Sun. Jul 21st, 2024
    इमरान खान ने दिया नसीरुद्दीन शाह का साथ

    फिल्म अभिनेता नसीरुद्दीन शाह के ‘देश में डर लगता है’ वाले बयान पर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा था कि “जिन्ना ने देख लिया था कि भारत में मुसलमान खुश नहीं रहेंगे, इसलिए उन्होंने पाकिस्तान की मांग की थी।” इमरान ने आगे कहा कि वो भारतीय सरकार को दिखाएँगे कि अल्पसंख्यकों के साथ कैसा बर्ताव किया जाता है। उसके बाद भारतीय जनता पार्टी सहित देश के सभी राजनितिक दलों ने इमरान खान के बयान पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की।

    भाजपा के प्रवक्ता संबित पात्रा ने इमरान खान को लताड़ लगाते हुए कहा कि भारत को इस्लामिक आतंकवादी देश पाकिस्तान से कुछ भी सीखने की जरूरत नहीं है। पाकिस्तान एक आतंकवादी देश है जिसने ओसामा बिन लादेन को आश्रय दिया।

    संबित पात्रा ने कांग्रेस पर भी हमला करते हुए कहा कि इमरान कांग्रेस को बहुत कुछ सिखा सकते हैं उनके नेताओं को पाकिस्तान बहुत अच्छा लगता है। पात्रा का आशय नवजोत सिंह सिद्धू से था, जिन्होंने करतारपुर कॉरिडोर खोले जाने के बाद सिद्धू और पाकिस्तान की बहुत तारीफ़ की थी।

    भाजपा सांसद और केन्द्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने भी इमरान खान को लताड़ लगते हुए कहा कि आज़ादी के बाद पाकिस्तान में हिंदू 23% से घट के 2% हो गए और हिंदुस्तान में मुसलमान 8% से बढ़कर 20% हो गए। पाकिस्तान को हमें कुछ भी सिखाने की जरूरत नहीं है।

    एआईएमआईएम के अध्यक्ष असद्दुदीन ओवैसी ने भी इमरान खान को उनके बयां के लिए कड़ी फटकार लगाई और कहा कि पाकिस्तान में सिर्फ एक मुसलमान को हक़ है राष्ट्रपति बनने का लेकिन भारत में कई मुसलमान राष्ट्रपति हुए हैं। पाकिस्तान को भारत से बहुत कुछ सीखने की जरूरत है।

    गौरतलब है कि नसीरुद्दीन शाह ने बुलंदशहर हिंसा पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा था कि उन्हें इस देश में अपने  बच्चों के लिए डर लगता है। उन्होंने कहा था  “अगर कभी भीड़ ने मेरे बच्चो पर हमला कर दिया और पूछ लिया कि वे हिन्दू हैं या मुस्लिम, तो उनके पास कोई जवाब नहीं होगा।

    ये भी पढ़ें: इमरान खान की आलोचना पर नसीरुद्दीन शाह ने लगाई फटकार, अपने मुल्क पर ध्यान दें

    By आदर्श कुमार

    आदर्श कुमार ने इंजीनियरिंग की पढाई की है। राजनीति में रूचि होने के कारण उन्होंने इंजीनियरिंग की नौकरी छोड़ कर पत्रकारिता के क्षेत्र में कदम रखने का फैसला किया। उन्होंने कई वेबसाइट पर स्वतंत्र लेखक के रूप में काम किया है। द इन्डियन वायर पर वो राजनीति से जुड़े मुद्दों पर लिखते हैं।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *