Tue. Apr 23rd, 2024

    कोलकाता पुलिस ने मंगलवार (4 मई, 2021) को राज्य भाजपा मुख्यालय के पास जेपी नड्डा के कार्यक्रम के लिए स्थापित किए मंच को तोड़ दिया है। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा को राज्य प्रमुख दिलीप घोष के साथ राज्य भाजपा मुख्यालय में निर्धारित किए गए मंच पर विरोध प्रदर्शन करना था। पश्चिम बंगाल में हुए विधानसभा चुनाव  के परिणामों के बाद हुई हिंसा जिसमें भाजपा कार्यकर्ताओं की कथित हत्याओं के लिए न्याय की मांग करती भाजपा बुधवार को सुबह 9:30 बजे यह धरना शुरू करने वाली थी।

    हालांकि, सूत्रों ने कहा कि ‘धरना’ अब हेस्टिंग्स कार्यालय में होगा। इससे पहले 4 मई को, पश्चिम बंगाल में भाजपा अध्यक्ष नड्डा ने हिंसा से प्रभावित भाजपा कार्यकर्ताओं के परिवारों से मुलाकात की और कहा कि स्वतंत्र भारत में, “इतनी असहनीयता हैरान करने वाली है”। 

    “मैं भारी मन से हमारे कार्यकर्ता, श्री अभिजीत सरकार के परिवार से मिला, जो कोलकाता के बेलियाघाटा में हुई पोस्ट-पोल हिंसा में बेरहमी से मारे गए थे। हम लोकतांत्रिक तरीके से क्रूर  तृणमूल कांग्रेस के साथ इस वैचारिक लड़ाई को लड़ेंगे। हम अनमनीय रूप से अपने  कार्यकर्ताओं के साथ खड़े हैं ”-जेपी नड्डा

    300 से अधिक भाजपा कार्यकर्ता और उनके परिवारों ने जान बचाने के लिए असम की सीमा पार की 

    असम के मंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने कहा कि 300 से अधिक भाजपा कार्यकर्ता और उनके परिवार के सदस्य बंगाल से अपनी जान बचाने के लिए असम के धुबरी में आ गए हैं। बाद में, उन्होंने ट्विटर पर लिखा, “एक दुखद विकास में 300-400 भाजपा के बंगाल कार्यकर्ता और उनके परिवार के सदस्यों ने उन पर हो रहे अत्याचार और हिंसा का सामना करते हुए बंगाल से असम के धुबरी  की सीमा पार कर ली है। हम उनके रहने और भोजन की पूरी व्यवस्था कर रहे हैं। ममता बनर्जी, दीदी को लोकतंत्र के इस बदसूरत नृत्य को रोकना होगा”!

    इससे पहले, राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने कहा था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उन्हें फोन किया और राज्य में बिगड़ती कानून व्यवस्था पर नाराजगी जताई। 

    असहनीयता का नाम ममता  बनर्जी

    टीएमसी सुप्रीमो ममता बनर्जी पर निशाना साधते हुए,  जेपी नड्डा ने कहा कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री असहनीयता का प्रतीक हैं और भाजपा बंगाल में लोगों के सामने उनका असली चेहरा  लाकर रहेगी। मंगलवार को कोलकाता पहुंचे नड्डा ने कोलकाता और इसके पड़ोसी जिलों में पीड़ितों के परिवार के सदस्यों से मुलाकात की और उन्हें संकट की इस घड़ी में पूरा सहयोग देने का आश्वासन दिया। उन्होंने यह भी कहा कि पार्टी के लिए उन सबके बलिदान को व्यर्थ नहीं जाने देंगे। भाजपा प्रमुख ने कहा कि उन्होंने चुनाव के नतीजे घोषित होने के बाद पश्चिम बंगाल में  पहले कभी ऐसी हिंसा नहीं देखी है। 

    By दीक्षा शर्मा

    गुरु गोविंद सिंह इंद्रप्रस्थ विश्वविद्यालय, दिल्ली से LLB छात्र

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *