शुक्रवार, दिसम्बर 6, 2019

ईश्वर और धर्म पर लिखे अल्बर्ट आइंस्टीन का पत्र 29 लाख डॉलर में हुआ नीलाम

Must Read

बंगाल दुष्कर्म-हत्या पीड़िता के परिजनों ने तेलंगाना पुलिस की प्रशंसा की

हैदराबाद की एक पशु चिकित्सक युवती से सामूहिक दुष्कर्म करने के बाद उसकी हत्या करने के चार आरोपियों के...

हैदराबाद टी-20 : भारत ने वेस्टइंडीज को बल्लेबाजी के लिए बुलाया

भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली ने यहां राजीव गांधी अंतर्राष्ट्रीय स्टेडियम में शुक्रवार को खेले जा रहे पहले...

देश में 2025 तक 6.99 करोड़ हो जाएंगे मधुमेह रोगी : केंद्र सरकार

केंद्र सरकार का मानना है कि देश में मधुमेह इतनी तेजी से फैल रहा है कि आने वाले पांच...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

अल्बर्ट आइंस्टीन द्वारा लिखे गए पत्रों की नीलामी करीब 2.9 मिलियन डॉलर में हुई है, बीबीसी नें इस बात की जानकारी दी। इस नीलामी में ईश्वर पर लिखे गए अल्बर्ट आइंस्टीन के पत्र की कीमत 1.5 मिलियन डॉलर बताई जा रही है।

74 वर्षीय नोबेल विजेता वैज्ञानिक ने अपने किसी काम के सिलसिले में जर्मन फिलोस्फेर एरिक गुत्किंद को 3 जनवरी 1954 को डेढ़ पन्नों का पत्र लिखा था। एरिक ने अपनी पुस्तक ‘चूज लाइफ: द बिबिकल कॉल तो रिवोल्ट’ की प्रति अल्बर्ट आइंस्टीन को भेजी थी।

einstein letter
स्त्रोत: रायटर्स

सूत्रों के मुताबिक इस चिट्ठी में विज्ञान और धर्म की बहस है। ख़बरों के मुताबिक उन्होंने यह पत्र अपनी मृत्यु से एक वर्ष पूर्व लिखा था, इसमें धर्म और फिलोसफी पर अपने पूर्ण विचार पेश किये थे। अल्बर्ट आइंस्टीन ने इस पत्र में ईश्वर पर लिखा कि ‘ मेरे लिहाज से ईश्वर का अर्थ मानव कमजोरी के भाव और फल है’। ‘बाइबिल सम्मानितों का संग्रह है लेकिन प्राचीन दिव्य चरित्रों की गाथा है’। ‘दिव्य चरित्र बचकाना हर्कत्न के बढ़कर नहीं है’।

उन्होंने कहा कि कोई व्याख्या, कोई सूक्ष्म मेटे जीवन में कोई परिवर्तन नहीं ला सकता है। अल्बर्ट आइंस्टीन जर्मन के पैदा हुए एक यहूदी धर्म से ताल्लुक रखते थे, यहूदियों से मोहब्बत और पहचान को वह स्वीकार करते थे। लेकिन उनका मानना था कि अन्य धर्मों की तरह यहूदी धर्म में भी भरसक अन्धविश्वास है।

विशेषज्ञ पीटर क्लार्नेट ने बताया की अल्बर्ट आइंस्टीन का यह पत्र धर्म और विज्ञान के बहस को परिभाषित करता है। उन्होंने कहा कि अल्बर्ट आइंस्टीन के पात्र और दस्तावेज समय समय पर नीलामी के लिए रखे जाते हैं , उसके लिए ऐसे पत्रको की कतई आवश्यकता नहीं है।

अल्बर्ट आइंस्टीन ने साल 1939 में अमेरिका के राष्ट्रपति फ्रेंक्लिन रोस्स्वेल्ट को एक पत्र लिखा था। इस चिट्ठी में खतरनाक परमाणु बम तकनीक थी। इस चिट्ठी को 2 मिलियन डॉलर में बेचा गया था।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

बंगाल दुष्कर्म-हत्या पीड़िता के परिजनों ने तेलंगाना पुलिस की प्रशंसा की

हैदराबाद की एक पशु चिकित्सक युवती से सामूहिक दुष्कर्म करने के बाद उसकी हत्या करने के चार आरोपियों के...

हैदराबाद टी-20 : भारत ने वेस्टइंडीज को बल्लेबाजी के लिए बुलाया

भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली ने यहां राजीव गांधी अंतर्राष्ट्रीय स्टेडियम में शुक्रवार को खेले जा रहे पहले टी-20 मैच में टॉस जीतकर...

देश में 2025 तक 6.99 करोड़ हो जाएंगे मधुमेह रोगी : केंद्र सरकार

केंद्र सरकार का मानना है कि देश में मधुमेह इतनी तेजी से फैल रहा है कि आने वाले पांच वर्षो में मुधमेह रोगियों की...

हितों के टकराव के कारण पूर्व क्रिकेटरों को बोर्ड में लाना मुश्किल : सौरभ गांगुली

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) अध्यक्ष सौरभ गांगुली ने टीम के मुख्य कोच रवि शास्त्री और उनके बीच विवादों की खबरों को सिरे से...

‘किसी भी बलोच को जबरन पाकिस्तानी नहीं बनाया जा सकता’: बलूचिस्तान नेशनल पार्टी (मेंगल)

पाकिस्तान में सत्तारूढ़ इमरान सरकार को नेशनल एसेंबली में अपनी सहयोगी बलोच पार्टी, बलोचिस्तान नेशनल पार्टी-मेंगल के तीखे तेवरों का सामना करना पड़ा। पार्टी...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -