Tue. May 28th, 2024
    rotation and revolution of earth in hindi

    विषय-सूचि


    सौर प्रणाली या सोलर सिस्टम केवल सूर्य के चारों ओर स्थिर ग्रहों, चन्द्रमाओं और अन्य निकायों का संग्रह ही नहीं है। प्रत्येक ग्रह अपनी धुरी पर घूमता है, या स्पिन करता है।

    पृथ्वी का घूर्णन (rotation of earth in hindi)

    पृथ्वी का घूर्णन rotation of earth in hindi
    पृथ्वी का घूर्णन

    पृथ्वी का घूर्णन(रोटेशन) उस समय की मात्रा है जो यह धुरी पर एक बार घूमने के लिए लेता है। लाज़मी है कि यह दिन में एक बार पूरा होता है – यानी हर 24 घंटे में।

    पृथ्वी के अक्ष पर उसका घूर्णन(रोटेशन) दिन और रात का कारण बनता है। जैसे-जैसे पृथ्वी घूमती है, एक समय में धरती का केवल आधा हिस्सा ही सूर्य किसी का सामना करता है।

    सूरज का सामना करने वाला आधा प्रकाश (दिन) है और सूरज से दूर आधा भाग अंधेरा (रात) है।

    जब हमारे द्वारा उत्तरी ध्रुव के ऊपर देखा जाता है, तो पृथ्वी पश्चिम से पूर्व तक, काउंटरक्लॉकवाइज घुमती है। इसे प्रोग्रेड रोटेशन भी कहा जाता है।

    इसी के कारण, सूर्य को हर दिन हम पूर्व से उगता हुआ और पश्चिम में छिपता देखते हैं। यदि कोई ग्रह क्लॉकवाइज दिशा में घूमता है या स्पिन करता है, तो इसे रेट्रोग्रेड रोटेशन कहा जाता है। वीनस ऐसे ही एक ग्रह का उदाहरण है जो रेट्रोग्रेड रोटेशन में स्पिन करता है।

    जैसा कि हम जानते हैं कि पृथ्वी हर 23 घंटे और 56 मिनट में एक बार अपनी धुरी पर घूमती है। साल के कुछ समय के दौरान हमारे पास अन्य समय की तुलना में डेलाइट के अधिक घंटे होते हैं। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि पृथ्वी की धुरी सूर्य के साथ दाएं कोण या राइट एंगल पर नहीं होती है।

    यह 23.5 डिग्री के कोण पर थोड़ा झुका हुआ होता है। सूर्य को आकाश में उसी स्थान पर लौटने के लिए जितना समय लगता है उसे सौर दिन कहा जाता है, जो 24 घंटे होता है।

    हालांकि, यह वर्ष के माध्यम से भिन्न होता है, और संचित प्रभाव औसत से 16 मिनट तक का मौसमी विचलन पैदा करता है। यह दो कारकों के कारण होता है, पहला तो सूर्य के चारों ओर पृथ्वी की अंडाकार कक्षा और दूसरा अक्षीय झुकाव है।

    कक्षा और अक्षीय झुकाव (axial tilt of earth in hindi)

    जोहान्स केप्लर ने अपने एस्ट्रोनॉमिया नोवा (1609) में कहा था कि पृथ्वी और सोलर प्लैनेट्स सूर्य के सही सर्कल में नही घूमते है। इसे केप्लर फर्स्ट लॉ के नाम से जाना जाता है।

    पेरीहेलियन (यानी इसके सबसे नज़दीक) में यह सूर्य से 147,095,000 किलोमीटर (91,401,000 मील) है; जबकि एपेलियन में, यह 152,100,000 किमी (94,500,000 मील) है।

    दूरी में इस परिवर्तन का अर्थ है कि सूर्य के सबसे नज़दीक होने पर पृथ्वी की कक्षीय गति बढ़ जाती है। जबकि इसकी गति लगभग 29.8 km/s (18.5 एमपीएस) या 107,000 किमी/घंटा (66487 मील प्रति घंटे) तक है, यह वास्तव में पूरे वर्ष के दौरान प्रति सेकंड एक पूर्ण Km तक है – 30.29 km/s और 29.29 km/s (109,044 – 105,444 km/h ; 67,756.8 – 65,519.864 मील प्रति घंटा) के बीच।

    पृथ्वी का परिक्रमण (revolution of earth in hindi)

    पृथ्वी का परिक्रमण (revolution of earth in hindi)
    पृथ्वी का परिक्रमण

    अपनी धुरी पर घूर्णन के अलावा, पृथ्वी भी सूर्य के चारों ओर एक पथ में यात्रा करती है जिसे हम ऑर्बिट कहते हैं।

    अपनी ऑर्बिट के साथ सूर्य के चारों ओर की गति को परिक्रमण कहा जाता है। सूर्य के चारों ओर एक यात्रा के लिए जितना समय लगता है उसे परिक्रमण की अवधि कहा जाता है।

    सूर्य के चारों ओर घूमने के लिए पृथ्वी की अवधि 365.24 दिन या एक वर्ष है। इन 0.24 दिनों के कारण ही हर चार साल में फरवरी में 29 दिन होते हैं।

    पृथ्वी की कक्षा या ऑर्बिट एक सर्कल नहीं है यह आकार में थोड़ा अंडाकार है।

    यह एक आम गलतफहमी है कि मौसम के बदलने के पीछे सूर्य से पृथ्वी की दूरी होती है। चूंकि सूर्य के चारों ओर पृथ्वी की ऑर्बिट थोड़ा अंडाकार है, इसलिए पृथ्वी सर्दियो में गर्मियों के मुकाबले सूर्य के थोड़ा ज्यादा करीब होती है।

    एक काल्पनिक रेखा जिसे हम भूमध्य रेखा के नाम से जानते हैं, धरती के केंद्र के चारों ओर हॉरिजॉन्टल रूप से पृथ्वी को दो गोलार्धों में विभाजित करती है। भूमध्य रेखा के ऊपर का क्षेत्र उत्तरी गोलार्ध के रूप में जाना जाता है जबकि भूमध्य रेखा के नीचे का क्षेत्र दक्षिणी गोलार्ध कहा जाता है।

    अन्य ग्रहों का घूर्णन और परिक्रमण (rotation and revolution of planets in hindi)

    1. बुध (mercury)
      यह सूर्य के सबसे निकट है। इसकी निकटता और इसका छोटा आकार इसे अध्ययन करना मुश्किल बनाता है। सूर्य के चारों ओर इसकी परिक्रमण अवधि 88 दिनों के रूप में जानी जाती है और घूर्णन अवधि 58.8 दिन होती है।
    2. वीनस (venus)
      सूर्य और चंद्रमा के बाद यह आकाश में सबसे उज्ज्वल वस्तु है। इसकी ऑर्बिट किसी भी अन्य ग्रह की तुलना में इसे पृथ्वी के करीब लाती है। इसकी परिक्रमण अवधि 224.7 दिन है और घूर्णन अवधि 243.7 दिन है।
    3. मंगल (mars)
      धरती से देखे जाने पर मंगल ग्रह को लोकप्रिय रूप से लाल ग्रह कहा जाता है। मंगल ग्रह की ऑर्बिट काफी अंडाकार (एससेंट्रिसिटी- 0.0934) है। परिक्रमण अवधि 686.9 8 दिन है और घूर्णन अवधि 24.623 घंटे है।
    4. बृहस्पति (jupiter)
      यह सौर मंडल का सबसे बड़ा ग्रह है। ऐसा माना जाता है कि यह एक छोटा, गर्म चट्टानी कोर है। यह हाइड्रोजन की केंद्रित परतों से घिरा हुआ है। इसकी कक्षीय और घूर्णन अवधि क्रमश: 11.86 वर्ष और 9.55 घंटे हैं।
    5. शनि (saturn)
      शनि सौर मंडल का दूसरा सबसे बड़ा ग्रह माना जाता है। शनि की परिक्रमण अवधि 29.46 वर्ष है और घूर्णन की अवधि 10.32 घंटे है।
    6. यूरेनस (urnaus)
      यूरेनस पृथ्वी से इतनी दूर है कि पृथ्वी से जुड़े दूरबीन अवलोकन से कोई भी सतह की विशेषताएं नहीं दिखती हैं। यूरेनस की रेवोल्यूशन और रोटेशन अवधि क्रमशः 84.02 वर्ष और 17.24 घंटे हैं।
    7. नेप्च्यून (nuts)
      नेप्च्यून सौर मंडल का अंतिम ग्रह या सबसे दूर का ग्रह कहा जाता है। नेप्च्यून की रेवोल्यूशन अवधि 164.79 वर्ष के रूप में दी जाती है और वहीं इसकी रोटेशन की अवधि 16.11 घंटे होती है।

    इस विषय के बारे में यदि आपका कोई भी सवाल या सुझाव है, तो आप उसे नीचे कमेंट में लिख सकते हैं।

    11 thoughts on “घूर्णन और परिक्रमण क्या हैं? परिभाषा, जानकारी”
    1. हमारे सोर मंडल में ऐसा कोनसा गृह है जो सबसे ज्यादा दिनों में अपना घूर्णन एवं परिक्रमण पूरा करता है ? क्या कोई ऐसा गृह है जो घूर्णन नहीं करता है?

    2. परिभ्रमण,परिक्रमण क्या ,Kyu,कैसे इसका परिणाम

      1. Paribhraman ka matlab vah apni aksans per Ek jagah ghumti hai aur prikar Man ka matlab vah apni Street Darshan Disha Mein Hua Surya ke Charo Aur Chakkar Lagati Hai use per Aakraman Kahate

      2. rotation means paribraman , when planet rotates about its own axis it is called rotation.Rotation is done because of centripital force acts b/w planet & sun.this force has property to rotate any round body.This rotation results day & night. E.g- Earth’s rotates in its own axis at the speed of 1670km/hr in 24hrs which causes day and night…
        Revolution (parikraman) – when any planet revolves in its own orbit is called revolution.The cause of revolution is the gravitational force acts b/w sun and planet.This revolution results causes change of year.
        E.g- Earth’s revolution in its own orbit at the speed of 30km/sec in 365.24days or 1year….

    3. पृथ्वी घुमती है तो किसने कहा कि घुमती है??? हमे तो बचपन से पढ़ाया है कि पृथ्वी घुमती है इसलिए हमने मान लिया लेकिन ऐसा कोई प्रूफ है जो हमें साबित कर ने में मदद मिले और प्रूफ भी नासा वालो का नहीं पौराणिक युग होना चाहिए।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *