दा इंडियन वायर » खानपान » अनार खाने के 12 बेहतरीन फायदे
खानपान

अनार खाने के 12 बेहतरीन फायदे

अनार खाने के फायदे

अनार सबसे उपयोगी व पोषक फलों में से एक हैं और इसे खाने के फायदे अनेक है। अनार के जूस में प्रचुर मात्रा में पोषक तत्व पाए जाते हैं जो सेहत को बनाये रखते हैं और शरीर को सुचारू रूप से चलाने में योगदान देते हैं।

इसके पास बहुमूल्य गुण हैं जो अन्य खाद्य पदार्थों से बेजोड़ हैं। कई अध्ययनों से पता चला है कि उनके पास आपके शरीर के लिए अविश्वसनीय लाभ हैं, और ये सभी प्रकार की बीमारियों का खतरा कम करने में सहायक हो सकता है।

इसमें कई प्रकार के विटामिन्स पाए जाते हैं जो शरीर की विटामिन की आवश्यकता को पूरा करते हैं। इसके साथ ही इसमें शरीर में खून बढाने की भी क्षमता पायी जाती है।

यहाँ, अनार से होने वाले मुख्य लाभों का विवरण दिया गया है। आइये इस पर चर्चा करते हैं।

1. प्रोस्टेट कैंसर से लड़ने योग्य होता है

पुरुषों में सबसे ज्यादा पाया जाने वाला कैंसर प्रोस्टेट कैंसर ही होता है। इस घातक बीमारी से लड़ने की क्षमता अनार में पायी गयी है। अध्ययन में ऐसा पाया गया है कि अनार कैंसर सेल्स को मल्टीप्लाई होने से रोकता है और यहाँ तक की कई बार इन सेल्स की मृत्यु का भी ज़िम्मेदार होता है।

पीएसए(प्रोस्टेट स्पेसिफिक एंटीजन) प्रोस्टेट कैंसर से ग्रस्त पुरुषों के लिए ब्लड मार्कर के रूप में काम करता है। जिन पुरुषों में पीएसए की मात्रा कम समय में दोगुनी हो जाती है उनमें प्रोस्टेट कैंसर का खतरा सबसे अधिक होता है।

दिलचस्प बात यह है कि एक मानव अध्ययन में पाया गया कि रोजाना 237 मिलीलीटर (8 ऑउंस) प्रतिदिन अनार जूस का सेवन करने से  पीएसए दोहरीकरण समय 15 महीने से बढ़ाकर 54 महीने हो गया, जो कि एक बहुत ही बड़ी उपलब्धि है।

इसके अलावा अन्य अध्ययनों में भी यह परिणाम सामने आये हैं जिनमें यह पुष्टि हुई है कि अनार प्रोस्टेट कैंसर के खिलाफ लड़ने में सहायक होता है।

2. इसे हृदय रोग का खतरा कम होता है

हृदय रोग कम आयु में मृत्यु का सबसे बड़ा कारण माना जाता है। ऐसे घातक और जानलेवा रोग का खतरा कम करने में भी अनार बेहद उपयोगी पाया गया है। यह हृदय को स्वस्थ रखने में सहायक होता है।

हृदय रोग के कई परिणाम होते हैं लेकिन पर्णिक एसिड, अनार की मुख्य फैटी एसिड, हृदय रोग की प्रक्रिया में कई चरणों से बचाव में मदद कर सकता है।

उच्च कोलेस्ट्रोल और ट्राइग्लिसराइड्स वाले 51 लोगों पर किये गये एक अध्ययन में यह पाया गया है कि लगातार 4 हफ़्तों तक 800 मिलीग्राम अनार के बीज के तेल का सेवन करने वालों के ट्राइग्लिसराइड्स में अंतर आया और वे कम हो गए। वहीं उनका ट्राइग्लिसराइड्स:एचडीएल अनुपात भी कम हुआ था।

एक अन्य अध्ययन में टाइप-2 मधुमेह से ग्रस्त लोगों पर शोध में पाया गया कि अनार का सेवन करने वालों में एलडीएल कोलेस्ट्रोल के स्तर में कमी आई और कई दूसरे सुधार भी देखने को मिले।

ऐसा पाया गया है कि अनार एलडीएल के कण के ऑक्सीडेशन को रोकता है जिससे हृदय रोग का खतरा काफी कम हो जाता है।

3. अनार याददाश्त तेज़ करने में सहायक होता है

ऐसे कई प्रमाण पाए गए हैं जिनमें यह बात सामने आई है कि अनार याददाश्त तेज़ करने में सहायक होता है। सर्जिकल रोगियों पर एक किये गए एक शोध में प्रमाणित हुआ कि 2 ग्राम अनार के अर्क के सेवन से सर्जरी के बाद भी लोगों की  स्मृति में अंतर नहीं आया था।

स्मृति शिकायतों वाले 28 बुजुर्ग व्यक्तियों में एक और अध्ययन में पाया गया कि प्रतिदिन 237 मिलीलीटर (8 ऑउंस) अनार के रस का सेवन करने से मौखिक और विजुअल मेमोरी के मार्करों में काफी सुधार हुआ।

चूहों पर किये गए शोध में भी यह बात सामने आई है कि ये अल्झाइमर रोग से लड़ने की क्षमता देता है

4. अनार में कई प्रकार के पोषक तत्व होते हैं

अनार में पोषक तत्वों की बिलकुल भी कम नहीं होती है। इसकी पोषण मात्रा बहुत उच्च होती है। इसमें निम्न प्रकार के तत्व पाए जाते हैं:

  • फाइबर: 7 ग्राम
  • प्रोटीन: 3 ग्राम
  • विटामिन सी: आरडीए का 30%
  • विटामिन के: आरडीए का 36%
  • फोलेट: आरडीए का 16%
  • पोटेशियम: आरडीए का 12%

एक कप अनार में लगभग 24 ग्राम शक्कर और 144 कैलोरीज होती हैं। हालांकि, अनार की विशेषता यह है कि इसमें अनेक पौधों के यौगिक होते हैं जिनमें से कुछ में विशेष औषधीय गुण पाए जाते हैं।

5. अनार ब्रैस्ट कैंसर से लड़ने में सहायक होता है

ब्रैस्ट कैंसर महिलाओं में सबसे ज्यादा पाया जाने वाला कैंसर है। अनार का सेवन करने से इसको फैलाने वाले सेल्स का विकास रुक जाता है और कई सेल्स जो मौजूद होते हैं उनकी मृत्यु हो जाती है।

हालांकि, ये अभी सिर्फ प्रयोगशाला के शोध में ही पाया गया है, इसपर अभी अध्ययन होना बाकी है

6. अभ्यास प्रदर्शन को सुधारता है

अनार में ऐसे तत्व पाए जाते हैं जो अभ्यास के दौरान आपके प्रदर्शन को सुधारते हैं और आपके अन्दर उर्जा भर देते हैं। ट्रेडमिल पर चलने वाले 19 एथलीटों पर किये गए एक अध्ययन में पाया गया कि 1 ग्राम अनार के अर्क को 30 मिनट लेने से शरीर का रक्त प्रवाह पहले से काफी बढ़ाया गया।

इस कारण उन लोगों को कम थकान महसूस होने लगी और उनकी अभ्यास करने की क्षमता बढ़ गयी। वैसे तो और अधययन जारी है लेकिन यह सिद्ध हो चुका है कि अनार शारीरिक सेहत को सुधारने में सहायक होता है।

7. अनार गठिया और जोड़ों के दर्द में लाभकारी होता है

गठिया की परेशानी पश्चिमी लोगों के देशों में लोगों में बहुत पायी जाती है। इसके कई प्रकार होते हैं लेकिन इनमें से अधिकतर में जोड़ों में सूजन की परेशानी हो जाती है।

अनार में सूजन से लड़ने की क्षमता पायी जाती है इसलिए इससे ये बात सिद्ध होती है ये गठिया से लड़ने में उपयोगी होता है। शोध में यह पाया गया है कि अनार उन एन्ज्य्मेस को ब्लॉक कर देता है जो लोगों के जोड़ों को खराब करने के लिए ज़िम्मेदार होते हैं।

8. ब्लड प्रेशर कम करता है

लोगों में हाई ब्लड प्रेशर(हाइपरटेंशन) हृदय रोग और दौरे का मुख्य कारण होता है। इससे लोगों का रक्त स्तर इतना बढ़ जाता है कि उन्हें इन समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।

एक अध्ययन में, उच्च रक्तचाप वाले लोगों को 2 महीने के लिए रोजाना 150 मिलीलीटर (5 ऑउंस) अनार का रस दिया गया जिसको लेने के बाद उनके रक्तचाप में एक महत्वपूर्ण कमी देखी गयी।

अन्य अध्ययनों में इसी प्रकार के प्रभाव पाए गए हैं, खासकर सिस्टल रक्तचाप जो रक्तचाप पढ़ते समय उच्च रक्तचाप होता है।

9. अनार में औषधीय गुण वाले 2 प्लांट कंपाउंड होते हैं

अनार में दो ऐसे कंपाउंड पाए जाते हैं जिसमें औषधीय गुण पाए जाते हैं। वे निम्न हैं:

पनिगलैगिन्स

पनिगलैगिन्स बहुत शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट हैं जो कि अनार के रस और छिलके में पाए जाते हैं। वे इतने शक्तिशाली होते हैं कि अनार का रस लाल वाइन और हरी चाय से तीन गुना ज्यादा एंटीऑक्सीडेंट गतिविधि युक्त पाया गया है।

अनार अर्क और पाउडर इसकी उच्च एंटीऑक्सिडेंट और पेनिगलिन सामग्री के कारण आम तौर पर छिलके से बना है।

पुनिसिक एसिड

पुनिसिक एसिड, जिसे अनार बीज के तेल के रूप में भी जाना जाता है वह अनार में मुख्य फैटी एसिड होता है। यह शक्तिशाली जैविक प्रभावों के साथ संयुग्मित लिनोलिक एसिड का एक प्रकार है।

10. इरेक्टाइल डिसफंक्शन में अनार का रस उपयोगी होता है

ऑक्सीडेटिव क्षति शरीर के सभी क्षेत्रों में रक्त प्रवाह को खराब कर देता है, जिसमें इरेक्टाइल टिश्यू भी शामिल हैं। अनार का रस खरगोशों में रक्त के प्रवाह और इरेक्टाइल रेस्पोंस बढ़ाने के लिए फायदेमंद साबित हुआ है।

इरेक्टाइल डिसफंक्शन से ग्रस्त 53 पुरुषों के एक अध्ययन में अनार फायदेमंद साबित हुआ है।

11. ये बैक्टीरियल और फंगल संक्रमण से लड़ता है

अनार में मौजूद प्लांट कंपाउंड्स हानिकारक माइक्रोओर्गानिस्म से लड़ने में उपयोगी होते हैं। इसके एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-फंगल प्रभाव मुंह में संक्रमण और सूजन के खिलाफ भी सुरक्षात्मक होते हैं

इसमें मसूड़े की सूजन, पीरियोरोसिटिस और कृत्रिम दांतों की कालिमा स्टाटोमाइटिस जैसी स्थितियां शामिल हैं।

12. अनार सूजन से निजात दिलाता है

लम्बे समय तक सूजन आपके शरीर में कई रोगों का कारण बन सकती है और घातक हो सकती है। इसमें कैंसर, हृदय रोग, टाइप-2 मधुमेह और अल्झाइमर रोग शामिल हैं।

अनार में इसके एंटीओक्सीडैन्ट्स के कारण सूजन से निजात दिलाने की क्षमता होती है। शोध में पाया गया है कि यह पाचन तंत्र, ब्रैस्ट कैंसर और पेट के कैंसर में सूजन कम कर देता है।

फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!