Thu. Feb 9th, 2023
    गुजरात गौरव यात्रा

    मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान आज अंकलेश्वर में गुजरात गौरव यात्रा में शामिल हुए। इस दौरान शिवराज सिंह चौहान ने भाजपा शासनकाल में गुजरात में हुए विकास कार्यों की जमकर तारीफ की। अपने गुजरात दौरे के दौरान शिवराज सिंह चौहान ने अंकलेश्वर में गुजरात गौरव यात्रा में हिस्सा लिया और एक जनसभा को सम्बोधित भी किया। गुजरात गौरव यात्रा को मिल रहे जनसमर्थन और अपनी जनसभा में उमड़ी भीड़ को देखकर शिवराज सिंह चौहान अभिभूत नजर आए। अपने सम्बोधन के दौरान शिवराज सिंह चौहान ने गुजरात के विकास कार्यों की तारीफ की और कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गाँधी पर निशाना साधा। राहुल गाँधी के हिंदूवादी अवतार पर व्यंग करते हुए शिवराज सिंह चौहान ने कहा, “अब तक जिन्होंने कभी अपने हाथों में पूजा की थाली नहीं पकड़ी, वे मंदिरों में जा-जा कर बड़े-बड़े तिलक लगवा रहे हैं।”

    अंकलेश्वर में जनसभा को सम्बोधित करते हुए शिवराज सिंह चौहान ने कहा, “पण्डित जवाहर लाल नेहरू के समय चीन ने हमारी जमीन हड़प ली थी और आज पीएम नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में भारत चीन से आँख में आँख डालकर बात कर रहा है। अगर सरदार वल्लभ भाई पटेल ना होते तो भारत एक ना होता और उनके हाथ में कमान होती तो आज देश के समक्ष कश्मीर की समस्या ना होती।” कांग्रेस पर हमलावर रुख अपनाते हुए शिवराज सिंह चौहान ने कहा, “कांग्रेस को विकास नहीं दिखाई देता, क्योंकि इन्हें घोटाले करने और देखने की आदत है। कांग्रेस के घोटालों की लंबी लिस्ट है। कांग्रेस ने सब जगह घोटाले किए हैं, हवा में, जमीन में, आसमान में, पानी में। कांग्रेस विकास नहीं, बल्कि केवल घोटाले करने में ही माहिर है।”

    गुजरात गौरव यात्रा के दौरान अंकलेश्वर में हुई जनसभा में उमड़ी भीड़ को देखकर शिवराज सिंह चौहान काफी प्रसन्न नजर आए। अपने गुजरात दौरे के अनुभव को अपने ट्विटर हैंडल पर शेयर करते हुए मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने लिखा, “आज अंकलेश्वर में #GujaratGauravYatra में शामिल हुआ और जनता का स्नेह एवं उत्साह देखकर अभिभूत हूँ। यह विकास और विश्वास का उत्साह है।” अपने अगले ट्वीट में उन्होंने लिखा, “आज गुजरात में आ कर मन अत्यंत आनंदित हो गया। सूरत से अंकलेश्वर आते वक्त विकास की गति का अनुभव होता है। यहाँ की हवा में एक अनोखी ऊर्जा है।”

    पाटीदारों को मनाने का दांव है गुजरात गौरव यात्रा

    भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह द्वारा 1 अक्टूबर को सरदार पटेल के गृह नगर करमसद से गुजरात गौरव यात्रा का आगाज किया गया था। इस यात्रा का मुख्य मकसद गुजरात में भाजपा से नाराज चल रहे उसके पारम्परिक वोटबैंक पाटीदारों को साधना था। इसके अतिरिक्त भाजपा गुजरात गौरव यात्रा के माध्यम से सूबे की ग्रामीण सीटों पर भी ध्यान केंद्रित कर रही है। भाजपा ने गुजरात गौरव यात्रा की कमान राज्य के उपमुख्यमंत्री और पाटीदार समाज से आने वाले नितिन पटेल को सौंपी है। इसके बावजूद पाटीदारों ने कई जगहों पर गुजरात गौरव यात्रा का विरोध किया है। अभी तक अपने मंसूबों में सफल ना होने के चलते भाजपा अन्य जातीय समीकरणों की ओर भी ध्यान दे रही है जिनमें पार्टी की हिंदुत्ववादी छवि और ओबीसी समुदाय का समर्थन महत्त्वपूर्ण है।

    गुजरात गौरव यात्रा में शामिल हुए थे योगी

    देश में हिंदुत्ववादी राजनीति के सबसे लोकप्रिय चेहरे और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी गुजरात गौरव यात्रा में शामिल हो चुके हैं। भाजपा नाराज पाटीदारों को मनाने के साथ-साथ गुजरात के अन्य सियासी समीकरणों को भी साध रही है और अपना गढ़ बचाने की हरसंभव कोशिश कर रही है। इसके लिए भाजपा हिंदुत्व कार्ड भी खेल रही है। गुजरात गौरव यात्रा के दौरान अपने सम्बोधन में योगी आदित्यनाथ ने गुजरात का गुणगान किया था। योगी आदित्यनाथ ने कहा था कि गुजरात ने देश को महात्मा गाँधी, सरदार पटेल और नरेंद्र मोदी जैसे व्यक्ति दिए हैं। योगी ने कहा कि गुजरात ने पिछले 2 दशकों में काफी विकास किया है। कांग्रेस के शासनकाल में राज्य की प्रति व्यक्ति आय 14,000 रुपए थी जो अब बढ़कर 1,00,000 रुपए तक पहुँच गई है। योगी आदित्यनाथ ने इसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की दूरदर्शिता का परिणाम बताया था।

    राहुल का प्रभाव खत्म करने में जुटी भाजपा

    उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अपने पूरे संबोधन के दौरान राहुल गाँधी और कांग्रेस पर हमलावर रहे थे। योगी आदित्यनाथ ने कहा था, “अहमदाबाद में बुलेट ट्रेन परियोजना की शुरुआत कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नए भारत के निर्माण की पहल की है। यह उनकी दूरदर्शिता का परिणाम है कांग्रेस का नहीं।” योगी आदित्यनाथ ने बतौर मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यकाल को याद करते हुए कहा था कि मोदीजी के नेतृत्व में मैंने के भुज और कच्छ का विकास होते हुए देखा है। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गाँधी पर तंज कसते हुए योगी आदित्यनाथ ने कहा था, “जब गुजरात में बाढ़ आई थी तब पीएम मोदी और अमित शाह यहाँ आए थे पर राहुल गाँधी नहीं आए थे। राहुल गाँधी बस चुनावी दौरे करने वाले व्यक्ति हैं। राहुल गाँधी अपने संसदीय क्षेत्र अमेठी में पिछले 14 सालों में जिलाधिकारी कार्यालय नहीं बनवा सके हैं।”

    कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गाँधी के धुआंधार चुनावी दौरों और पाटीदार समाज की नाराजगी के चलते गुजरात में भाजपा बैकफुट पर है। कभी भाजपा के गढ़ रहे गुजरात में अब भाजपा की पकड़ ढ़ीली हो चुकी है और इस बात को मानने से किसी को गुरेज नहीं है। 2 दशकों से पार्टी के अभेद्द्य दुर्ग रहे गुजरात को बचाने के लिए भाजपा हरसंभव कोशिश कर रही है वहीं कांग्रेस भी सूबे में अपना दशकों पुराना सियासी वनवास खत्म करने की जुगत में जुटी हुई है। नतीजे चाहे जिसके पक्ष में आए पर यह बात तय है कि गुजरात का सियासी दंगल 2019 के लोकसभा चुनावी की पृष्ठभूमि तैयार करेगा और देश की राजनीति की दिशा तय करने में अहम भूमिका निभाएगा।

    By हिमांशु पांडेय

    हिमांशु पाण्डेय दा इंडियन वायर के हिंदी संस्करण पर राजनीति संपादक की भूमिका में कार्यरत है। भारत की राजनीति के केंद्र बिंदु माने जाने वाले उत्तर प्रदेश से ताल्लुक रखने वाले हिमांशु भारत की राजनीतिक उठापटक से पूर्णतया वाकिफ है।मैकेनिकल इंजीनियरिंग में स्नातक करने के बाद, राजनीति और लेखन में उनके रुझान ने उन्हें पत्रकारिता की तरफ आकर्षित किया। हिमांशु दा इंडियन वायर के माध्यम से ताजातरीन राजनीतिक और सामाजिक मुद्दों पर अपने विचारों को आम जन तक पहुंचाते हैं।