सोमवार, अक्टूबर 14, 2019

अफगानिस्तान में रूस के विशेष राजदूत ने तालिबान से की मुलाकात

Must Read

पाकिस्तान उच्चायोग हवाला से कश्मीर में आतंकवाद को कर रहा आर्थिक मदद : एनआईए (लीड-1)

नई दिल्ली, 14 अक्टूबर (आईएएनएस) राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने सोमवार को कहा कि जम्मू एवं कश्मीर में आतंकवाद...

बिहार, महाराष्ट्र, केरल, कर्नाटक में जेएमबी सक्रिय : एनआईए

नई दिल्ली, 14 अक्टूबर (आईएएनएस)। राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने सोमवार को कहा कि जमात-उल-मुजाहिद्दीन बांग्लादेश (जेएमबी) भारत के...

एनएसए का पाकिस्तान को संदेश : युद्ध कभी फायदेमंद नहीं होता

नई दिल्ली, 14 अक्टूबर (आईएएनएस)। राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसी (एनएसए) ने पाकिस्तान को कड़ा संदेश देते हुए कहा कि कोई...
कविता
कविता ने राजनीति विज्ञान में स्नातक और पत्रकारिता में डिप्लोमा किया है। वर्तमान में कविता द इंडियन वायर के लिए विदेशी मुद्दों से सम्बंधित लेख लिखती हैं।

अफगानिस्तान में रूस के विशेष राजदूत ज़मीर कबुलोव ने शुक्रवार को मोस्को में तालिबान के प्रतिनिधि समूह से मुलाकात की थी और अमेरिका व चरमपंथियो के बीच शान्ति वार्ता के बहाल होने की जरुरत को बताया था जो अफगानी सरजमीं पर 18 वर्षों के युद्ध का अंत करेगी।

रूस और तालिबान की मुलाकात

रूस के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि “अफगानिस्तान में रुसी राष्ट्रपति के विशेष प्रतिनिधि, रुसी विदेश मंत्रालय में एशियाई विभाग के डायरेक्टर ज़मीर कुब्लोव ने मोस्को में तालिबानी प्रतिनिधियों का इस्तकबाल किया था।”

उन्होंने कहा कि “रुसी पक्ष ने अमेरिका और तालिबान के बीच वार्ता के बहाल होने की जरुरत पर जोर दिया था। इसके जवाब में तालिबान ने वांशिगटन के साथ वार्ता को जरी रखने की तत्परता को दोहराया था।” हाला ही में डोनाल्ड ट्रम्प ने अफगानिस्तान और तालिबान के साथ वार्ता को रद्द कर दिया था।

तालिबान ने काबुल में हुए आतंकी हमले की जिम्मेदारी ली थी जिसमे एक अमेरिकी सैनिक सहित 12 लोगो की मौत हुई थी। इसके बाद डेविड कैंप में ट्रम्प के साथ होने वाली गुप्त मुलाकात को रद्द कर दिया था। हालाँकि माइक पोम्पियो ने कहा था कि “प्रशासन समझौते के लिए कार्य कर रहा है लेकिन इसे तब तक नहीं बढाया जायेगा जब तक तालिबान अपने वादों पर खरा नहीं उतरेगा।”

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने सोमवार को कहा कि “तालिबान के साथ वार्ता की मृत्यु हो चुकी है और संकेत दिया कि उन्हें समूह के साथ मुलाकात में कोई दिलचस्पी नहीं है। मैं इस पर चर्चा की तरफ नहीं देख रहा हूँ। मैं किसी पर भी चर्चा नहीं कर रहा हूँ।”

संधि के मुताबिक, अमेरिका को अफगानी सरजमीं से करीब 5000 सैनिको को वापस बुलाना है और इसके बदले तालिबान अलकायदा से अपने सभी संबंधो को तोड़ेगा।

 

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

पाकिस्तान उच्चायोग हवाला से कश्मीर में आतंकवाद को कर रहा आर्थिक मदद : एनआईए (लीड-1)

नई दिल्ली, 14 अक्टूबर (आईएएनएस) राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने सोमवार को कहा कि जम्मू एवं कश्मीर में आतंकवाद...

बिहार, महाराष्ट्र, केरल, कर्नाटक में जेएमबी सक्रिय : एनआईए

नई दिल्ली, 14 अक्टूबर (आईएएनएस)। राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने सोमवार को कहा कि जमात-उल-मुजाहिद्दीन बांग्लादेश (जेएमबी) भारत के विभिन्न राज्यों जैसे बिहार, महाराष्ट्र,...

एनएसए का पाकिस्तान को संदेश : युद्ध कभी फायदेमंद नहीं होता

नई दिल्ली, 14 अक्टूबर (आईएएनएस)। राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसी (एनएसए) ने पाकिस्तान को कड़ा संदेश देते हुए कहा कि कोई भी युद्ध की मार सहन...

जम्मू एवं कश्मीर में आतंक को पाकिस्तान से आर्थिक मदद : एनआईए

नई दिल्ली, 14 अक्टूबर (आईएएनएस)। राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने सोमवार को कहा कि जम्मू एवं कश्मीर में आतंकवाद को पाकिस्तान द्वारा सीधे आर्थिक...

जम्मू एवं कश्मीर में आतंकवाद को पाकिस्तान कर रहा आर्थिक मदद : एनआईए (संशोधित)

नई दिल्ली, 14 अक्टूबर (आईएएनएस) राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने सोमवार को कहा कि जम्मू एवं कश्मीर में आतंकवाद को पाकिस्तान द्वारा सीधे आर्थिक...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -