सोमवार, दिसम्बर 9, 2019

कंगना रनौत ने फिर दिखाया अपना ‘बॉसी नेचर’, “मेन्टल है क्या” की लेखक कनिका ढिल्लोन ने किया खुलासा

Must Read

झारखंड विधानसभा चुनाव 2019 : तीसरे चरण का मतदान तय करेगा आजसू का राजनीतिक भविष्य

झारखंड विधानसभा चुनाव के लिए दो चरण का मतदान संपन्न हो जाने के बाद सभी दल तीसरे चरण में...

उत्तर प्रदेश में दो और बलात्कार, औरेया में चलती कार में किया रेप, बिजनौर में नाबालिग के साथ दुष्कर्म

उत्तर प्रदेश में दुष्कर्म जैसे जघन्य अपराध को लेकर एक ओर जहां जनता में आक्रोश है, वहीं राज्य में...

रणजी ट्रॉफी : सांप के कारण विदर्भ और आंध्र प्रदेश के बीच मैच में हुई देरी

यहां विदर्भ और आंध्र प्रदेश के बीच खेला जा रहा रणजी ट्रॉफी के ग्रुप-ए का मैच सांप के कारण...
साक्षी बंसल
पत्रकारिता की छात्रा जिसे ख़बरों की दुनिया में रूचि है।

कंगना रनौत को फिल्म इंडस्ट्री में अपने ‘बॉसी नेचर’ के लिए जाना जाता है। और अभी हाल ही में, उनकी अगली फिल्म “मेन्टल है क्या” की लेखक कनिका ढिल्लोन ने भी इसी बात पर मौहर लगाई है। ज़ूमटीवी.कॉम को दिए इंटरव्यू में जब उनसे कंगना के साथ काम करने का अनुभव और क्या उनके हस्तक्षेप की रिपोर्ट सच है, के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि आपको हर निर्देशक और अभिनेता के साथ काम करने का तरीका निकालना ही होगा।

उनके मुताबिक, “हम उन लोगों के साथ काम करते हैं जिनके पास एक कलात्मक स्वभाव होता है। तो अब आपको हर निर्देशक और अभिनेता के साथ काम करने का तरीका निकालना ही होगा। कंगना का व्यक्तित्व बहुत अलग है। और उनकी एक शख्सियत है, जहां वह अपनी बात रखेगी, जो बहुत मजबूत है और एक लेखक के रूप में, मेरे पास भी एक दृष्टिकोण है जिसे मैं पकड़े रहूँगी और अगर मैं आश्वस्त नहीं हूं, तो मैं आसानी से नहीं जाने दूंगी। तो ये आप पर निर्भर करता है कि इसे कैसे सँभालते हैं। तो ये एक ही बात पर फैसला लेने के बारे में हैं।”

अनुराग कश्यप की ‘मनमर्जियां’ और अभिषेक कपूर की ‘केदारनाथ’ के साथ अपने अनुभवों पर उन्होंने कहा, “मुझे लगता है कि यह एक रचनात्मक प्रक्रिया है। क्या अब तक कुछ भी खतरनाक हुआ है? ऐसा नहीं है कि मैं आपको अभी बता सकती हूँ। हम फिल्म बनाने की प्रक्रिया में हैं और यह अभी तक अच्छी चल रही है।”

फिल्म में राजकुमार राव, जिम्मी शेरगिल, अमायरा दस्तूर और शहीर शेख भी मुख्य भूमिकाओं में दिखेंगे। इसे प्रकाश कोवेलामुदी ने निर्देशित किया है। यह पूछे जाने पर कि फिल्म से कोई क्या उम्मीद कर सकता है, ढिल्लोन ने कहा, “बहुत सारा पागलपन। कोई नियम नहीं है, पागलपन की कोई सही परिभाषा नहीं है। हम फिल्म के जरिये आपको बता रहे हैं कि पागल और संप्रदायवादी होना ठीक है।”

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

झारखंड विधानसभा चुनाव 2019 : तीसरे चरण का मतदान तय करेगा आजसू का राजनीतिक भविष्य

झारखंड विधानसभा चुनाव के लिए दो चरण का मतदान संपन्न हो जाने के बाद सभी दल तीसरे चरण में...

उत्तर प्रदेश में दो और बलात्कार, औरेया में चलती कार में किया रेप, बिजनौर में नाबालिग के साथ दुष्कर्म

उत्तर प्रदेश में दुष्कर्म जैसे जघन्य अपराध को लेकर एक ओर जहां जनता में आक्रोश है, वहीं राज्य में ऐसे मामलों को लेकर शिकायतों...

रणजी ट्रॉफी : सांप के कारण विदर्भ और आंध्र प्रदेश के बीच मैच में हुई देरी

यहां विदर्भ और आंध्र प्रदेश के बीच खेला जा रहा रणजी ट्रॉफी के ग्रुप-ए का मैच सांप के कारण देरी से शुरू हुआ। मैच...

पीएम मोदी व कांग्रेस नेताओं ने कांग्रेस अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी को दीं जन्मदिन की शुभकामनाएं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को उनके 73वें जन्मदिन की शुभकामनाएं दी। मोदी ने ट्वीट किया, "श्रीमती सोनिया गांधी...

संसद शीतकालीन सत्र : राज्यसभा ने दिल्ली अग्निकांड पर शोक जताया

राज्यसभा ने सोमवार को दिल्ली के रानी झांसी मार्ग इलाके में भयानक आग की चपेट में आकर 43 मजदूरों के मारे जाने पर शोक...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -