शनिवार, दिसम्बर 14, 2019

ईरान पर 5 नवंबर से तेल प्रतिबंध होंगे जारी: अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प

Must Read

मानव विकास के मामले में पाकिस्तान दक्षिण एशिया में भी फिसड्डी

मानव विकास सूचकांक (एचडीआई) की ताजा रैंकिंग में पाकिस्तान के बीते साल के मुकाबले एक स्थान और पीछे खिसकर...

वनडे सीरीज में टी-20 विश्व कप की तैयारियों पर होगा ध्यान : भरत अरुण

भारतीय टीम के गेंदबाजी कोच भरत अरुण ने कहा है कि बेशक भारत रविवार से विंडीज के खिलाफ तीन...

सलमान खान की पटकथा पर कभी भरोसा नहीं करते पिता सलीम खान

सलमान खान ने कहा कि उनके पिता और प्रसिद्ध पटकथा लेखक सलीम खान अपने सुपरस्टार बेटे की पटकथा पर...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा है कि ईरान पर दूसरे चरण के प्रतिबंध 5 नवंबर से प्रभावी हो जाएंगे। उन्होंने कहा कि वह ईरान के दुनिया के सबसे खतरनाक हथियार के निर्माण करने पर रोक लगाएंगे। अमेरिका ने साल 2015 में ईरान के साथ हुई परमाणु संधि को तोड़ दिया था और ईरान पर प्रतिबंध लगा दिए थे।

भारत ने प्रतिबंधों के बावजूद ईरान से तेल आयात करने का निर्णय लिया है ऐसे में भारत को भी अमेरिका के कड़े प्रतिबंधों का सामना करना पड़ सकता है। अमेरिका ने चेतावनी दी थी कि भारत सहित सभी देशों को ईरान से तेल खरीदना 5 नवंबर तक शून्य कर देना चाहिए।

इन प्रतिबंधों से बचने के लिए भारत को अमेरिका से रियायत लेनी होगी या ईरान से तेल का आयात शून्य करना होगा।

डोनाल्ड ट्रम्प ने साथ ही कहा कि ईरान के साथ ही लेबनान के आतंकी समूह हिज़बुल्लाह पर भी कड़े प्रतिबंध लगाए जाएंगे। ईरान में सुधार नही हुआ तो और प्रतिबंध थोपे जाएंगे।

डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा कि विश्व के सबसे बड़े आतंकवाद के समर्थक को खतरनाक हथियार के निर्माण की अनुमति अमेरिका कतई नही देगा। उन्होंने कहा वह ऐसा होने नहीं देंगे।

अमेरिका की सरकार ने साफ कहा है कि 4 नवंबर के बाद जो देश ईरान के साथ सौदेबाज़ी करता है उस देश में अमेरिका की आर्थिक और बैंकिंग प्रणाली पर रोक लगा दी जाएगी।

भारत ने ईरान से तेल आयात में कमी की है। ईरान भारत का तीसरा सबसे बड़ा तेल आपूर्तिकर्ता है ऐसे में भारत के लिए तेल आयात को शून्य करना मुश्किले बढ़ा सकता है।

भारत और अमेरिका तेल आयात को शून्य करने के बाबत बातचीत कर रहे हैं। हाल ही हुई 2+2 वार्ता के दौरान अमेरिका के अधिकारियों ने भारत को तेल आयात शून्य करने में रियायत देने का आश्वसान दिया था।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

मानव विकास के मामले में पाकिस्तान दक्षिण एशिया में भी फिसड्डी

मानव विकास सूचकांक (एचडीआई) की ताजा रैंकिंग में पाकिस्तान के बीते साल के मुकाबले एक स्थान और पीछे खिसकर...

वनडे सीरीज में टी-20 विश्व कप की तैयारियों पर होगा ध्यान : भरत अरुण

भारतीय टीम के गेंदबाजी कोच भरत अरुण ने कहा है कि बेशक भारत रविवार से विंडीज के खिलाफ तीन मैचों की वनडे सीरीज की...

सलमान खान की पटकथा पर कभी भरोसा नहीं करते पिता सलीम खान

सलमान खान ने कहा कि उनके पिता और प्रसिद्ध पटकथा लेखक सलीम खान अपने सुपरस्टार बेटे की पटकथा पर कभी भरोसा नहीं करते। 'दबंग...

हम नए नागरिकता कानून के खिलाफ हैं : दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शुक्रवार को कहा कि उनकी पार्टी नागरिकता संशोधन विधेयक (कैब) के खिलाफ है, जो अब कानून बन गया...

महंगाई जनित सुस्ती पर कोई टिप्पणी नहीं करना चाहती : वित्त मंत्री नर्मला सीतारमण

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शुक्रवार को महंगाई जनित सुस्ती (स्टैगफ्लेशन) पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया। उन्होंने कहा कि मैंने सुना है...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -