Sun. Apr 14th, 2024
    अविजात्रिक, मधुर भंडारकर

    सत्यजीत रे द्वारा बड़े पर्दे पर लाया जाने वाला किरदार ‘अपू’ जल्द ही सिल्वर स्क्रीन पर लौटने वाला है। ‘अपू’ बंदोपाध्याय के बंगाली उपन्यास ‘पत्थर पांचाली’ (1929) और ‘अपराजितो’ (1932) से अस्तित्व में आया था।

    महान फिल्मकार सत्यजीत रे ने दो उपन्यासों से तीन फ़िल्में ‘पत्थर पांचाली’ (1955), ‘अपराजितो’ (1956) और ‘द वर्ल्ड ऑफ अपू’ (1959) बनाईं थी। इन फिल्मों को आज तक की की सबसे बड़ी फिल्मों में से एक के रूप में देखा जाता है और नियमित रूप से भारतीय सिनेमा के इतिहास में सबसे बड़ी फिल्मों के रूप में उद्धृत भी किया जाता है।

    ‘अविजात्रिक’ (द वांडरलस्ट ऑफ अपू) शीर्षक वाली नई बंगाली पीरियड ड्रामा को सुभ्रजीत मित्रा द्वारा निर्देशित किया जाएगा और इसे बॉलीवुड फिल्म निर्माता मधुर भंडारकर द्वारा प्रायोजित किया जाएगा।

    नई फिल्म उन क्षेत्रों पर ध्यान केंद्रित करेगी जो ‘अपु संसार’ में नहीं की गई थीं। 1940 के दशक की कोलकाता की छवि  को बनाए रखने के लिए, फ़िल्म को काले और सफेद रंग में फिल्माया जाएगा। नई फ़िल्म उन पात्रों की कहानी दिखलाएगी जो उपन्यास का एक अभिन्न हिस्सा थे लेकिन फ़िल्म में अच्छी तरह से दिखाए नहीं गए थे। 

    भंडारकर ने कहा कि वह इस तरह की परियोजना का हिस्सा बनने के लिए उत्साहित हैं। उन्होंने कहा, “एक निर्देशक और एक फिल्म शौकीन के रूप में, मैं सत्यजीत रे का बहुत बड़ा प्रशंसक रहा हूं, और अपू की यात्रा हमेशा मुझे रोमांचित करती है।”

    उपन्यास अपू नाम के एक व्यक्ति की यात्रा के बारे में है, जो एक गरीब ब्राह्मण परिवार से आता है। बहुत कम उम्र में, वह अपनी बड़ी बहन, फिर पिता और बाद में अपनी मां को खो देता है।

    यह मधुर भंडारकर की पहली बंगाली फ़िल्म होगी। फ़िल्म की आधिकारिक घोषणा करने के साथ-साथ फ़िल्म का पहला पोस्टर भी जारी कर दिया गया है।

    यह भी पढ़ें: व्हाई चीट इंडिया बॉक्स ऑफिस कलेक्शन डे 1: फ़िल्म ने पहले दिन कमाए केवल 1.71 करोड़ रूपये

    By साक्षी सिंह

    Writer, Theatre Artist and Bellydancer

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *