Fri. May 24th, 2024
    आर्थिक संकटो में डूबा श्रीलंका; विदेशी मुद्रा भंडार में इतना खजाना तक नहीं है की काग़ज़ निर्यात कर स्कूलों में परीक्षाएं तक करवा सके

    श्रीलंका (Sri Lanka) में छपाई के काग़ज़  खत्म व आयात के लिए डॉलर की भारी कमी होने की वजह से लाखों छात्रों के लिए अधिकारियों को परीक्षा रद्द करनी पड़ी। 

    शिक्षा अधिकारियों ने कहा कि 28 मार्च को होने वाली परीक्षाओं को अनिश्चित काल के लिए स्थगित कर दिया जाएगा क्योंकि देश में 1948 में आज़ादी के बाद से  अब सबसे खराब वित्तीय संकट (economic crisis) आया है।

    पश्चिमी प्रांत के शिक्षा विभाग का कहना है, “स्कूल के प्रिंसिपल परीक्षण नहीं कर सकते क्योंकि प्रिंटर आवश्यक काग़ज़  और स्याही आयात करने के लिए विदेशी मुद्रा सुरक्षित करने में देश अशक्त हैं।”

    परीक्षा रद्द होने से लगभग 45 लाख छात्रों का भविष्य अनिश्चित है।

    सत्र के अंत में छात्रों को अगली कक्षा में पदोन्नत किया जाता है या नहीं, इसका निर्णय करने में टर्म टेस्ट एक सतत मूल्यांकन प्रक्रिया का हिस्सा हैं।

    श्रीलंका में विदेशी मुद्रा भंडार है लगभग खाली; IMF से लगाई गुहार 

    महत्वपूर्ण आयात को निधि देने के लिए विदेशी मुद्रा भंडार की कमी के कारण होने वाले गंभीर आर्थिक संकट के कारण देश भोजन, गैसोलीन और दवाओं की भारी कमी से गुज़र रहा है।  श्रीलंका ने इस सप्ताह घोषणा की कि वह अपने बिगड़ते विदेशी ऋण संकट को हल करने और बाहरी भंडार को बढ़ाने के लिए आईएमएफ से खैरात की मांग करेगा।

    राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे के बुधवार को Bailout  पर बातचीत करने के आश्चर्यजनक अनुरोध की पुष्टि अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (International Monetary Fund) ने शुक्रवार को की।

    चीन से लिया है काफ़ी कर्ज़ा 

    कोलंबो के पास लगभग 6.9 बिलियन डॉलर का ऋण है जो उसे इस साल चुकाना है, लेकिन फरवरी के अंत में उसके पास विदेशी मुद्रा भंडार में लगभग 2.3 बिलियन डॉलर थे।

    श्रीलंका ने इस वर्ष की शुरुआत में अपने मुख्य लेनदारों में से एक चीन से ऋण चुकाने में मदद करने के लिए गुकार लगायी थी परन्तु बीजिंग की ओर से अभी तक कोई आधिकारिक प्रतिक्रिया नहीं आई है।

    पूर्व राष्ट्रपति महिंदा राजपक्षे ने अपने गृह क्षेत्र में आर्थिक विकास को प्रोत्साहित करने के लिए चीन समर्थित हंबनटोटा अंतर्राष्ट्रीय बंदरगाह की वकालत की थी।  वह आलोचकों की सलाह के खिलाफ गए थे जिनका कहना था इससे देश पर आर्थिक संकट आ सकता है। अपने प्रारंभिक कई वर्षों के अस्तित्व के दौरान, साइट के उपयोगकर्ताओं की एक छोटी संख्या थी।

    2017 में, सरकार ने बंदरगाह परिसर में  85 प्रतिशत  हिस्सेदारी (stake) एक चीनी कंपनी  को 99 साल की lease पर $ 1.2 बिलियन जुटाने के लिए सौंप दी था। इसका कारण था श्रीलंका का चीन से लिया हुआ $ 8 बिलियन से अधिक ऋण नहीं चुका पाना।  

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *