Wed. Feb 1st, 2023
    "कलंक" रिव्यु: विसुअल ट्रीट है वरुण धवन और आदित्य रॉय कपूर अभिनीत फिल्म

    घोषणा के वक़्त से ही, सब को फिल्म के लिए उत्साहित रखने के बाद आज आखिरकार सभी को करण जौहर का सबसे करीबी प्रोजेक्ट “कलंक” देखने को मिलेगा। अभिषेक वर्मन द्वारा निर्देशित इस पीरियड-ड्रामा फिल्म से माधुरी दीक्षित और संजय दत्त भी लगभग दो दशक बाद बड़े परदे पर एकसाथ वापसी कर रहे हैं। उनके अलावा, इस फिल्म में सोनाक्षी सिन्हा, आदित्य रॉय कपूर, वरुण धवन और आलिया भट्ट की जोड़ी भी देखने को मिलेगी।

    चूँकि फिल्म की पहली स्क्रीनिंग हो चुकी है इसलिए कुछ लोगो ने इंटरनेट पर फिल्म के पहले रिव्यु साझा किये है जिन्हे देखकर यही लग रहा है कि फिल्म किसी विसुअल ट्रीट से कम नहीं होगी। जिस जिस ने भी फिल्म देखी है वह फिल्म की तारीफ ही कर रहा है।

    धड़क निर्देशक शशांक खेतान ने लिखा-“कलंक एक विसुअल ट्रीट है। ये सुन्दर और सिनेमाई है। ये असली दिल की शानदार दुनिया है। जबरदस्त काम अभिषेक वर्मन। आदित्य रॉय कपूर फिल्म में जबरदस्त हैं। सोनाक्षी सिन्हा एक प्यारे कैमियो में बहुत अच्छी हैं।”

    https://twitter.com/ShashankKhaitan/status/1118221772388614144

    https://twitter.com/ShashankKhaitan/status/1118222590324039682

    https://twitter.com/ShashankKhaitan/status/1118223905926213633

    उन्होंने आगे माधुरी दीक्षित की अदा, संजय दत्त की तीव्र आँखों की और कुणाल खेमू के अभिनय की भी तारीफ की। उन्होंने अंत में आलिया और वरुण की केमिस्ट्री को भी सराहा।

    जबकि निर्देशक मिलाप जावेरी ने लिखा-“कलंक एक एपिक कहानी है जिसका निर्देशन अभिषेक वर्मन ने एक औट्यूर की तरह किया है। उनकी दृष्टि बहुत बड़ी है। वरुण असाधारण हैं। एकदम फर्स्ट क्लास। आलिया दिव्य हैं। आदित्य प्रतिभाशाली हैं। सोनाक्षी तुम्हारा दिल जीत लेती हैं और तोड़ देती हैं।”

    https://twitter.com/zmilap/status/1118223244883107841

    दुबई के फिल्म समीक्षक ने कहा-“कलंक को कई वजह से देखना चाहिए: मुख्य किरदारों के बीच उत्तेजक केमिस्ट्री, शक्तिशाली नाटकीय कंटेंट, संगीतमय स्कोर, कथा में हिंसक लकीर और निश्चित रूप से श्योर शॉट सुपरहिट।”

    https://twitter.com/UmairFilms/status/1118220059040677889

    आलिम हाकिम ने कहा-“कलंक एक खूबसूरत फिल्म है। जरूर देखनी चाहिए। वरुण माइंड ब्लोइंग हैं। आलिया जबरदस्त है। सोनाक्षी बहुत अच्छी हैं। संजय तीव्र हैं। आदित्य ने अपने प्रदर्शन से चौका दिया। करण जौहर क्या सुन्दर कैनवास है। अभिषेक वर्मन द्वारा उत्तम निर्देशन।”

    सेतुमाधवन नापन-“कलंक-अच्छी तरह से भव्य प्रोडक्शन डिजाइन, शीर्ष सिनेमैटोग्राफी और अच्छे प्रदर्शन के आधार पर भव्य लेकिन एक आत्मा का अभाव है। किसी एक कहावत की याद दिलाती है कि हर चमकती चीज़ सोना नहीं होती।”

    By साक्षी बंसल

    पत्रकारिता की छात्रा जिसे ख़बरों की दुनिया में रूचि है।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *