Sun. Jul 21st, 2024
    सुब्रमण्यम स्वामी

    भाजपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व कानून मंत्री सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा है कि अगली दीवाली तक अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण हो जाएगा। सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा कि जल्द ही अयोध्या में प्रस्तावित राम मंदिर का निर्माण कार्य शुरू होगा। उन्होंने कहा कि अगले वर्ष दीवाली तक राम मंदिर श्रद्धालुओं के लिए तैयार हो जाएगा। स्वामी ने कहा कि चुनाव में कामयाबी के भाजपा को हिंदुत्व की विचारधारा को जगाना होगा और उसी पर चलना होगा। राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने ये बातें बिहार की राजधानी पटना में विराट हिन्दू संगम की तरफ तरफ से आयोजित एक सेमिनार में कही। उन्होंने कहा कि अयोध्या में प्रस्तावित राम मंदिर का निर्माण कार्य तुरंत या थोड़े समय बाद शुरू हो जाएगा।

    सुब्रमण्यम स्वामी ने बीते शनिवार को बिहार की राजधानी पटना में आयोजित विराट हिन्दू संगम के सेमिनार को सम्बोधित करते हुए कहा, “चुनाव में कामयाबी हासिल करने के लिए ये जरूरी है कि हिंदुत्व की विचारधारा को फिर से जगाया जाए।” सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा कि उत्तरी बिहार के सीतामढ़ी में भव्य जानकी मंदिर का निर्माण भी कराया जाएगा। उन्होंने कहा कि सीतामढ़ी में इस मंदिर के निर्माण के लिए विराट हिन्दू संगम प्रयास करेगा क्योंकि सीतामढ़ी में ही माता जानकी का जन्म हुआ था। माता जानकी मंदिर के निर्माण पर सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा , “जगत जननी जानकी के बिना मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम की कल्पना नहीं की जा सकती।” पेशे से वकील और राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी राम मंदिर आन्दोलन से जुड़े हुए हैं और विवादास्पद मुद्दों पर अपनी बेबाक राय रखने के लिए जाने जाते हैं।

    सेमिनार में सुब्रमण्यम स्वामी ने देश के मौजूदा राजनीतिक हालातों के विषय पर भी चर्चा की। सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा कि विपक्षी दल भाजपा को हराने के लिए तुष्टीकरण की राजनीति कर रहे हैं। ऐसे हालातों में चुनाव में जीत हासिल करने के लिए भाजपा को पुनः हिंदुत्व की विचारधारा को जगाना होगा। सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा कि उत्तरी बिहार के सीतामढ़ी में जगत जननी विश्वविद्यालय की स्थापना भी की जाएगी। विश्वविद्यालय की स्थापना का कार्य विराट हिन्दू संगम करेगा। विश्वविद्यालय के पाठ्यक्रम में प्राचीन भारत की शिक्षा को प्रमुखता दी जाएगी। इसके अतिरिक्त विश्वविद्यालय में कन्टेमपररी वोकेशनल ट्रेनिंग भी दी जाएगी।

    उत्तर प्रदेश में अयोध्या स्थित राम जन्मभूमि का मामला सदियों से विवादित रहा है। पिछले तीन दशकों से यह मामला देश की राजनीति का केंद्र बिंदु बनकर उभरा है और इसी की वजह से भाजपा की पहचान हिंदूवादी दल के रूप में हुई है। इस सम्बन्ध में समय-समय पर भाजपा नेताओं के बयान आते रहे हैं। बीते दिनों उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा था कि अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण देश के जनता की भावना है। वही योगी सरकार में स्वास्थ्य मंत्री के पद पर काबिज सिद्धार्थनाथ सिंह ने कहा था कि वर्ष 2019 से पहले अयोध्या में भव्य राम मंदिर का निर्माण कार्य पूरा हो जाएगा। आज केंद्र में भाजपा की सरकार है और उत्तर प्रदेश में भी योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में भाजपा सत्ता पर काबिज है। ऐसे में देशभर के लोगों की निगाहें इस ओर टिकी हैं कि क्या अयोध्या में राम मंदिर निर्माण होगा?

    By हिमांशु पांडेय

    हिमांशु पाण्डेय दा इंडियन वायर के हिंदी संस्करण पर राजनीति संपादक की भूमिका में कार्यरत है। भारत की राजनीति के केंद्र बिंदु माने जाने वाले उत्तर प्रदेश से ताल्लुक रखने वाले हिमांशु भारत की राजनीतिक उठापटक से पूर्णतया वाकिफ है।मैकेनिकल इंजीनियरिंग में स्नातक करने के बाद, राजनीति और लेखन में उनके रुझान ने उन्हें पत्रकारिता की तरफ आकर्षित किया। हिमांशु दा इंडियन वायर के माध्यम से ताजातरीन राजनीतिक और सामाजिक मुद्दों पर अपने विचारों को आम जन तक पहुंचाते हैं।