दा इंडियन वायर » विदेश » Sri Lanka Crisis : आर्थिक संकट के बाद गहराता राजनीतिक संकट, प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे के इस्तीफ़े के बाद देश भर में हिंसक प्रदर्शन
विदेश

Sri Lanka Crisis : आर्थिक संकट के बाद गहराता राजनीतिक संकट, प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे के इस्तीफ़े के बाद देश भर में हिंसक प्रदर्शन

Sri Lanka Crisis

Sri Lanka Crisis: भीषण आर्थिक संकट से जूझ रहे श्रीलंका (Sri Lanka) में हालात बद से बदतर होते जा रही है। लोग अब सड़कों पर सरकार के ख़िलाफ़ प्रदर्शन कर रहे हैं।

देश भर में हो रहे इन प्रदर्शन के कारण सोमवार को प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे ने इस्तीफ़ा दे दिया। इसके बाद प्रदर्शनकारियों के गुस्सा भड़क गया और प्रदर्शनकारियों ने राजपक्षे व अन्य सांसदों के निजी संपत्तियों को निशाना बनाना शुरू किया।

श्रीलंका (Sri Lanka) की राजधानी कोलंबो में हालात बेकाबू

इस से पहले कोलंबो में राजपक्षे के समर्थकों और सरकार के विरोध में उतरे प्रदर्शनकारियों के बीच हिंसप झड़प हुई थी जिसमें कम से कम 3 लोगो की मृत्यु व 150 से ज्यादा लोग घायल हुए थे।

श्रीलंका में सत्ताधारी पार्टी के कई नेताओं व सांसदों के घरों पर इन प्रदर्शनकारियों ने धावा बोल दिया। कई घरों व संपत्तियों को आग के हवाले कर दिया गया।

Sri Lanka Crisis
महिंदा राजपक्षे का घर जिसे प्रदर्शनकारियों ने जला दिया। (Image Source: Twitter)

दरअसल महीनों से लोग वहाँ सरकार के ख़िलाफ़ शांतिपूर्ण तरीके से प्रदर्शन कर रहे थे। सोमवार को महिंदा राजपक्षे के इस्तीफे के अंदेशा के कारण राजपक्षे बंधुओं के समर्थकों का कई बसों में भरकर कोलंबो आना शुरू हुआ। उसके बाद दोनों गुटों में हिंसक झड़प के बाद हालात बेकाबू हो गए।

राजपक्षे द्वारा समर्थकों के संबोधन के बाद भड़का मामला

अपने समर्थकों को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री राजपक्षे ने अपने आवास “Temple Trees” पर कहा-

“वे इस देश के लोगों के लिए किसी भी तरह का बलिदान करने को तैयार हैं।”

Sri Lanka Crisis
महिंदा राजपक्षे जिनके इस्तीफ़े के बाद हिंसा भड़क उठी। (Image Source : Al Jazeera)

इसके बाद उनके समर्थक प्रदर्शनकारियों के टेंट आदि उखाड़ कर फेंकने लगे जो महीनों से महिंदा राजपक्षे के आवास के आगे प्रदर्शन कर रहे थे। उनलोगों ने एक पुस्तकालय को भी जला दिया और कई प्रदर्शनकारियों को भी अपना शिकार बनाया।

सरकार समर्थकों के इस कार्रवाई में एक्टिविस्ट विमुक्ति डि सिल्वा (Vimukhti De Silva) भी बुरी तरह चोटिल हो गई जो वहां पर सरकार के पर्यावरण संबंधी नीतियों पर हो रहे चर्चा में भाग लेने गई थीं।

श्रीलंका के दिग्गजों ने जमकर लताड़ा राजपक्षे सरकार को

राजपक्षे बंधुओं – राष्ट्रपति गोटाबाया व PM महिंदा राजपक्षे – ने सोशल मीडिया पर इन हिंसक प्रदर्शनों की निंदा की जिसे लेकर एक सुर में उन्हें आलोचना का सामना करना पड़ा।

श्रीलंका के पूर्व स्टार क्रिकेटर कुमार संगकारा ने महिंदा के ट्वीट के जवाब में लिखा, ” यह हिंसा आपके ही समर्थकों द्वारा भड़कायी गयी है – लुटेरे व बदमाश लोग जो पहले आपके ऑफिस गए और फिर शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे लोगों पर हमला किया।”

श्रीलंका के पूर्व प्रवक्ता कारू जयसूर्या ने भी संगकारा के ट्वीट से ही मिलता जुलता बयान दिया है और वहाँ की पुलिस के ऊपर सवाल खड़ा किया कि “जब ये गुंडे समर्थक निहत्थे व शांत प्रदर्शनकारियों पर हमला बोल रहे थे तब पुलिस कहाँ थी?”

फिलहाल लंका (Sri Lanka) में लगी है आग

प्रचंड महँगाई और आर्थिक संकट से जूझ रहे श्रीलंका में अब राजनीतिक संकट गहराता जा रहा है और सड़कों पर हिंसा हो रहे हैं। फिलहाल श्रीलंका में कोलंबो सहित आस-पास के इलाकों में हालात बदतर है और लोग सड़कों पर हिंसक प्रदर्शनों के शिकार हो रहे हैं।

सोमवार शाम को कोलंबो में ही समुद्र किनारे “गाले फेस (Galle Face)” स्थल पर सरकार के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे लोगों के समर्थन में बड़ी संख्या में इकट्ठा हुए। इन लोगों द्वारा सरकार को एक संदेश देने की कोशिश थी।

यह भी पढ़ें: श्रीलंका के आगे  8.6 अरब डॉलर के ऋण को चुकाने की चुनौती;  विदेशी मुद्रा भंडार में मार्च में थे केवल 1.93 अरब डॉलर

About the author

Saurav Sangam

Add Comment

Click here to post a comment

फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!

Want to work with us? Looking to share some feedback or suggestion? Have a business opportunity to discuss?

You can reach out to us at [email protected]