Thu. Oct 6th, 2022
    vinta nanda alok nath

    समाचार एजेंसी एएनआई की रिपोर्ट के अनुसार, लेखक-निर्माता विंता नंदा द्वारा अभिनेता आलोक नाथ पर लगाए गए यौन शोषण के आरोप मामले में शनिवार को अलोक नाथ को बेल दे दी गई है।

    8 अक्टूबर, 2018 को, विंता नंदा ने एक विस्तृत फेसबुक पोस्ट में अलोक नाथ पर यह आरोप लगाया कि नाथ ने 19 साल पहले विंता का बलात्कार किया था। और उन्हें अभिनेत्री के साथ दुर्व्यवहार करने के कारण प्रतिष्ठित शो ‘तारा’ से निकाल दिया गया था।

    सोशल मीडिया पर उत्पीड़न के अपने अनुभव को साझा करने के बाद, उन्होंने आलोक नाथ के खिलाफ ओशिवारा पुलिस स्टेशन में मामला दर्ज कराया। अलोक के खिलाफ ओशिवारा पुलिस में दर्ज की गई प्राथमिकी में आईपीसी (बलात्कार) की धारा 376 के तहत आरोप लगाए गए थे।

    मीटू में फंसे आलोक नाथ

    अपने पोस्ट में, नंदा ने लिखा था कि, “वह एक शराबी, बेशर्म और अप्रिय था लेकिन वह उस दशक का टेलीविजन स्टार भी था, इसलिए उसे उसके बुरे व्यवहार के लिए माफ कर दिया गया था।

    मेरी प्रमुख महिला अभिनेत्री वह परेशान किये जा रहा था। वह सेट पर उसके साथ खिलवाड़ करता और हर कोई चुप रहता। जब उसने हमसे शिकायत की, तो हमने उसे निकाल देने का फैसला किया। ”

    आरोपों के जवाब में नाथ ने कहा, “न तो मैं इससे इनकार कर रहा हूं और न ही मैं इससे सहमत हूं। यह (बलात्कार) हुआ होगा, लेकिन किसी और ने किया होगा।”

    चूंकि विंता और आलोक दोनों CINTAA के सदस्य थे, इसलिए एसोसिएशन ने आरोपियों को एक पत्र भी भेजा था, जो आरोप पर स्पष्टीकरण मांग रहे थे।

    आलोक नाथ के खिलाफ़ एफआईआर दर्ज़ कराने के बाद लेखिका और निर्देशक विंता नंदा ने कहा है कि अगर आलोक को पश्चताप और पछतावा होगा तो वह उन्हें क्षमा कर सकती हैं। विंता ने कहा है कि,

    “मैं किसी प्रकार का बदला नहीं लेना चाहती हूँ। मैं सिर्फ सुधार चाहती हूँ बदला नहीं। कुछ पश्चाताप करो। तुम्हे हो रहे पछतावे का संकेत दो।

    मुझे इस बारे में निश्चिंत करो कि जैसा मेरे साथ हुआ अब किसी के साथ नहीं होगा। अभी तो मुझे सिर्फ घमंड और बेशर्मी ही नज़र आ रही है। अगर जैसा मैं चाहती हूँ वैसा हुआ तो मैं समझूंगी कि मेरी लड़ाई सफल रही।”vinta nanda alok nath

    इस वारदात से जुड़े क़ानूनी मसले के बारे में विंता ने बताया कि एफआईआर मंगलवार को दर्ज़ हुआ था और मीडिया को इसबारे में बुधवार की सुबह पता चला है। विंता ने आगे कहा कि,

    “यदि मीडिया नहीं होता तो मैं इस लड़ाई में इतनी दूर नहीं आ पाती। अपने दोस्तों से बहुमूल्य सहयोग पाकर मैं खुद को भाग्यशाली महसूस करती हूँ।”

    विंता ने बताया कि इस लड़ाई में वह अकेली नहीं हैं उनके साथ उनकी माँ, परिवार के कई सदस्य और मित्र भी खड़े हैं। विंता की तरफ से मुंबई की तीन सबसे अच्छी वकील बिना पैसे के यह केस लड़ रही हैं। विंता ने बताया कि इस लड़ाई में उन्हें पैसे की चिंता करने की की जरूरत ही नहीं है।

    विंता को लगता है कि मीटू मूवमेंट ने हमारे देश को जगा दिया है और देश के निवासियों को उनकी जिम्मेदारियों से अवगत कराया है। उन्होंने आगे कहा कि,

    “आपत्तिजनक हरकतों को अब और नहीं सहा जाएगा। बहुत सी औरतों के साथ बलात्कार, शोषण आदि होता आया है। उन आदमियों को जिन्होंने औरतों को परेशान करके रखा था अब अपने पित्रसत्तात्मक विचारों को दुबारा तौलना पड़ रहा है।

    पहले उन्हें जो चीज़े साधारण लगती थी अब उनके लिए गंभीर समस्या बन सकती है और यह बात वे अच्छी तरह समझने लगे हैं।”

    आलोक नाथ के द्वारा इन आरोपों को खारिज कर दिए जाने की वजह से विंता को आश्चर्य हुआ है विंता को लगता है कि जहाँ आलोक नाथ को माफ़ी मांगनी चाहिए वहां वह भड़क रहे हैं। अपने स्थान पर अपनी पत्नी को बोलने के लिए खड़ा करने पर विंता ने अलोक पर निशाना साधते हुए कहा है कि,

    “हमारे समाज में औरतें आज भी अपने पति के लिए बोलती हैं। चाहे उनके पति कितने भी गलत क्यों न हों। इस बेशर्त सहयोग का आदमी फायदा उठाते हैं।”

    यह भी पढ़ें: गली बॉय का टीज़र देख अर्जुन कपूर ने आलिया भट्ट को कहा छोटी मेरिल स्ट्रीप

    By साक्षी सिंह

    Writer, Theatre Artist and Bellydancer

    Leave a Reply

    Your email address will not be published.