दा इंडियन वायर » विज्ञान » ग्रीन हाउस गैसें क्या है? सूचि, प्रभाव, स्त्रोत, नाम
विज्ञान

ग्रीन हाउस गैसें क्या है? सूचि, प्रभाव, स्त्रोत, नाम

ग्रीन हाउस गैसें greenhouse gas in hindi

ग्रीनहाउस गैस क्या है? (greenhouse gas meaning/definition in hindi)

ग्रीनहाउस गैस कंपाउंड्स का एक समूह है जो वायुमंडल में गर्मी (विकिरण) को फँसाने में सक्षम होती हैं, यह पृथ्वी की सतह को गर्म रखती है इतनी गर्म जितनी की वह इसकी गैरमौजूदगी में नही होती।

ये वो गैस होती हैं जो ग्रीनहाउस प्रभाव का मूल कारण होती है। वायुमंडल में ग्रीनहाउस गैसों की मात्रा का बढ़ना ग्रीनहाउस प्रभाव को बढ़ाता है जो ग्लोबल वार्मिंग और इसके परिणामस्वरूप जलवायु परिवर्तन करता है।

ग्रीनहाउस गैसें सूर्य की किरणों (शॉर्टवेव रेडिएशन) को वायुमंडल में मुक्त रूप से पारित करने की अनुमति देती है जहां इसे आंशिक रूप से पृथ्वी की सतह द्वारा अब्सॉर्ब किया जाता है।

गर्मी को फँसाने की इन गैसों की क्षमता ग्रीनहाउस प्रभाव का कारण बनती है। वायुमंडल मे जितनी ग्रीनहाउस गैस हैं, उतनी ही गर्मी पृथ्वी पर होती है। यही कारण है कि इस प्रभाव का उत्पादन करने वाली गैसों को सामूहिक रूप से ग्रीनहाउस गैसों के रूप में ही जाना जाता है।

ग्रीनहाउस गैसों की सूचि और नाम (names of greenhouse gases in hindi)

1. कार्बन डाइऑक्साइड (CO2)

कार्बन डाइऑक्साइड जीवाश्म ईंधन (कोयला, प्राकृतिक गैस, और तेल), सॉलिड वेस्ट, पेड़ और लकड़ी के उत्पादों को जलाने, और कुछ रासायनिक प्रतिक्रियाओं (जैसे-सीमेंट का निर्माण) के परिणामस्वरूप वायुमंडल में प्रवेश करती है।

जैविक कार्बन चक्र के हिस्से के रूप में पौधों द्वारा अब्सॉर्बेड होने पर कार्बन डाइऑक्साइड को वायुमंडल (या “अनुक्रमित”) से हटा दिया जाता है।

2. मीथेन (CH4):

मीथेन कोयले, प्राकृतिक गैस और तेल के उत्पादन और परिवहन के दौरान उत्सर्जित(emitted) किया जाता है।

3. नाइट्रस ऑक्साइड (N2O):

नाइट्रस ऑक्साइड कृषि और औद्योगिक गतिविधियों के दौरान, साथ ही जीवाश्म ईंधन और ठोस अपशिष्ट के दहन के दौरान emitted होता है।

4. फ्लोरिनेटेड गैस:

हाइड्रोफ्लोरोकार्बन, पर्फ्यूरोकार्बन, सल्फर हेक्साफ्लोराइड, और नाइट्रोजन ट्राइफ्लोराइड सिंथेटिक, ये सभी बेहद शक्तिशाली ग्रीनहाउस गैसें हैं जो विभिन्न औद्योगिक प्रक्रियाओं से उत्सर्जित होती हैं।

फ्लोरिनेटेड गैसों का कभी-कभी स्ट्रेटोस्फेरिक ओजोन-अपूर्ण पदार्थों (जैसे क्लोरोफ्लोरोकार्बन, हाइड्रोक्लोरोफ्लोरोकार्बन, और हेलन) के विकल्प के रूप में उपयोग किया जाता है।

इन गैसों को आम तौर पर छोटी मात्रा में उत्सर्जित किया जाता है, लेकिन चूंकि ये शक्तिशाली ग्रीनहाउस गैसे होती हैं, इन्हें कभी-कभी उच्च ग्लोबल वार्मिंग जैसी गैसों (“उच्च जीडब्ल्यूपी गैसों”) के रूप में भी जाना जाता है।

5. जल वाष्प (water vapour)

जल वाष्प की एटमोस्फियरिक कंसन्ट्रेशन अत्यधिक परिवर्तनीय है और बड़े पैमाने पर तापमान पर निर्भर करती है।

जल वाष्प जलवायु प्रणाली का एक अत्यधिक सक्रिय घटक है जो बारिश या बर्फ में घुलनशील या वायुमंडल में लौटने के लिए वाष्पीकरण की स्थिति में परिवर्तनों में तेजी से प्रतिक्रिया देता है।

ग्रीन हाउस गैसों के प्रभाव (greenhouse gases effect in hindi)

1. ग्लोबल वॉर्मिंग (global warming)

हालांकि औद्योगिक क्रांति की शुरुआत के बाद से ही ग्रीनहाउस गैस का स्तर बढ़ रहा है, लेकिन पिछले कुछ दशकों में इसका बढ़ना विशेष रूप से तेज़ रहा है।

1970 के बाद से कुल ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन में लगभग 80% की वृद्धि हुई है, जो 283mW/m^2 की रेडिएटिव फोर्सिंग 473 ppm CO2e के वायुमंडलीय एकाग्रता के बराबर है।

ग्रीनहाउस गैसों के दैनिक स्तर को जोड़ने के साथ, ग्रीनहाउस प्रभाव अब उस बिंदु तक बढ़ा गया है जहां पृथ्वी के वायुमंडल में ही बहुत अधिक गर्मी हो गई है। कार्बन डाइऑक्साइड और अन्य ग्रीनहाउस गैसों द्वारा फंसी गर्मी ने पिछले 100 वर्षों में सतह तापमान में 0.75 डिग्री सेल्सियस (1.4 डिग्री फारेनहाइट) बढ़ा दिया है।

ग्लोबल वार्मिंग पर्यावरण को कई तरीकों से नुकसान पहुंचा रही है जैसे :- जमीन बंजर बनाना,बर्फ और बर्फ की पिघलने में वृद्धि हुई है, समुद्र तल में वृद्धि हुई है आदि।

2. महासागर अम्लीकरण (ocean acidification)

कार्बन डाइऑक्साइड ने दुनिया के महासागरों को 30% अधिक एसिडिक बना दिया है।

महासागर इस गैस के लिए एक सिंक के रूप में कार्य करता है और लगभग एक चौथाई मानव कार्बन डाइऑक्साइड उत्सर्जन को अवशोषित करता है, वे जब समुद्री जल के साथ प्रतिक्रिया करते हैं तो कार्बनिक एसिड बनाते हैं, इसलिए जब वायुमंडल में कार्बन डाइऑक्साइड का स्तर बढ़ता है, महासागरों का अम्लीकरण या एसिडिफिकेशन बढ़ता है।

3. धुआं और ओजोन प्रदूषण (ozone pollution)

पिछली शताब्दी से, ओजोन कंसंट्रेशन मुख्य रूप से मानव उत्सर्जन के कारण बढ़ी मीथेन और नाइट्रोजन ऑक्साइड़ 2 गुना अधिक हो गई है।

ग्राउंड स्तर पर, ओजोन एक वायु प्रदूषक है जो धुँए का एक प्रमुख घटक है जो मनुष्य और पौधों दोनों के लिए खतरनाक है।

लंबी अवधि के ओजोन एक्सपोजर से जीवन प्रत्याशा को कम करने के लिए भी माना गया है। दुनिया भर में कार्डियोफुलमोनरी से मौत का जिम्मेदार ओजोन को ही माना गया हैं।

हाल के अध्ययनों का अनुमान है कि सोयाबीन, मक्का (मकई) और गेहूं जैसी प्रमुख प्रमुख फसलों की वैश्विक पैदावार वर्तमान में 2-15% तक कम हो रही है।

4. ओजोन परत (ozone layer depletion)

नाइट्रस ऑक्साइड ओजोन परत को नुकसान पहुंचाता है और यही अब सबसे महत्वपूर्ण ओजोन घटाने वाला पदार्थ और ओजोन परत की कमी का सबसे बड़ा कारण बन चुका है।

इस लेख के बारे में यदि आपका कोई भी सवाल या सुझाव है, तो उसे आप नीचे कमेंट में लिख सकते हैं।

About the author

अपूर्वा सिंह

5 Comments

Click here to post a comment

  • global warming mein aisaa kyaa hotaa hai jo isne ozone me hi hole kar diyaa. Ab ozone layer mein hole hone se hame kya kya disadvantages hain???

  • ham kon kon se steps lekar global warming ko control kar skte hain? kyaa poori global warming khtm kii jaa sakti hai?

  • Green house gases formed with CO2,water vapour,methan gases,florented gas,nitrous oxide, with composition of these five gases combined together emitted HEAT in the earth, with the result,ice has melted and increase Acidity in sea and ocean,,secondly create Glowing warming,Consequently,this green house effect create so many types of decease in human , Animal,Birds,and destruct PLANT which is rich source of create life saving Oxigen,Ozone etc so if we want to save HUMAN BEING,LIVING CREATURE in the Earth We will to stop the emission of these gases with the help of environmental technology….ADV Ravi Kiran Kishore Agra

फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!