केदारनाथ फिल्म: बॉम्बे हाई कोर्ट ने फिल्म के खिलाफ जनहित याचिका को किया खारिज

केदारनाथ

गुरुवार के दिन, बॉम्बे हाई कोर्ट ने सारा अली खान और सुशांत सिंह राजपूत की फिल्म “केदारनाथ” के खिलाफ दायर जनहित याचिका को खारिज कर दिया है। इस याचिका में ये इलज़ाम लगाया गया है कि इस फिल्म ने लोगो की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुँचाई है।

मुख्य न्यायाधीश नरेश पाटिल और न्यायमूर्ति एम एस कर्णिक की एक पीठ ने सभी पार्टियों को ध्यान से सुना लेकिन जनहित याचिका को खारिज कर दिया यह कहते हुए कि यह पोषणीय नहीं है। दो स्थानीय वकील प्रभाकर त्रिपाठी और रमेशचंद्र मिश्रा द्वारा दायर याचिका में दावा किया गया है कि 2013 की उत्तराखंड बाढ़ पर आधारित इस फिल्म में आपदा की गंभीरता को हलके तरीके से दिखाया गया है जो उनकी धार्मिक भावनाओं को नुकसान पहुंचाती है।

याचिकाकर्ताओं ने कहा, “कहानी काल्पनिक है और यह फिल्म एक हिंदू ब्राह्मण लड़की और एक मुस्लिम लड़के के बीच प्यार की अविश्वसनीय कहानी है जो उत्तराखंड की प्राकृतिक आपदा से जुड़ी है जिसने कई हिंदू तीर्थयात्रियों के जीवन को नष्ट किया था।”

‘केंद्रीय बोर्ड ऑफ फिल्म सर्टिफिकेशन'(सीबीएफसी) और फिल्म के निर्माता ने इस याचिका का जमकर विरोध किया था।

फिल्म के निर्माता की तरफ से उपस्थित वरिष्ठ वकील पी दहेकलकर ने खंडपीठ को बताया कि फिल्म सिर्फ एक प्रेम कहानी थी जिसने केदारनाथ को अपनी सेटिंग के रूप में इस्तेमाल किया था। उन्होंने कहा, “फिल्म विभिन्न वर्गों और धर्मों से संबंधित दो लोगों के बीच एक प्रेम कहानी है। इसका किसी को ठेस पहुँचाने का कोई इरादा नहीं है। इसके अलावा, हमारी धार्मिक भावनाएं इतनी कमजोर नहीं हैं कि वे सिर्फ एक फिल्म से प्रभावित होंगी जो इसकी पृष्ठभूमि में एक मंदिर दिखाती है। अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का हर अधिकार हमें दिया जाना चाहिए।”

उन्होंने आगे अपनी बात रखते हुए कहा-“”इसके बजाए, अदालत को यह जांचना चाहिए कि क्या हमने प्रक्रिया का पालन किया है और फिल्म प्रमाणन सुरक्षित किया है।”

सीबीएफसी के वकील अद्वत सेठना ने खंडपीठ को बताया कि फिल्म को प्रमाणन जारी करने के लिए बोर्ड के पास बहुत सख्त दिशानिर्देश थे। उन्होंने कहा कि बोर्ड ने फिल्म के सार्वजनिक रिलीज के लिए प्रमाण पत्र देने में सभी नियमों का पालन किया था।

सेठना और दहेकलकर दोनों ने इस बात पर ज़ोर दिया कि गुजरात और उत्तराखंड के हाई कोर्ट ने भी फिल्म के विरोध में इसी तरह की अपील को खारिज कर दिया था।

इस पर, खंडपीठ ने जनहित याचिका को खारिज करने का फैसला किया।

हालांकि, यह सुझाव दिया गया है कि अधिकारी, ऑनलाइन जारी किए गए फिल्मों के ट्रेलरों और पोस्टर्स को विनियमित और पूर्वावलोकन करने के लिए विशेषज्ञों के एक समूह का गठन करने के बारे में सोच सकते हैं जो वर्तमान में सीबीएफसी या किसी भी समान निकाय द्वारा अप्रसन्न हो जाते हैं।

शाम को कोर्ट, विस्तृत आदेश सार्वजनिक रूप से जारी कर देगा।

फिल्म “केदारनाथ” एक प्रेम-कहानी है जिसमे सारा अली खान एक हिन्दू बनी हैं और सुशांत सिंह राजपूत एक मुस्लिम लड़के बने हैं। इन दोनों की प्रेम-कहानी केदारनाथ के पवित्र स्थल पर ही शुरू होती है। इस फिल्म पर लव-जिहाद दिखाने का आरोप लगा है। अभिषेक कपूर के निर्देशन में बनी ये फिल्म इस साल 7 दिसंबर को रिलीज़ होगी।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here