Sun. Apr 14th, 2024
    यूक्रेन में फंसे भारतीयों से केंद्र ने कहा 'घबराना नहीं'

    Ukraine Crisis: रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने यूक्रेन की सीमा पर 1,00,000 से ज्यादा सैन्य बल और भारी मशीनरी और आर्टीलरी तैनात कर दी है। । अब वहां हजारों सैनिक हैं। यूक्रेन की सीमाओं पर रूस के सैन्य निर्माण को लेकर नाटो चिंतित है। न्यू इंटेलिजेंस से पता चला है कि क्रेमलिन यूक्रेन पर आक्रमण की योजना बनाने के उन्नत चरणों में है। पर रूस किसी भी आक्रमण की योजना से इनकार कर रहा है, लेकिन उसने पहले भी यूक्रेनी क्षेत्र, क्रिमीआ (Crimea) पर कब्जा कर रखा है और इसकी सीमाओं के पास अनुमानित तैनात 100,000 सैनिक इस बात की ओर इशारा करते हैं कि बात कितनी गंभीर हैं।

    रूस का कहना है कि यूक्रेन पर हमला करने की उसकी कोई योजना नहीं है और रूस के सशस्त्र बलों के प्रमुख वालेरी गेरासिमोव ने आक्रमण की रिपोर्टों की निंदा की है और उसे एक झूठ करार दिए है ।

    इस तनावपूर्ण स्तिथि में राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने “उचित जवाबी सैन्य-तकनीकी उपायों” की धमकी दी है, अगर पश्चिम ने अपने आक्रामक दृष्टिकोण को जारी रखा। रूस ने लंबे समय से यूरोपीय संस्थानों और विशेष रूप से नाटो (NATO) की ओर यूक्रेन के कदम का विरोध किया है। रूस, अमेरिका और अन्य बड़े खिलाड़ी चीजों को शांत करने और युद्ध से बचने के लिए बात कर रहे हैं, लेकिन किसी भी पक्ष से कोई भी उकसावे से दुनिया को और अधिक गंभीर संघर्ष देखने को मिल सकता है।’

    क्या है रूस और यूक्रेन का इतिहास?

    वास्तव में यूक्रेन एक तरफ रूस, उत्तर में बेलारूस और दूसरी तरफ यूरोपीय देशों में स्थित है और यह रूस और अन्य यूरोपीय देशों के बीच एक प्रमुख कड़ी है। लेकिन दोनों एक साथ इतिहास साझा करते हैं, क्योंकि दोनों देश सोवियत संघ का हिस्सा थे। 1991 में जब यूएसएसआर (USSR) टूट गया, तो वे अलग-अलग स्वतंत्र देश बन गए। तब से रूस इस क्षेत्र का सबसे शक्तिशाली देश रहा है। 2013 में, तत्कालीन यूक्रेनी राष्ट्रपति विक्टर यानुकोविच यूरोपीय संघ (European Union) के साथ एक राजनीतिक और आर्थिक समझौते पर हस्ताक्षर करने वाले थे, लेकिन इसके बजाय उन्होंने मास्को (Moscow, Russia) के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर किए, जिसे बहुत सारे यूक्रेन के लोगों ने यूक्रेन पर रूस के दबाव के संकेत के रूप में देखा।

    यूक्रेन में महीनों तक बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन हुए और विक्टर यानुकोविच को बाहर कर दिया गया और अंततः एक नए राष्ट्रपति द्वारा यूरोपीय संघ (European Union) के समझौते पर हस्ताक्षर किए गए।

    2014 की शुरुआत में, इसके जवाब में, राष्ट्रपति पुतिन ने क्रीमिया प्रायद्वीप में रूसी सेना भेजकर एक बड़ा कदम उठाया। क्रीमियन पेनिनसुला 1950 के दशक से यूक्रेन का हिस्सा रहा है लेकिन यहां अधिकांश लोग रूसी भाषी हैं। जब क्रीमिया में एक जनमत संग्रह (Referendum) पारित किया गया था, जिसे यूक्रेन ने अवैध माना था।

    आश्चर्यजनक रूप से लोगों ने रूस का हिस्सा बनने के लिए मतदान किया और इस तरह  रूस ने क्रीमिया पर कब्जा कर लिया। लेकिन चीजें यहीं नहीं रुकीं, पूर्वी यूक्रेन के डोनबास क्षेत्र में हलचल होना शुरू हो गईं, जिसमें लुहान्स्क (Luhansk) और डोनेट्स्क (Donetsk) जिले शामिल हैं। यह यूक्रेन का वह हिस्सा है जिसमें नैतिक रूसी आबादी है। अप्रैल 2014 में रूसी समर्थक अलगाववादी ने क्षेत्र पर नियंत्रण करना शुरू कर दिया और उनके और यूक्रेनी सेना के बीच एक छद्म युद्ध शुरू हो गया।

    अब की स्तिथि

    आठ साल बाद भी इस संकट को रोकने के राजनयिक प्रयास मूल रूप से विफल रहे हैं। यूक्रेनी सरकार के अनुसार लगभग इस छद्म युद्ध में 14000 लोग मारे गए हैं और 1.5 मिलियन लोग विस्थापित होने के लिए मजबूर हुए हैं और लड़ाई अभी भी बंद नहीं हुई है।यूक्रेन में पिछले 8 वर्षों में जो हो रहा है, उसकी वजह से उसे नाटो (NATO) से बहुत अधिक सैन्य समर्थन मिल रहा है। यूक्रेन अब नाटो (NATO) के करीब है और रूस को यह बिलकुल नागवार है। रूस चाहता है कि नाटो यूक्रेन के साथ किसी भी प्रकार के सैन्य सहयोग को बंद करे और यूक्रेन की नाटो सदस्यता को रद्द करे।

    वर्तमान स्थिति ऐसी है कि अमेरिका और उसके सहयोगी पुतिन को यूक्रेन पर आक्रमण करने की कोशिश करने पर उच्च प्रतिबंध लगाने की धमकी दे रहे हैं। इस तरह के प्रतिबंधों को रूसी अर्थव्यवस्था को कुचलने और इसके तकनीकी और रक्षा क्षेत्र को नाकाम करने के लिए बनाया गया है। लेकिन कुछ जानकारों का मानना ​​है कि इस तरह के प्रतिबंध सिर्फ निवारक हैं और रूस ऐसी स्थिति से निपटने की योजना बनाता रहा है। लेकिन एक बात निश्चित है कि यह एक बहुत ही खतरनाक स्थिति है जिसमें रूस, नाटो, अमेरिका और यूक्रेन के लोगों के लिए बहुत कुछ दांव पर लगा है। यूक्रेन पर रूसी आक्रमण की संभावना कितनी गंभीर है, इस पर विशेषज्ञ भिन्न हैं।

     

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *