दा इंडियन वायर » व्यापार » आरटीजीएस (rtgs), एनईएफटी (neft), आईएमपीएस (imps) में अंतर
व्यापार

आरटीजीएस (rtgs), एनईएफटी (neft), आईएमपीएस (imps) में अंतर

पहले के जमाने में एक खाते से दुसरे खाते में पैसे भेजने में काफी दिन लग जाते थे। लेकिन अब बैंकिंग क्षेत्र में कई ऐसी तकनीक आ गयी हैं, जिनसे कुछ सेकंड में पैसे भेजे जा सकते हैं।

इनमें आरटीजीएस (rtgs), एनईएफटी (neft), आईएमपीएस (imps) काफी अहम् हैं।

आरटीजीएस, एनईएफटी, आईएमपीएस क्या हैं? (what is neft, rtgs and imps in hindi)

आरटीजीएस और एनईएफटी एक प्रकार की इलेक्ट्रॉनिक भुगतान सेवाएं हैं, जिनका इस्तेमाल हम एक बार में कई बार कर सकते हैं। इन दोनों सेवाओं से पैसे भेजने में कुछ घंटे लगते हैं, लेकिन इनका इस्तेमाल करने पर कोई शुल्क नहीं लगता है।

एनईएफटी क्या है? (neft in hindi)

एनईएफटी एक ऐसे प्रकार का भुगतान होता है, जिसकी प्रक्रिया पुरे दिन चलती रहती है। इसमें हालाँकि पैसे भेजने में कुछ समय लगता है। उदाहरण के तौर पर, सामान्य बैंक से एनईएफटी से पैसे भेजने पर लगभग 1 घंटे का समय लगता है।

इस प्रक्रिया में पैसे भेजने के लिए भेजने वाले और जिसे भेजे जा रहे हैं, दोनों व्यक्तियों को एनईएफटी का हिस्सा होना पड़ता है।

एनईएफटी की फुल फॉर्म (neft full form in hindi)

एनईएफटी की फुल फॉर्म होती है, नेशनल इलेक्ट्रॉनिक फंड्स ट्रांसफर (National Electronic Funds Transfer).

आरटीजीएस क्या है? (rtgs in hindi)

आरटीजीएस भी बैंकिंग प्रणाली में पैसे भेजने की एक सुविधा है। इस प्रकार का ट्रांसफर मुख्य रूप से बड़े संस्था और कंपनियां करती हैं।

आरटीजीएस का सीधा लेख जोखा रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया (आरबीआई) के पास होता है। आरटीजीएस से तुरंत पैसे भेजे जा सकते हैं।

आरटीजीएस की फुल फॉर्म (rtgs full form in hindi)

आरटीजीएस की फुल फॉर्म होती है, रियल टाइम ग्रॉस सेटलमेंट (Real Time Gross Settlement).

आईएमपीएस क्या है? (imps in hindi)

आईएमपीएस सबसे सुविधाजनक पैसे भेजने का माध्यम माना जाता है। इसके साथ ही इसे सामान्य ग्राहकों के लिए उपर्युक्त विकल्प माना जाता है।

ऐसा इसलिए है क्योंकि आईएमपीएस की मदद से चन्द सेकंड में ही एक खाते से दुसरे खाते में पैसे भेजे जा सकते हैं।

इसके अलावा इसकी मदद से मोबाइल से भी पैसे भेजे जा सकते हैं।

आईएमपीएस की फुल फॉर्म (imps full form in hindi)

आईएमपीएस की फुल फॉर्म होती है इमीडियेट पेमेंट सर्विस (Immediate Payment Services), यानी तुरंत पैसे भेजने की सेवा।

समय

इन तीनों सेवाओं से पैसे भेजने का समय बैंकों के हिसाब से बदलता रहता है, लेकिन साधारण समय कुछ इस प्रकार है:

एनईएफटी (neft)

एनईएफटी से पैसे भेजने के लिए लगभग 1 घंटा लगता है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि एनईएफटी की एक प्रक्रिया 1 घंटे की होती है।

एनईएफटी के जरिये आप सप्ताह से साधारण दिन 11 घंटे, शनिवार को 5 घंटे पैसे भेजे सकते हैं। रविवार को यह पूरी तरह से बंद रहता है।

उदाहरण के तौर पर यदि आपके बैंक के एनईएफटी का समय शाम 8 बजे ख़त्म होता है और आप 7:15 बजे पैसे भेजते हैं, तो आपके पैसे अगले दिन बैंक खुलने के बाद ट्रांसफर होंगे।

आरटीजीएस (rtgs)

आरटीजीएस भी लगभग एनईएफटी की तरह ही काम करती है, लेकिन इसमें थोड़ा सा अंतर होता है। दरअसल आरटीजीएस के तहत पैसे तुरंत पहुँच जाते हैं।

लेकिन अन्य नियम बिलकुल वैसे ही हैं। उदाहरण के तौर पर, आप साधारण दिन बैंक बंद होने के बाद और शनिवार को हाफ दिन के बाद पैसे नहीं भेज सकते हैं।

आईएमपीएस (imps)

आईएमपीएस 24 घंटे चलनी वाली सेवा है। इसके जरिये आप पूरे दिन में कभी भी तुरंत पैसे भेज सकते हैं।

जरूरतें

इन सेवाओं के जरिये पैसे भेजने के लिए आपको निम्न चीजों की जरूरत होगी:

एनईएफटी और आरटीजीएस (RTGS and NEFT)

  • पैसे भेजने वाला और रिसीव करने वाला दोनों इसके साथ जुड़े होने चाहिए।
  • राशि
  • भेजने वाले का खाता नंबर
  • जिसे भेजे जा रहे हैं, उसका खाता नंबर
  • बैंक का आईएफएससी कोड (IFSC code)

आईएमपीएस (IMPS)

  • पैसे भेजने वाला और जिसको भेजे जा रहे हैं, दोनों आईएमपीएस से जुड़े हों।
  • जिसे भेजे जा रहे हैं, उसके बैंक का आईएफएससी कोड और खाता नंबर
  • आधार नंबर (वैकल्पिक)
  • भेजने वाले का पिन नंबर

एनईएफटी और आरटीजीएस में अंतर (difference between rtgs and neft in hindi)

एनईएफटीआरटीजीएस
पैसे भेजने की प्रक्रिया 1 घंटे तक चलती है पैसे भेजने की प्रक्रिया हर समय चलती रहती है
पैसे मिलने में एक घंटा लगता है पैसे तुरंत मिल जाते हैं
इसे साधारण लोग ज्यादा इस्तेमाल करते हैं इसे बड़ी कंपनियां इस्तेमाल करती हैं
इसकी फुल फॉर्म नेशनल इलेक्ट्रॉनिक फंड्स ट्रांसफर है इसकी फुल फॉर्म रियल टाइम ग्रॉस सेटलमेंट है
अधिकतम राशि भेजने की कोई सीमा नहीं है अधिकतम सीमा 10 लाख है

About the author

पंकज सिंह चौहान

पंकज दा इंडियन वायर के मुख्य संपादक हैं। वे राजनीति, व्यापार समेत कई क्षेत्रों के बारे में लिखते हैं।

1 Comment

Click here to post a comment

फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!