अजय देवगन को राजनीति में शामिल होने से आती है शर्म, कहा न्याय नहीं कर पायेंगे

अजय देवगन को राजनीती में शामिल होने से आती है शर्म, कहा न्याय नहीं कर पायेंगे

बॉलीवुड सुपरस्टार अजय देवगन इन दिनों अपनी आगामी फिल्म ‘दे दे प्यार दे’ के प्रचार में व्यस्त हैं। आकिव अली द्वारा निर्देशित फिल्म में तब्बू और रकुल प्रीत सिंह भी अहम किरदार निभा रही हैं। हाल ही में, अजय से राजनीती में शामिल होने के बारे में पूछा गया क्योंकि उनके समकालीन सनी देओल और उर्मिला मातोंडकर पहले से लोक सभा चुनाव लड़ रहे हैं।

एक इंटरव्यू के दौरान, अजय ने इस सवाल का जवाब देते हुए कहा कि वह कभी राजनीती में शामिल नहीं होंगे और वह इसके लिए बहुत शर्मीले हैं। अजय ने कहा कि वह भीड़ में बहुत असहज हो जाते हैं, लगभग घुटन महसूस करने लगते हैं भले ही कैमरा के आगे वह कितनी भी आसानी से अभिनय कर ले लेकिन वह वास्तविक जीवन में अंतर्मुखी हैं।

Related image

उन्होंने आगे कहा कि वह शायद अपने काम के साथ न्याय भी न कर पाए। सिंग्हम को लगता है कि राजनीती लोगो का पेशा है जहाँ व्यक्ति को लगातार उनसे बातचीत करनी पड़ती है जिन्होंने अपना भरोसा उनपे जताया है और ऐसा व्यक्ति कभी भी अच्छा राजनेता नहीं बन सकता अगर वह बाहर निकल कर और ग्राउंड जीरो पर समय बिताने पर इतना शरमाता है।

इस दौरान, फिल्मो की बात की जाये तो अजय की फिल्म ‘दे दे प्यार दे’ 17 मई को रिलीज़ हो रही है।

साथ ही वह ओम राउत की फिल्म ‘तान्हाजी:द अनसंग वारियर’ की शूटिंग में भी व्यस्त हैं। सच्ची घटना पर आधारित फिल्म में सैफ अली खान भी अहम किरदार में दिखाई देंगे। अजय ने लव रंजन की एक्शन-थ्रिलर फिल्म भी साइन कर ली है जिसमे वह अपने राजनीती सह-कलाकार रणबीर कपूर के साथ काम करेंगे।

वह अमित शर्मा द्वारा निर्देशित एक स्पोर्ट्स-बायोपिक पर भी काम कर रहे हैं जो पूर्व फुटबॉल कोच सैयद अब्दुल रहीम की ज़िन्दगी पर आधारित होगी। वह डिजिटल मीडियम में भी डेब्यू कर चुके हैं। वह कुछ प्रोजेक्ट्स का निर्माण कर रहे हैं।

 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here