस्त लोगों के लिए हानिकारक होता है
  • शरीर में पानी की कमी या डिहाइड्रेशन
  • गर्मी के कारण कमजोरी
  • मस्तिष्क तक पहुँचने वाले खून में कमी
  • मस्तिष्क की समस्याएं
  • अनेमिया या खून की कमी
  • अत्यधिक शराब पीना
  • अत्यधिक ड्रग लेना
  • कुछ दवाइयों के दुष्प्रभाव
  • अनियंत्रित दिल की धड़कन
  • कार्बन मोनोऑक्साइड के कारण ज़हर का फैलना
  • आँखों में धुंद
  • पानी या हवा की सवारियों में सफ़र करने के कारण

चक्कर आने का इलाज

चक्कर का इलाज है अदरक

अदरक चक्कर और जी मिचलाने के समस्या से निजात पाने के लिए अत्यधिक कारगार उपाय माना जाता है। ये मस्तिष्क और शरीर के अन्य भागों में रक्तचाप को संयमित रखता है जिससे चक्कर आने की तीव्रता में कमी आ जाती है। इसके लिए:

  • ताज़े अदरक के कुछ टुकड़े चबाकर खा लें या फिर अदरक की कैंडी का सेवन कर लें
  • अदरक की चाय या अदरक का यवसुरा पीने से भी चक्कर की समस्या का समाधान होता है
  • एक अन्य उपाय चिकित्सक के परामर्श के बाद अदरक के सप्लीमेंट का सेवन करना भी होता है

चक्कर ठीक करने का उपाय है आंवला

शरीर के लिए आंवला के फायदे ढेरों हैं। आंवले का सेवन करने से चक्कर की समस्या से निजात पाने का आयुर्वेदिक तरीका होता है

इसमें विटामिन ए और विटामिन सी पाया जाता है जो रक्तचाप को संतुलित रखता है और प्रतिरक्षा बढाता है। इसके लिए:

  • 2 आंवले पीसकर उनका पेस्ट बना लें
  • 2 चम्मच धनिये के बीज और 1 कप पानी इसमें मिला लें
  • इसे रात भर रखा रहने दें
  • सुबह इसे छान कर ये पानी पी लें
  • इसे कुछ दिन तक दोहराएं

आप आंवले का जूस भी घर पर बना सकते हैं। (आंवला जूस बनाने की विधि)

यह भी पढ़ें: आंवला जूस के फायदे

चक्कर का इलाज है शहद

शहद में प्राकृतिक शक्कर मौजूद होता है जो आपके उर्जा के स्तर को बढाता है और चक्कर की समस्या को दूर करता है। इसके अलावा चक्कर आने का मुख्य कारण माने जाने वाले रक्त में शक्कर के गिरते स्तर को भी ये बढ़ा देता है। इसके लिए:

  • 2 चम्मच शहद और कच्चा सेब का सिरका 1 गिलास गर्म या ठन्डे पानी में मिला लें। इसे दिन में 2 बार पीयें।
  • इसके अलावा आप 1 बड़ा चम्मच शहद और नीम्बू का रस एक गिलास गर्म पानी में मिलाकर भी पी सकते हैं जिससे आपको चक्कर से तुरंत राहत मिलेगी
  • एक अन्य तरीका यह भी हो सकता है कि आप 1 चम्मच शहद और पीसी हुई दालचीनी मिला लें और इसे कुछ हफ़्तों तक रोज़ सुबह लें

सिर में चक्कर आने का इलाज है फीवरफ्यू

फीवरफ्यू चक्कर से निजात पाने की एक उपयोगी आयुर्वेदिक औषधि है। ये सरदर्द, जी मिचलाना और उलटी जैसे लक्षणों को दूर करता है और चक्कर से राहत दिलाता है। ये रक्तचाप को भी संतुलित रखता है। इसके लिए:

  • यदि आपको चक्कर आयें तो कुछ ताज़ी फीवरफ्यू की पत्तियां चबाकर खा लें।
  • आप 1 चम्मच सूखी हुई फीवरफ्यू और पुदीने की पत्तियों को पानी में डालकर 15-20 मिनट तक उबाल सकते हैं, फिर इसे छान लें। इसे कुछ हफ़्तों तक नियमित पीयें।
  • इसके अलावा आप चिकित्सक से परामर्श लेकर फीवरफ्यू के सप्लीमेंट भी ले सकते हैं

चक्कर आने पर स्वस्थ भोजन लें

स्वस्थ भोजन का सेवन करने से चक्कर की संभावना कम हो जाती है। इससे एनीमिया, लो ब्लड प्रेशर और लो ब्लड शुगर आदि की समस्या में घटोतरी आती है जिससे चक्कर नहीं आते हैं। अपने भोजन में आयरन, विटामिन ए, फोलिक एसिड और फाइबर युक्त भोजन शामिल करने से आपको फायदा मिलता है। इसके अलावा ऐसे पदार्थ चुनें जिनमें शक्कर और वासा की मात्रा कम हो। 

  • आयरन से भरपूर टोफू, पालक, लिवर, बादाम, खजूर, मसूर और ऐस्पैरागस का सेवन करना फायदेमंद होता है। आप अपने चिकित्सक से परामर्श लेकर आयरन के सप्लीमेंट भी ले सकते हैं।
  • विटामिन सी से भरपूर भोजन जैसे संतरे, नीम्बू, शिमला मिर्च, ब्रोक्कोली, चकोतरा और पालक लें। चिकित्सक से परामर्श के बाद आप विटामिन सी के सप्लीमेंट भी ले सकते हैं।
  • फोलिक एसिड से भरपूर पदार्थ भी लें। इनमें हरी पत्तेदार सब्जियां, लीवर, अंकुरित अनाज, मूंगफली, केले और ब्रोक्कोली शामिल हैं।
  • आयरन को ब्लॉक करने वाले पेय जैसे कॉफ़ी, बियर और वाइन न लें
  • थोड़े समय के अंतराल पर कुछ न कुछ खाते रहे और कोई भी आहार छोडें नहीं विशेषकर नाश्ता

चक्कर आने पर पानी पीयें

डिहाइड्रेशन अथवा पानी की कमी होना भी चक्कर की समस्या के लिए ज़िम्मेदार होता है। डिहाइड्रेशन की समस्या बहुत देर तक पानी न पीने के कारण हो जाती है। इसके अलावा उलटी और डायरिया जैसी समस्याओं के बाद भी डिहाइड्रेशन हो जाता है।

  • जब आपको चक्कर आयें तो एक गिलास पानी पी लें। डिहाइड्रेशन को दूर रखने के लिए दिनभर में भरपूर पानी पीयें।
  • जब हर्बल चाय भी पी सकते हैं। इसके लिए थोडा सा शहद, शोरबा और जूस में मिला सकते हैं।

चक्कर आने पर गहरी सांस लें

गहरी सांस लेना चक्कर की समस्या से निजात पाने का अत्यधिक उपयोगी उपाय होता है। ये आपके मस्तिष्क को ज़रूरी ऑक्सीजन प्रदान करता है जो नर्वस सिस्टम को आराम देता है और चक्कर की समस्या को दूर करता है।

  • आरामदायक अवस्था में बैठ जायें
  • एक हाथ पेट पर रखें और दूसरे हाथ का अंगूठा नाक पर रखें और मुँह बंद कर लें
  • अपनी नाक के खुले हुए हिस्से गहरी से सांस लें
  • 2-3 सेकंड के बाद धीरे धीरे सांस बाहर निकालें
  • इसे 10 बार करें
  • फिर 5 मिनट शांति से बैठ जायें और सामान्य तरीके से सांस लें

चक्कर ठीक करने के अन्य उपाय

  • चक्कर आने पर तुरंत लेट जाएँ
  • चक्कर आने पर लेटकर स्थिर चीजों पर ध्यान लगायें। इससे आपका दिमाग व्यस्त रहेगा।
  • अपने रोज़ के कार्यों में व्यायाम को शामिल करें। इससे आपके शरीर में रक्त संतुलन बना रहेगा।
  • हफ्ते में एक बार पूरे शरीर की मालिश करें
  • जब किसी बीमारी से ग्रस्त हों तो भरपूर आराम करें ताकि शरीर में कमजोरी न आये और आप तेज़ी से ठीक हो जायें
  • योग और मैडिटेशन करें
  • यदि आपको अक्सर चक्कर आते हैं तो अचानक न ही उठें और न खड़े हों
  • ऐसी स्थिति होने पर कार न चलायें
  • इस स्थिति में कॉफ़ी, शराब या तम्बाकू न खाएं

ये भी पढ़ें:

  1. गर्दन की नस दबने का इलाज

8 टिप्पणी

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here