Sun. May 19th, 2024
    Hike in Diesel & Petrol Prices

    पेट्रोल और डीजल (Petrol & Diesel)के दामों में बढ़ोतरी का सिलसिला आज मंगलवार को भी जारी रहा। पिछले 8 दिनों में 1 दिन को छोड़कर हर दिन इन ईंधनों (Petrol & Diesel) की कीमतों में इज़ाफ़ा हुआ है।

    आज पेट्रोल (Petrol) के दामों में 80पैसे/ली वहीं डीजल (Diesel) के दाम में 70 पैसे/ली पैसे की बढ़ोतरी की गई। इसके साथ ही दिल्ली में भी पेट्रोल ने शतक पूरा कर लिया है। दिल्ली में पेट्रोल अब 100.21₹/ली वहीं डीजल (Diesel) 91.47₹/ली हो गया है।

    वहीं देश के आर्थिक राजधानी मुम्बई में ये कीमतें और ज्यादा हैं। मुम्बई में पेट्रोल(Petrol) के दामों में 85 पैसे/ली जबकि डीजल (Diesel) में 75 पैसे/ली रह गयी हैं। मुंबई के लोगों को अब पेट्रोल के लिए 115.04₹/ली तथा डीजल के लिए 99.25₹/ली देना होगा।

    अलग-अलग शहरों में अलग बढ़ोतरी क्यों?

    दरअसल, ईंधनों (Petrol & Diesel) की कीमतों में इज़ाफ़ा पूरे देश मे एक समान ही होता है लेकिन उन जगहों के लोकल टैक्सेशन नीति (Local taxation policy) के कारण यह बढ़ोतरी अलग-अलग होती हैं। इसलिए दिल्ली में हुई कुल बढ़ोतरी मुम्बई या अन्य किसी शहर में की गई बढ़ोतरी से भिन्न होती हैं।

    22 मार्च के बाद से 7वीं बार बढ़ी हैं ईंधनों (Petrol & Diesel) कीमतें

    विधानसभा चुनावों के मद्देनजर ईंधनों (Petrol & Diesel) की कीमतें 137 दिनों तक स्थिर रही। लेकिन 22 मार्च से लेकर अब तक पिछले 8 दिनों में 7 बार पेट्रोल और डीजल की कीमतें बढ़ाई गई हैं।

    शुरुआत में 4 दिन लगातार 80 पैसे/ली कि बढ़ोतरी हुई  जो कि एक दिन में हुई बढ़ोतरी के लिहाज़ से एक रिकॉर्ड है। जून 2017 से इन ईंधनों (Petrol & Diesel) की कीमतें प्रतिदिन निर्धारित की जाने लगी हैं और उसके बाद से यह 80 पैसे/ली का इज़ाफ़ा एक दिन में हुए इजाफे के लिहाज़ से सर्वाधिक रहा।

    अभी और आसमान छूएगी ईंधनों (Petrol – Diesel) की कीमतें

    कोटक इंस्टिट्यूशनल इक्विटीज (Kotak Institutional Equities) की मानें तो तेल कंपनियों को अभी डीजल (Diesel) में ₹13.1-24.9 प्रति लीटर जबकि गैसोलीन (Petrol) की क़ीमत ₹10.6- 22.3 प्रति लीटर बढ़ाने की आवश्यकता है। तब जाकर कहीं अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल (Crude Oil) की कीमत USD 100-120 प्रति बैरल के साथ अपना वित्तीय सामंजस्य बैठा पाएंगे।

    वहीं CRISIL Research की मानें तो अगर अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे-तेल की कीमत USD 100$ प्रति बैरल रहती हैं तो तेल कंपनियों को ₹9-12प्रति लीटर का इजाफा करना पड़ेगा और अगर कच्चे तेल की कीमतें USD 110-110$ प्रति बैरल रहीं तो यह इज़ाफ़ा ₹15-20 प्रति लीटर का होगा।

    भारत अपनी ईंधन (Petrol – Diesel) की जरूरत के लिए आयात पर है निर्भर

    भारत अपने ईंधन (तेल) आपूर्ति केलिए विदेशों पर निर्भर है। भारत अपनी कुल जरूरत का 85% तेल आयात करता है। इसलिए जाहिर है कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमत भारत के खुदरा बाजार में पेट्रोल (Petrol) और डीजल (Diesel) की क़ीमतों को खासा प्रभावित करेंगे।

    यह भी पढ़ें:- Petrol Diesel Price Hike: पेट्रोल और डीजल की कीमतों में क्रमशः 32 पैसे/ली और 37 पैसे /ली की फिर बढ़ोतरी, 1 सप्ताह में 6 बार बढ़ी पेट्रोल और अन्य ईंधनों की कीमतें

    By Saurav Sangam

    | For me, Writing is a Passion more than the Profession! | | Crazy Traveler; It Gives me a chance to interact New People, New Ideas, New Culture, New Experience and New Memories! ||सैर कर दुनिया की ग़ाफ़िल ज़िंदगानी फिर कहाँ; | ||ज़िंदगी गर कुछ रही तो ये जवानी फिर कहाँ !||

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *