अमीबा में पोषण कैसे होता है? प्रक्रिया

nutrition in amoeba in hindi अमीबा में पोषण

विषय-सूचि

अमीबा में पोषण कैसे होता है? (nutrition in amoeba in hindi)

अमीबा एक प्रकार का सिंगल-कोशिका प्रोटोज़ोअल जीव होता है। एक अमीबा में न्यूट्रीशन एक प्रक्रिया के माध्यम से होता है जिसे फागोसाइटोसिस कहा जाता है।

यह भोजन ज्यादातर छोटे बैक्टीरिया, एलगी या अन्य पौधे या मृत जानवर जो अमीबा के आसपास उपलब्ध होता है। यह एक आश्चर्य की बात है कि अमीबा, जिनके पास मुंह नहीं होता है और न ही कोई सक्शन तंत्र वास्तव में भोजन लेते हैं, यह केवल और केवल आकारहीन सेल्स हैं।

अमीबा और संरचना के बुनियादी घटक:

अमीबा एक सूक्ष्म यूनिसेलर जीव होता है। यह ज्यादातर तालाब के पानी जैसे स्थानों में रहता है। इसकी संरचना में निम्नलिखित बुनियादी घटक शामिल होते हैं:

  1. एक सेल मेम्ब्रेन(Cell-membrane)
  2. एक न्यूक्लियस(Nucleus)
  3. साइटोप्लाज्म – एंडोप्लाज्म और एक्टोप्लाज्म
  4. छोटे भोजन वैक्यूल्स (ये छोटे बुलबुले की तरह दिखते हैं)
  5. उंगलियों की तरह दिखने वाले प्रोजेक्शन को स्यूडोपोडिया कहा जाता है (जिसे “झूठे पैर” भी कहा जाता है)

अमीबा में पोषण की प्रक्रिया (process of nutrition in amoeba in hindi)

अमीबा में पोषण की प्रक्रिया

सेल सामग्री एक आकारहीन सेल मेम्ब्रेन से घिरी होती है। सेल के अंदर, एक घना न्यूक्लियस होता है, कुछ बुलबुले की तरह कॉन्ट्रैक्टाइल वैक्यूलस्(contractile vacuoles) होते हैं, और ये सभी साइटोप्लाज्म से घिरे होते हैं। जब अमीबास पास के कुछ भोजन को सेंस करते हैं तो वे अपने सुडोपोडिया(pseudopodia) या झूठे पैर के साथ इसकी ओर बढ़ते हैं। अमीबा कुछ खाना महसूस करता है और खुद को खाद्य कण की ओर प्रोजेक्ट करने के लिए तैयार हो जाता है।

सेल का साइटोप्लाज्म सेल मेम्ब्रेन की सीमा को push करता है उंगली की तरह के आकार या प्रोजेक्शन बनाता है। ये प्रोजेक्शन जब भोजन को छूते हैं, तब यह एक खाद्य वैक्यूल बनाते हैं। यह वैक्यूल तब सेल में गहराई से पहुंचाया जाता है। भोजन वैक्यूल के अंदर, एंजाइम नामक डाइज़ेस्टीव जूस होते हैं। एंजाइम जटिल खाद्य अणुओं को घुलनशील प्रकृति के सरल पदार्थों में पूर्ण पाचन में मदद करते हैं। इसके बाद, पोषक तत्व भोजन वैक्यूल की दीवार के माध्यम से अमीबा के शरीर में अवशोषित हो जाते हैं। इस प्रक्रिया को हम डिफ्फ्यूशन के नाम से जानते हैं।

भोजन अमीबा के सेल बॉडी में सचमुच फैलता है। यदि अमीबा ने उसकी जरूरत से ज्यादा भोजन किया है, तो अतिरिक्त ऊर्जा साइटोप्लाज्म में ही संग्रहित हो जाती है। अवांछित सामग्री खाद्य वैक्यूल में बनी हुई होती है और अब इस अवांछित सामग्री को उत्सर्जित किया जाना होता है। दोबारा, साइटोप्लाज्म सेल मेम्ब्रेन सीमा की ओर वैक्यूल को धक्का देता है और उस भाग में सेल मेम्ब्रेन को तोड़ देता है और इसी के साथ अपशिष्ट बाहर निकल जाता है।
इस प्रक्रिया से ऊर्जा का उपयोग अन्य जीवित जीवों की तरह अन्य शारीरिक कार्यों को विकसित करने, पुनरुत्पादन, रिपेयर और निष्पादित करने के लिए किया जाता है।

अमीबा में भोजन और पाचन की प्रक्रिया (digestion in amoeba in hindi)

अमीबा में न्यूट्रीशन का एक होलोज़िक मोड होता है और प्रक्रिया को “फागोसाइटोसिस” के रूप में जाना जाता है। न्यूट्रीशन में शामिल बुनियादी प्रक्रियाए निम्नलिखित हैं:

  • इंजेशन(Ingestion)
    अमीबा इस प्रक्रिया के माध्यम से अपने भोजन को लेता है। प्रारंभ में, यह अपने स्यूडोपोडिया या झूठे पैर को धक्का देता है ताकि यह भोजन को घेर सके। इसके बाद, यह भोजन को घेरता है, इस प्रकार खाद्य वैक्यूल नामक एक बैग जैसी संरचना बना जाती हैं। इस प्रक्रिया को “फागोसाइटोसिस” (phagocytosis) के रूप में जाना जाता है।
  • पाचन(Digestion)
    यह कदम इंजेशन को फॉलो करता है। खाद्य वैक्यूल्स विभिन्न डाईजेस्टिव एंजाइमों में समृद्ध होते हैं। इन एंजाइमों में बड़े अघुलनशील खाद्य पदार्थों को तोड़ने के परिणामस्वरूप साधारण घुलनशील अणु उत्पन्न होते हैं।
  • अब्सॉर्प्शन(Absorption)
    यह अवांछित खाद्य सामग्री को पीछे छोड़कर साइटोप्लाज्म में पचाने वाली खाद्य सामग्री के अवशोषण की प्रक्रिया है। कभी-कभी अमीबा भोजन की बड़ी मात्रा को अब्सॉर्ब करता है। लेकिन सवाल है कि आखिर अतिरिक्त भोजन का क्या होता है? खैर, अतिरिक्त भोजन ग्लाइकोजन के साथ ही लिपिड के रूप में जमा हो जाता है।
  • एस्सिमिलेशन(Assilmilation)
    यह “यूटिलाइजेशन” प्रक्रिया है। इस प्रक्रिया के दौरान, अवशोषित भोजन का उपयोग ऊर्जा उत्पादन, विकास, मरम्मत(repair) के साथ-साथ गुणा(multiplication)के लिए भी किया जाता है।
  • एजेशन(Egestion)
    अंत में, सेल मेम्ब्रेन टूट जाती है ताकि अवांछित खाद्य सामग्री को शरीर से बाहर फेंक दिया जाए।

अमीबा के बारे में कुछ तथ्य:

  1. यह ज्यादातर सूक्ष्म जीव होने के लिए जाना जाता है। लेकिन इसकी कुछ प्रजातियां जैसे पेलोमाइक्स पाल्स्ट्रिस जो आकार में लगभग 5 मिलीमीटर तक बढ़ सकती हैं।
  2. अगस्त जोहान रोसेल वॉन रोसेनहोफ ऐसे पहले वैज्ञानिक थे जिन्होंने इन छोटे जीवों की खोज की थी।
  3. ताजे पानी के अलावा, अमीबा नमकीन पानी में भी रहते हैं।

इस लेख से सम्बंधित यदि आपका कोई भी सवाल या सुझाव है, तो आप उसे नीचे कमेंट में लिख सकते हैं।

विज्ञान के अन्य लेख:

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here