मंगलवार, दिसम्बर 10, 2019

क्या कंगना रनौत नेपोटिस्म के जरिये करेंगी अपने बच्चे को इंडस्ट्री में मदद? जानिए अभिनेत्री का जवाब

Must Read

मध्य प्रदेश भाजपा नेता प्रहलाद लोधी की विधानसभा सदस्यता बहाल

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के विधायक प्रहलाद लोधी की विधानसभा सदस्यता बहाल कर दी गई है। विधानसभाध्यक्ष एन. पी....

‘कुंग फू पांडा’ के निर्देशक जॉन स्टीवेन्सन भारत में काम करने को हैं तैयार

ऑस्कर के लिए नामांकित फिल्म निर्माता और अनुभवी एनिमेटर जॉन स्टीवेन्सन 'कुंग फू पांडा' और 'शरलॉक गोम्स' जैसी अपनी...

चिली का सैन्य विमान लापता, 38 लोग थे सवार

अंटार्कटिका जा रहा चिली का एक सैन्य विमान सोमवार को लापता हो गया। विमान में 38 लोग सवार थे।...
साक्षी बंसल
पत्रकारिता की छात्रा जिसे ख़बरों की दुनिया में रूचि है।

बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत जिन्होंने 2006 में फिल्म ‘गैंगस्टर’ से बॉलीवुड में डेब्यू किया था, उन्होंने बाद में ‘वोह लम्हे’, ‘लाइफ इन ए मेट्रो’, ‘क्वीन’, ‘तनु वेड्स मनु’ और ‘मणिकर्णिका’ जैसी फिल्मों से बॉलीवुड में सुपरस्टार का टैग हासिल किया है। वह बॉलीवुड में बाहर से आई है और उन्हें ये मुकाम हासिल करने के लिए बहुत संघर्ष करना पड़ा था। इसलिए उन्होंने हमेशा नेपोटिस्म के खिलाफ आवाज़ उठाई है।

हाल ही में, मिड-डे को दिए इंटरव्यू में उन्होंने फिर इस मुद्दे पर बता की। ऑडियंस राउंड के दौरान, उनसे पूछा गया कि अगर बीस साल बाद, उनका बच्चा बोलेगा कि उसे अभिनेता या निर्देशक बनना है तो क्या वह उसकी मदद करेंगी।

अभिनेत्री ने कहा कि अगर उन्होंने मदद की तो उसके अच्छे निर्देशक बनने की संभावना मात्र 50 प्रतिशत तक रह जाएगी और ये भी कहा कि अगर वे वास्तव में उसकी परवाह करती हैं तो वह उसे अपना रास्ता खुद बनाने देंगी। उनके मुताबिक, “अगर मैं माँ होने के नाते वास्तव में उसकी परवाह करती हूँ, मैं उसे अपना रास्ता खुद बनाने दूंगी क्योंकि वह किसी भी चीज़ से, कही से भी अच्छी ज़िन्दगी बना सकता है।”

उन्होंने आगे कहा-“लेकिन अगर मैं चाहती हूँ कि वह असाधारण व्यक्ति बने, मुझे उसे समुन्द्र में फेंक देना चाहिए। या तो वह डूब जाएगा या पार कर जाएगा।”

उन्होंने ये भी साझा किया कि उनका भाई पिछले चार साल से पायलट बनने के लिए संघर्ष कर रहा है और नौकरी ढून्ढ रहा है, जबकि वह एक कॉल कर उसकी मदद कर सकती हैं मगर वो ऐसा करेंगी नहीं। उन्होंने कहा-“उसे वो नौकरी दिलाने का मेरे पास कोई मतलब नहीं है। लेकिन एक महान मानव को उस संघर्ष से बाहर निकलते हुए देखने के लिए, हर दिन – अस्वीकृति, निराशा, लाचारी के माध्यम से – ऐसे मैं अपने भाई को देखना वास्तव में पसंद करुँगी।”

पूरी नेपोटिस्म बहस तब शुरू हुई जब कंगना ने फिल्ममेकर करण जौहर को उन्ही के शो ‘कॉफ़ी विद करण’ पर ‘नेपोटिस्म का ध्वजधारक’ कह दिया था।

फिल्मों की बात की जाये तो, कंगना ने अश्विनी अय्यर तिवारी की फिल्म ‘पंगा’ की शूटिंग खत्म कर ली है और इन दिनों राजकुमार राव के साथ फिल्म ‘मेंटल है क्या’ की शूटिंग कर रही हैं। उसके बाद वह, तमिल नाडु की पूर्व सीएम जयललिता की बायोपिक में दिखाई देंगी।

 

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

मध्य प्रदेश भाजपा नेता प्रहलाद लोधी की विधानसभा सदस्यता बहाल

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के विधायक प्रहलाद लोधी की विधानसभा सदस्यता बहाल कर दी गई है। विधानसभाध्यक्ष एन. पी....

‘कुंग फू पांडा’ के निर्देशक जॉन स्टीवेन्सन भारत में काम करने को हैं तैयार

ऑस्कर के लिए नामांकित फिल्म निर्माता और अनुभवी एनिमेटर जॉन स्टीवेन्सन 'कुंग फू पांडा' और 'शरलॉक गोम्स' जैसी अपनी फिल्मों के लिए जाने जाते...

चिली का सैन्य विमान लापता, 38 लोग थे सवार

अंटार्कटिका जा रहा चिली का एक सैन्य विमान सोमवार को लापता हो गया। विमान में 38 लोग सवार थे। देश की वायु सेना ने...

लोकसभा में 311 मतों के समर्थन के साथ पारित हुआ नागरिकता संशोधन विधेयक

लोकसभा में आखिरकार सोमवार की आधी रात के बाद नागरिकता संशोधन विधेयक पारित कर दिया। जिसमें पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान से आने वाले गैर-मुस्लिम...

महिला सुरक्षा को लेकर यूपी पुलिस हुई सजग, अब रात में महिलाओं को सुरक्षित पहुंचाएगी घर

हैदराबाद और उन्नाव की घटना के बाद से उत्तर प्रदेश पुलिस महिला सुरक्षा को लेकर और सजग होने जा रही है। अब रात में...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -