Sun. Feb 5th, 2023
    कंप्यूटर नेटवर्किंग computer networking in hindi

    आजकल के युग में सभी कामों को आसानी से करने के लिए कंप्यूटरों का उपयोग किया जाता हैं, जिससे गलती की गुंजाइश ना रहें।

    कंप्यूटर के उपयोग से हम दुसरे मशीन में सेव किया हुआ डेटा इस्तेमाल कर सकते हैं और इससे तेजी और अचूकता से काम होता हैं।

    कंप्यूटर नेटवर्किंग की परिभाषा (definition of computer networking in hindi)

    “कंप्यूटर नेटवर्क, कंप्यूटरों के ग्रुप को कहा जाता हैं, जिन्हें केबल की मदत से एकदुसरे से जोड़ा गया हों।”

    कंप्यूटर नेटवर्क को डाटा नेटवर्क भी कहा जाता हैं, इसका उपयोग कंप्यूटरों के बीच संवाद के माध्यम (कम्युनिकेशन चैनेल) के रूप में किया जाता हैं, जिससे कंप्यूटरों के बीच डेटा एक्सचेंज सहजता से हो सकें।

    कंप्यूटर नेटवर्क में, एक कंप्यूटर द्वारा भेजा गया सिग्नल नेटवर्क से जुड़े हुए हर मशीन से होकर गुजरता हैं, जब तक वह सिग्नल अपने निर्धारित स्थान(कंप्यूटर) तक ना पहुँच जाए।

    कंप्यूटर नेटवर्किंग के मुख्य उदेश्य (objectives of computer networking in hindi)

    1. रिसोर्स शेयरिंग (Resource Sharing in hindi)

    कंप्यूटर नेटवर्क से जोड़े गए सभी कंप्यूटरों के लिए समान, आतिरिक्त उपकरण जैसे-प्रिंटर, स्कैनर दिए जाते हैं। नेटवर्क से जुड़े हुए सभी कंप्यूटर, इन उपकरणों का साझा रूप से उपयोग करते हैं।

    रिसोर्स शेयरिंग का मुख्य हेतु होता हैं, की उपलब्ध साधनों को अधिकतम उपयोग किया जाए। उदहारण के तौर पर, अगर हम कंप्यूटरों को नेटवर्क में नहीं जोड़ते हैं, तो हमें स्कैनिंग, प्रिंटिंग जैसे कामों के लिए अलग-अलग प्रिंटर, स्कैनर की आवश्यकता होगी।

    इस संभावित परिस्थिति को टालने के लिए, कंप्यूटरों को नेटवर्क में जोड़ा जाता हैं।

    1. वर्कलोड डिस्ट्रीब्यूशन (Workload distribution in hindi)

    एक आर्गेनाईजेशन में उपयोग में लाए जा रहे सभी कंप्यूटरों को नेटवर्क से जोड़े जाने के कई उपयोग हैं। अगर एक टीम को प्रोजेक्ट दिया जाता हैं, और एक कर्मचारी अपना कार्यभार दुसरे कर्मचारी को देना चाहता हैं, जिससे काम जल्दी पूरा हो सकें।

    कंप्यूटर नेटवर्क की मदत से ऐसा हो सकता हैं। सभी कंप्यूटर, नेटवर्क जुड़े होने के कारन कोई भी कर्मचारी अपना कार्यभार दुसरे को आसानी से सोंप सकता हैं।

    1. पैसे की बचत (Saving Money)

    एक आर्गेनाईजेशन का मुख्य उद्देश्य होता हैं, कम से कम खर्चे में ज्यादा से ज्यादा काम किया जाए, जिससे आर्गेनाईजेशन को मुनाफा हो सकें। कंप्यूटर नेटवर्क में सर्वर में सेव किया हुआ डाटा सभी मशीन इस्तेमाल कर सकती हैं।

    हम नेटवर्क में शक्तिशाली कंप्यूटर के बजाय छोटे और कम शक्तिशाली कंप्यूटर जोड़ सकते हैं। जिससे काम उसी तेजी से और सहजता से होगा, जैसा की शक्तिशाली कंप्यूटरों के नेटवर्क में होगा।

    ऐसा करने से आर्गेनाईजेशन के पैसे में बचत होगी और काम अचूकता से होने के कारन मुनाफे में बढ़ोतरी होगी।

    कंप्यूटर नेटवर्किंग के लिए जरुरी घटक (tools needed in computer networking in hindi)

    • कंप्यूटर (computer)

    सेन्डर:

    जो कंप्यूटर दुसरे कंप्यूटर के लिए सिग्नल भेजता हैं, उसे कंप्यूटर साइंस में सेन्डर कहा जाता हैं। कंप्यूटर नेटवर्क में सेन्डर की अहम भूमिका होती हैं, चूँकि सेन्डर ही कंप्यूटरों के बीच संवाद(कम्युनिकेशन) की शुरुवात करता हैं। जिसके कारन नेटवर्क कार्यान्वयित होता हैं।

    tools needed in computer networking in hindi

    रिसीवर (receiver)

    सेन्डर मशीन द्वारा भेजा गया सिग्नल, जो मशीन स्वीकार करता हैं, उसे रिसीवर कहा जाता हैं।

    सेन्डर द्वारा भेजा गया सिग्नल, नेटवर्क से जुड़े सभी मशीनों से होकर गुजरता हैं, लेकिन रिसीवर के इलावा कोई भी अन्य कंप्यूटर उस सिग्नल को पढ़ नहीं सकते, वे सिर्फ सिग्नल को आगे भेजने का काम करते हैं।

    सेन्डर, जो कम्युनिकेशन लिंक की शुरुवात करता हैं, उसका अंत रिसीवर तक पहुँचने के बाद हो जाता हैं।

    • केबल (cable)

    केबल की मदत से कंप्यूटरों को एक-दुसरे से जोड़ा जाता हैं। नेटवर्क से सभी उपलब्ध कंप्यूटरों को जोड़ने के लिए कई प्रकार की केबलों का इस्तेमाल किया जाता हैं।

    इस्तेमाल किए जाने वाली केबलों में मुख्य रूप से ट्विस्टेड पैर केबल, को-एक्सियल केबल, ऑप्टिक फाइबर केबल का इस्तेमाल किया जाता हैं।

    • कॉन्स्टंट पॉवर सप्लाई (constant power supply)

    कंप्यूटर नेटवर्क के सुचारू रूप से काम करने के लिए बिजली की आवश्यकता होती हैं, अगर बिजली खंडित हो जाती हैं, तो नेटवर्क का काम रुक जाता है।

    कंप्यूटर नेटवर्क के प्रकार (types of computer network in hindi)

    1. लोकल एरिया नेटवर्क (local area network LAN in hindi)

    LAN in hindi

    लोकल एरिया नेटवर्क, कंप्यूटरों और उनसे जुड़े उपकरणों का समूह होता हैं। आम तौर पर लोकल एरिया नेटवर्क, प्राइवेट होता हैं और इसका इस्तेमाल एक बिल्डिंग, स्कूल, लैब में उपयोग किए जाने वाले कंप्यूटरों को नेटवर्क से जोड़ने के लिए किया जाता हैं।

    लोकल एरिया नेटवर्क, एक हाईस्पीड डाटा नेटवर्क होता हैं, इस नेटवर्क में नए कंप्यूटरों जोड़ना काफी आसान होता हैं। इस नेटवर्क को इनस्टॉल करने में कम खर्चा होता हैं।

    1. मेट्रोपोलिटन एरिया नेटवर्क (metropolitan area network in hindi)

    metropolitan area network in hindi

    मेट्रोपोलिटन एरिया नेटवर्क, एक पब्लिक, हाईस्पीड नेटवर्क होता हैं। इस नेटवर्क की मदत से 80 किलोमीटर की दुरी पर स्थित अन्य कंप्यूटरों को भी डाटा भेजा जा सकता हैं। मेट्रोपोलिटन एरिया नेटवर्क, लोकल एरिया नेटवर्क से बड़ा होता हैं।

    मेट्रोपोलिटन एरिया नेटवर्क को पुरे शहर के कंप्यूटरों को जोड़ने के हेतु से बनाया गया हैं। कई लोकल एरिया नेटवर्क को एकत्रित कर मेट्रोपोलिटन एरिया नेटवर्क बनाया जाता हैं। वॅन से छोटे, और लॅन से बड़े किसी भी नेटवर्क को मेट्रोपोलिटन एरिया नेटवर्क कहा जाता हैं।

    1. वाइड एरिया नेटवर्क (wide area network in hindi)

    wide area network in hindi

    वाइड एरिया नेटवर्क का इस्तेमाल दुरी पर स्थित यूजर्स को जोड़ने में किया जाता हैं, अक्सर वाइड एरिया नेटवर्क की मदत से दुनिया के दुसरे छोर पर स्थित कंप्यूटर यूजर को इस छोर से जोड़ा जा सकता हैं, जिससे दोनों के बीच डाटा ट्रांसमिशन आसानी से हो सकें।

    वाइड एरिया नेटवर्क को मदत से डाटा, वौइस्, इमेज भेजे जा सकते हैं। वाइड एरिया नेटवर्क की मदद से दुनिया के किसी भी प्रान्त से यूजर्स कंप्यूटर का इस्तेमाल कर सकते हैं।

    By प्रशांत पंद्री

    प्रशांत, पुणे विश्वविद्यालय में बीबीए(कंप्यूटर एप्लीकेशन्स) के तृतीय वर्ष के छात्र हैं। वे अन्तर्राष्ट्रीय राजनीती, रक्षा और प्रोग्रामिंग लैंग्वेजेज में रूचि रखते हैं।

    One thought on “कंप्यूटर नेटवर्किंग क्या है? प्रकार, अन्य जानकारी”

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *