Sun. Feb 5th, 2023
    पंकज त्रिपाठी

    एक के बाद एक शानदार परफोर्मेंस के बाद पंकज त्रिपाठी भारतीय सिनेमा के न सिर्फ जाने-कलाकार बन चुके हैं बल्कि अब हर फिल्म में दर्शक पंकज त्रिपाठी को ही देखना चाहते हैं।

    और हो भी क्यों न पंकज त्रिपाठी ऐसे अभिनेता हैं जिन्हें किसी भी प्रकार की फिल्म में किसी भी प्रकार का किरदार दे दो वह उसे अपने अभिनय के दम पर जीवंत बना देते हैं।

    इस समय पंकज अपनी फिल्म ‘लुका छुप्पी‘ के प्रचार-प्रसार में जुटे हुए हैं। इस मौके पर एक साक्षात्कार में उन्होंने दर्शकों का प्यार पाने के साथ आने वाले दबाव और भारतीय सिनेमा में स्माल टाउन के उत्थान की बातें की हैं।

    पेश हैं पंकज त्रिपाठी से बातचीत के कुछ अंश।

    2017 में 7 फ़िल्में और 2018 में 8 फ़िल्में और दो वेब सीरीज। आप हर जगह हैं। बॉलीवुड के सबसे चहेते अभिनेता होने में कैसा महसूस होता है?

    अच्छा लगता है पर मेरा पूरा 2019 ब्लाक है। कई अच्छी कहानियां हैं। ऐसी फ़िल्में जिनमें मैं काम करना चाहता हूँ पर मैं नहीं कर सकता। मुझे यहाँ तक पहुचने में 15 साल लगे हैं।

    मुझे लगता है कि मेरी यात्रा दुसरे एक्टर्स को मोटिवेशन देगी। बहुत से लोग जो मुंबई में अपना रास्ता खोजने की कोशिश कर रहे हैं मुझे मैसेज करते हैं और बताते हैं कि मेरी सकारात्मकता और संघर्ष उन्हें श्रद्धा देती है कि अगर आपमें बात है तो रुके रहो, ज़रूर होगा।

    मैं मानता हूँ कि यह मेरी सबसे बड़ी उपलब्द्धि है।

    युवा कलाकरों जैसे कृति सेनोन, कार्तिक आर्यन और अपार्शक्ति खुराना के साथ ‘लुका छुप्पी’ में काम करके कैसा लगा? क्या उनका काम करने का तरीका आपसे अलग है?

    यह युवा कलाकार बहुत मेहनती और इमानदार हैं। ‘लुका छुप्पी’ में 5-6 और भी कमाल के कलाकार हैं जिन्हें पहली बार किसी अच्छी फिल्म में देखा जाएगा।

    फिल्म बनाने का तरीका पहले से बहुत बदल चूका है। युवा कलाकारों ने लिए सिनेमा में यह शानदार समय है।

    आपके अनुसार आपके करियर का टर्निंग पॉइंट क्या रहा है? आपके हिसाब से किस फिल्म ने गेम चेंज किया?

    गैंग्स ऑफ़ वासेपुर 2012 ने मेरे नाम को पहचान दिलाई, न्यूटन 2017 ने इसे आगे बढ़ाया। मिर्ज़ापुर 2018 ने यह सुनिश्चित किया कि मैं हर जगह हूँ। बाप रे बाप! मैंने कभी नहीं सोचा था कि मैंन कालीन भैया के नाम से जाना जाऊँगा। एक दिन पूरी दुनिया के लोग मुझे कालीन भैया के नाम से मैसेज करेंगे।

    आपका संघर्ष लम्बा और कठिन था। अब आप अपने स्थान पर हैं जहाँ आप फ़िल्में चुन सकते हैं। आप किस तरह की फ़िल्में करना चाहते हैं? 

    जो कहानी समझ में आ जाए, अच्छी लग जाए। मैं कुछ निर्देशकों को पसंद करता हूँ जिनके साथ मैं काम करना चाहता हूँ जैसे अनुराग बासु और कबीर खान और अब मैं उनके साथ काम कर रहा हूँ।

    हर साल मैं 3-4 नए निर्देशकों के साथ काम करता हूँ। नई प्रतिभाओं के पास स्टोरीटेलिंग का अलग दृष्टीकोण होता है। मैं उनके साथ भी काम करना चाहता हूँ।

    कई अभिनेता निर्देशक और प्रोड्यूसर बन रहे हैं। क्या आपकी भी ऐसी कोई योजना है?

    भविष्य के बारे में मैं अभी कुछ नहीं कह सकता पर अभी मेरी ऐसी कोई योजना नहीं है। मैं बाद में निर्देशन करना चाहता हूँ पर फिलहाल ऐसा कुछ नहीं है।

    यदि कोई रीमेक बने तो आप कौन से किरदार को फिर से करना चाहेंगे?

    मैं ‘तीसरी कसम’ में राज कपूर की भूमिका निभाना चाहता हूँ। मैं फणीश्वरनाथ रेणु को सच में बहुत पसंद करता हूँ और उनकी वह कहानी जिसपर फिल्म आधारित है।

    लुका छुप्पी में अपने किरदार के बारे में बताएं?

    यह बहुत दिलचस्प है। वह एक रियल एस्टेट ब्रोकर है जिसकी शादी नहीं हुई है और वह पूरी फिल्म में अपने लायक दुल्हन खोजता रहता है। वह शरारती और मजाकिया है। आपको वह परेशान कर देगा लेकिन स्वीट भी लगेगा।

    कार्तिक आर्यन और कृति सेनोन की फिल्म ‘लुका छुप्पी’ 1 मार्च को रिलीज़ हो रही है।

    यह भी पढ़ें: चन्द्रशेखर आज़ाद की पुण्यतिथि पर याद करते हैं स्वतंत्रता सेनानियों पर बनी अबतक की सबसे बेहतरीन फिल्म

    By साक्षी सिंह

    Writer, Theatre Artist and Bellydancer

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *