Wed. May 29th, 2024
    गुरु दत्त की 94 वीं जयंती: अभिनेता-निर्देशक की ऐसी 5 फिल्में जो किसी भी कीमत पर नहीं कर सकते मिस

    यूँ तो हिंदी सिनेमा में ऐसे कई लीजेंड है जो हमेशा अपने प्रशंसको के दिलो में रहेंगे और याद किये जायेंगे लेकिन फिर भी कुछ ऐसे भी हैं, जिनका व्यक्तित्व इतना खास होता है कि उन्हें न केवल अपने कौशल की वजह से, बल्कि अपनी व्यक्तिगत ज़िन्दगी की वजह से भी जाने जाते हैं। जी हां, हम बात कर रहे हैं गुरु दत्त की, जिनके बारे में कहा जाता है कि वह अपने समय से काफी आगे के व्यक्ति थे।

    Image result for Guru Dutt

    गुरु दत्त ने पुणे में प्रभात फिल्म कंपनी के साथ तीन साल के अनुबंध के साथ फिल्म इंडस्ट्री में अपनी यात्रा शुरू की। उन्होंने 1944 में प्रदर्शित फिल्म ‘चांद’ में एक छोटी सी भूमिका के साथ अपने अभिनय की शुरुआत की। निर्देशक के रूप में उनकी पहली फ़िल्म ‘बाज़ी’ थी, जिसमें देव आनंद ने अभिनय किया था, जो बड़ी हिट साबित हुई। वह फिल्म इंडस्ट्री के लिए अपना जीवन समर्पित करने की और बढ़ गए और एक लीजेंड बन गए।

    आज, उनकी 94 वीं जयंती पर, आइए उनकी 5 सर्वश्रेष्ठ फिल्मों पर एक नज़र डालते हैं जिन्हें आपको देखनी ही चाहिए-

    प्यासा 

    Image result for Guru Dutt Pyaasa

    कलकत्ता में स्थापित, फिल्म में गुरु दत्त, वहीदा रहमान और माला सिन्हा मुख्य भूमिकाओं में हैं। यह दत्त द्वारा अभिनीत विजय नामक एक संघर्षरत कवि की यात्रा है, जिसके काम को प्रकाशकों ने गंभीरता से नहीं लिया। वह वहीदा रहमान द्वारा अभिनीत गुलाबो नामक एक अच्छी वेश्या से मिलता है, जो उनकी कविताओं को प्रकाशित करने में मदद करती है। उस वक़्त में, गुरु ने एक बहुत ही खास सन्देश दिया था जो आज भी लागू होता है कि जीते जी आपकी कोई कद्र नहीं करता लेकिन मरने के बाद, सब हक ज़माने आ जाते हैं।

    कागज़ के फूल 

    https://youtu.be/4JqBqHXODlc

    सिनेमास्कोप में पहली भारतीय फिल्म और निर्देशक के रूप में गुरुदत्त की अंतिम फिल्म ‘कागज़ के फूल’ को सभी समय की सबसे बड़ी फिल्मों में 160 पर स्थान दिया गया था। फिल्म एक निर्देशक की कहानी बताती है जिसकी शादी टूटने की कगार पर होती है क्योंकि उसकी पत्नी का परिवार उसके करियर को स्वीकार नहीं करता है। वह एक अन्य महिला के प्यार में पड़ जाता है और उसे एक प्रसिद्ध स्टार बना देता है। यह फिल्म अपने समय से काफी आगे की मानी जाती है और इसे जरूर देखना चाहिए।

    साहिब बीबी और गुलाम

    Image result for Guru Dutt Sahib Bibi Aur Ghulam

    बंगाली उपन्यास पर आधारित, फिल्म में गुरु दत्त, मीना कुमारी, रहमान, वहीदा रहमान और नजीर हुसैन हैं। यह एक अभिजात (साहिब) की एक सुंदर अकेली पत्नी (बीबी) और एक कम-आय वाले अंशकालिक नौकर (गुलाम) के बीच आदर्शवादी दोस्ती की कहानी सुनाती है।

    चौधविन का चाँद

    Image result for Chaudhvin Ka Chand

    बॉक्स-ऑफिस पर हिट रही और 1960 की टॉप-ग्रॉसिंग फिल्मों में से एक, ‘चौधविन का चाँद’ गुरु दत्त, रहमान और वहीदा रहमान के बीच एक प्रेम त्रिकोण पर केंद्रित है। लखनऊ में सेट, यह हमें 3 सबसे अच्छे दोस्तों की कहानी बताती है। तीन में से दो को एक ही महिला से प्यार हो जाता है, जिसका नाम जमीला है।

    मिस्टर एंड मिसेज 55

    वर्ष 1955 की सर्वश्रेष्ठ रोमांटिक कॉमेडी में से एक, ‘मिस्टर एंड मिसेज 55’ एक संघर्षरत कार्टूनिस्ट प्रीतम के इर्द-गिर्द घूमती है, जो दत्त द्वारा निभाई गई है, जो एक अमीर और पश्चिमी रूप से उत्तराधिकारी अनीता से टेनिस मैच में मिलता है, जो मधुबाला द्वारा अभिनीत है। कई बाधाओं को पार करने के बाद, आखिरकार दोनों में प्यार हो जाता है।

     

    By साक्षी बंसल

    पत्रकारिता की छात्रा जिसे ख़बरों की दुनिया में रूचि है।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *