Wed. Oct 5th, 2022

    Category: धर्म

    छोटी छोटी गैया, छोटे छोटे ग्वाल

    छोटी-छोटी गैया, छोटे-छोटे ग्वाल छोटो सो मेरो मदन गोपाल छोटी-छोटी गैया, छोटे-छोटे ग्वाल छोटो सो मेरो मदन गोपाल आगे चले गैया, पीछे चले ग्वाल आगे चले गैया, पीछे चले ग्वाल…

    भजन: अच्चुतम केशवं कृष्ण दामोदरं

    अच्चुतम केशवं कृष्ण दामोदरं, राम नारायणं जानकी बल्लभम। कौन कहता हे भगवान आते नहीं, तुम मीरा के जैसे बुलाते नहीं। कौन कहता है भगवान खाते नहीं, बेर शबरी के जैसे…

    लिङ्गाष्टकम्

    ब्रह्ममुरारिसुरार्चितलिङ्गं निर्मलभासितशोभितलिङ्गम्। जन्मजदुःखविनाशकलिङ्गं तत् प्रणमामि सदाशिवलिङ्गम्॥१॥ देवमुनिप्रवरार्चितलिङ्गं कामदहं करुणाकरलिङ्गम्। रावणदर्पविनाशनलिङ्गं तत् प्रणमामि सदाशिवलिङ्गम्॥२॥ सर्वसुगन्धिसुलेपितलिङ्गं बुद्धिविवर्धनकारणलिङ्गम्। सिद्धसुरासुरवन्दितलिङ्गं तत् प्रणमामि सदाशिवलिङ्गम्॥३॥ कनकमहामणिभूषितलिङ्गं फणिपतिवेष्टितशोभितलिङ्गम्। दक्षसुयज्ञविनाशनलिङ्गं तत् प्रणमामि सदाशिवलिङ्गम्॥४॥ कुङ्कुमचन्दनलेपितलिङ्गं पङ्कजहारसुशोभितलिङ्गम्। सञ्चितपापविनाशनलिङ्गं तत् प्रणमामि…

    गुप्त नवरात्री के फायदे

    हिंदू रीति-रिवाजों में, नवरात्रि एक पवित्र त्योहार है जिसे पूरे उत्साह के साथ साल में दो बार मनाया जाता है। यह नौ दिवसीय उत्सव है जो पूरे भारत में देवी…

    श्री शिव पंचाक्षर स्तोत्र

    श्री शिव पंचाक्षर मंत्र नागेन्द्रहाराय त्रिलोचनाय, भस्माङ्गरागाय महेश्वराय । नित्याय शुद्धाय दिगम्बराय, तस्मै न काराय नमः शिवाय ॥१॥ मन्दाकिनी सलिलचन्दन चर्चिताय, नन्दीश्वर प्रमथनाथ महेश्वराय । मन्दारपुष्प बहुपुष्प सुपूजिताय, तस्मै म काराय नमः शिवाय ॥२॥…

    दशरथकृत शनि स्तोत्र

    दशरथ उवाच: प्रसन्नो यदि मे सौरे ! एकश्चास्तु वरः परः॥ रोहिणीं भेदयित्वा तु न गन्तव्यं कदाचन्। सरितः सागरा यावद्यावच्चन्द्रार्कमेदिनी॥ याचितं तु महासौरे ! नऽन्यमिच्छाम्यहं। एवमस्तुशनिप्रोक्तं वरलब्ध्वा तु शाश्वतम्॥ प्राप्यैवं तु…

    मंत्र: ॐ सर्वे भवन्तु सुखिनः

    ॐ सर्वे भवन्तु सुखिनः। सर्वे सन्तु निरामयाः। सर्वे भद्राणि पश्यन्तु। मा कश्चित् दुःख भाग्भवेत्॥ ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः ॥ अंग्रेजी में lyrics Om, Sarve bhavantu sukhinaḥ Sarve santu nirāmayāḥ Sarve bhadrāṇi…

    भजन: श्याम तेरी बंसी पुकारे राधा नाम

    श्याम तेरी बंसी पुकारे राधा नाम लोग करें मीरा को यूँ ही बदनाम साँवरे की बंसी को बजने से काम राधा का भी श्याम वोतो मीरा का भी श्याम जमुना…

    आरती: माँ सरस्वती वंदना

    या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता, या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना। या ब्रह्माच्युत शंकरप्रभृतिभिर्देवैः सदा वन्दिता, सा मां पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा॥१॥ शुक्लां ब्रह्मविचार सार परमामाद्यां जगद्व्यापिनीं, वीणा-पुस्तक-धारिणीमभयदां जाड्यान्धकारापहाम्‌। हस्ते स्फटिकमालिकां विदधतीं पद्मासने…