Fri. Jun 14th, 2024
    विराट कोहली-धोनी

    जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में 14 फरवरी को हुए आतंकवादी हमले में 40 से अधिक सीआरपीएफ जवानों के शहीद होने के बाद टीम इंडिया ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ तीसरे एकदिवसीय मैच के दौरान छलावरण टोपी पहनकर मैच खेला था। पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) को भारतीय क्रिकेट टीम का यह फैसला बिलकुल भी रास नही आया और उन्होने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) को पत्र लिखा और कहा कि विराट कोहली और उनकी टीम के खिलाफ क्रिकेट में ‘राजनीतिकरण’ फैलाने के लिए कार्रवाई हो।

    बीसीसीआई के इस कदम का पाकिस्तान से भी सामना हुआ, जहां सूचना मंत्री फवाद चौधरी ने आईसीसी से भारतीय टीम को खेल के साथ राजनीति का मिश्रण करने पर प्रतिबंध लगाने के लिए कहा। पीसीबी के चेयरमैन एहसान मणि ने सुझाव दिया कि उन्होंने भारतीय टीम के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की उम्मीद करते हुए ‘आईसीसी के साथ मजबूती से अपनी बात रखी है।

    आईसीसी के प्रवक्ता क्लेयर फर्लांग ने हालांकि सोमवार को एक ई-मेल में एसोसिएटेड प्रेस को बताया कि भारतीय बोर्ड ने धन उगाहने वाले अभियान को करने के लिए पूर्व अनुमति ले ली थी, और इसलिए ऐसा कुछ नहीं है जिसके लिए उन्हें फटकार लगाई जा सके।

    फर्लांग ने कहा, ” बीसीसीआई ने आईसीसी से पहले ही आर्मी कैप पहनकर खेलने की अनुमति ली थी क्योंकि टीम शहीद हुए जवाने के लिए धन जोड़ना चाहती थी। जिससे हमने मंजूर कर लिया था।”

    मणि ने इससे पहले भारत के खिलाफ खेल को राजनीति में शामिल करने के लिए कार्रवाई की मांग करते हुए मोइन अली और इमरान ताहिर के उदाहरणों का हवाला दिया था। अली ने “सेव गाजा” और “फ्री फिलिस्तीन” कलाई बैंड के लिए 5 साल पहले प्रतिबंध का सामना किया था, जबकि ताहिर को 2017 में उनकी टी-शर्ट के नीचे पाकिस्तान पॉप गायक जुनैद जमशेद की छवि को दान करने के लिए दंडित किया गया था।

    मणि ने कहा, “आपके पास अतीत से दो उदाहरण हैं, जहां इमरान ताहिर और मोइन अली दोनों को कुछ इसी तरह के लिए मंजूरी दी गई थी।” “आईसीसी ने उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की थी और हमने भारत के खिलाफ भी इसी तरह की कार्रवाई की मांग की है। उन्होंने जो अनुमति ली थी वह एक अलग उद्देश्य के लिए थी लेकिन उन्होंने अलग तरह से काम किया।”

    By अंकुर पटवाल

    अंकुर पटवाल ने पत्राकारिता की पढ़ाई की है और मीडिया में डिग्री ली है। अंकुर इससे पहले इंडिया वॉइस के लिए लेखक के तौर पर काम करते थे, और अब इंडियन वॉयर के लिए खेल के संबंध में लिखते है

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *