बुधवार, फ़रवरी 19, 2020

केदारनाथ फिल्म: बॉम्बे हाई कोर्ट ने फिल्म के खिलाफ जनहित याचिका को किया खारिज

Must Read

डोनाल्ड ट्रम्प की अहमदाबाद की 3 घंटे की यात्रा के लिए 80 करोड़ रुपये खर्च करेगी गुजरात सरकार: रिपोर्ट

समाचार एजेंसी रायटर ने बुधवार को सूचना दी कि अहमदाबाद में अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प (Donald Trump) की...

डोनाल्ड ट्रम्प के दौरे की तैयारियां भारतियों की ‘गुलाम मानसिकता’ को दर्शाता है: शिवसेना

शिवसेना (Shivsena) ने सोमवार को कहा कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प (Donald Trump) की बहुप्रतीक्षित यात्रा की चल रही...

“अरविंद केजरीवाल को कभी आतंकवादी नहीं कहा”: प्रकाश जावड़ेकर

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर (Prakash Javadekar) ने शुक्रवार को इस बात से इनकार किया कि उन्होंने कभी दिल्ली के...
साक्षी बंसल
पत्रकारिता की छात्रा जिसे ख़बरों की दुनिया में रूचि है।

गुरुवार के दिन, बॉम्बे हाई कोर्ट ने सारा अली खान और सुशांत सिंह राजपूत की फिल्म “केदारनाथ” के खिलाफ दायर जनहित याचिका को खारिज कर दिया है। इस याचिका में ये इलज़ाम लगाया गया है कि इस फिल्म ने लोगो की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुँचाई है।

मुख्य न्यायाधीश नरेश पाटिल और न्यायमूर्ति एम एस कर्णिक की एक पीठ ने सभी पार्टियों को ध्यान से सुना लेकिन जनहित याचिका को खारिज कर दिया यह कहते हुए कि यह पोषणीय नहीं है। दो स्थानीय वकील प्रभाकर त्रिपाठी और रमेशचंद्र मिश्रा द्वारा दायर याचिका में दावा किया गया है कि 2013 की उत्तराखंड बाढ़ पर आधारित इस फिल्म में आपदा की गंभीरता को हलके तरीके से दिखाया गया है जो उनकी धार्मिक भावनाओं को नुकसान पहुंचाती है।

याचिकाकर्ताओं ने कहा, “कहानी काल्पनिक है और यह फिल्म एक हिंदू ब्राह्मण लड़की और एक मुस्लिम लड़के के बीच प्यार की अविश्वसनीय कहानी है जो उत्तराखंड की प्राकृतिक आपदा से जुड़ी है जिसने कई हिंदू तीर्थयात्रियों के जीवन को नष्ट किया था।”

‘केंद्रीय बोर्ड ऑफ फिल्म सर्टिफिकेशन'(सीबीएफसी) और फिल्म के निर्माता ने इस याचिका का जमकर विरोध किया था।

फिल्म के निर्माता की तरफ से उपस्थित वरिष्ठ वकील पी दहेकलकर ने खंडपीठ को बताया कि फिल्म सिर्फ एक प्रेम कहानी थी जिसने केदारनाथ को अपनी सेटिंग के रूप में इस्तेमाल किया था। उन्होंने कहा, “फिल्म विभिन्न वर्गों और धर्मों से संबंधित दो लोगों के बीच एक प्रेम कहानी है। इसका किसी को ठेस पहुँचाने का कोई इरादा नहीं है। इसके अलावा, हमारी धार्मिक भावनाएं इतनी कमजोर नहीं हैं कि वे सिर्फ एक फिल्म से प्रभावित होंगी जो इसकी पृष्ठभूमि में एक मंदिर दिखाती है। अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का हर अधिकार हमें दिया जाना चाहिए।”

उन्होंने आगे अपनी बात रखते हुए कहा-“”इसके बजाए, अदालत को यह जांचना चाहिए कि क्या हमने प्रक्रिया का पालन किया है और फिल्म प्रमाणन सुरक्षित किया है।”

सीबीएफसी के वकील अद्वत सेठना ने खंडपीठ को बताया कि फिल्म को प्रमाणन जारी करने के लिए बोर्ड के पास बहुत सख्त दिशानिर्देश थे। उन्होंने कहा कि बोर्ड ने फिल्म के सार्वजनिक रिलीज के लिए प्रमाण पत्र देने में सभी नियमों का पालन किया था।

सेठना और दहेकलकर दोनों ने इस बात पर ज़ोर दिया कि गुजरात और उत्तराखंड के हाई कोर्ट ने भी फिल्म के विरोध में इसी तरह की अपील को खारिज कर दिया था।

इस पर, खंडपीठ ने जनहित याचिका को खारिज करने का फैसला किया।

हालांकि, यह सुझाव दिया गया है कि अधिकारी, ऑनलाइन जारी किए गए फिल्मों के ट्रेलरों और पोस्टर्स को विनियमित और पूर्वावलोकन करने के लिए विशेषज्ञों के एक समूह का गठन करने के बारे में सोच सकते हैं जो वर्तमान में सीबीएफसी या किसी भी समान निकाय द्वारा अप्रसन्न हो जाते हैं।

शाम को कोर्ट, विस्तृत आदेश सार्वजनिक रूप से जारी कर देगा।

फिल्म “केदारनाथ” एक प्रेम-कहानी है जिसमे सारा अली खान एक हिन्दू बनी हैं और सुशांत सिंह राजपूत एक मुस्लिम लड़के बने हैं। इन दोनों की प्रेम-कहानी केदारनाथ के पवित्र स्थल पर ही शुरू होती है। इस फिल्म पर लव-जिहाद दिखाने का आरोप लगा है। अभिषेक कपूर के निर्देशन में बनी ये फिल्म इस साल 7 दिसंबर को रिलीज़ होगी।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

डोनाल्ड ट्रम्प की अहमदाबाद की 3 घंटे की यात्रा के लिए 80 करोड़ रुपये खर्च करेगी गुजरात सरकार: रिपोर्ट

समाचार एजेंसी रायटर ने बुधवार को सूचना दी कि अहमदाबाद में अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प (Donald Trump) की...

डोनाल्ड ट्रम्प के दौरे की तैयारियां भारतियों की ‘गुलाम मानसिकता’ को दर्शाता है: शिवसेना

शिवसेना (Shivsena) ने सोमवार को कहा कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प (Donald Trump) की बहुप्रतीक्षित यात्रा की चल रही तैयारी भारतीयों की "गुलाम मानसिकता"...

“अरविंद केजरीवाल को कभी आतंकवादी नहीं कहा”: प्रकाश जावड़ेकर

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर (Prakash Javadekar) ने शुक्रवार को इस बात से इनकार किया कि उन्होंने कभी दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal)...

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत नें नागरिकता क़ानून के खिलाफ विरोध में लिया भाग

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने शुक्रवार को मांग की कि केंद्र देश में शांति और सद्भाव बनाए रखने के लिए संशोधित...

जम्मू कश्मीर मामले में भारत का तुर्की को जवाब; ‘आंतरिक मामलों में दखल ना दें’

भारत ने शुक्रवार को अपनी पाकिस्तान यात्रा के दौरान जम्मू और कश्मीर पर तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तईप एर्दोगन की टिप्पणियों का जवाब दिया...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -