दा इंडियन वायर » धर्म » आरती: श्री गणेश – शेंदुर लाल चढ़ायो
धर्म

आरती: श्री गणेश – शेंदुर लाल चढ़ायो

शेंदुर लाल चढ़ायो अच्छा गजमुखको ।
दोंदिल लाल बिराजे सुत गौरिहरको ।
हाथ लिए गुडलद्दु सांई सुरवरको ।
महिमा कहे न जाय लागत हूं पादको ॥

जय देव जय देव,
जय जय श्री गणराज
विद्या सुखदाता
धन्य तुम्हारा दर्शन
मेरा मन रमता,
जय देव जय देव ॥

अष्टौ सिद्धि दासी संकटको बैरि ।
विघ्नविनाशन मंगल मूरत अधिकारी ।
कोटीसूरजप्रकाश ऐबी छबि तेरी ।
गंडस्थलमदमस्तक झूले शशिबिहारि ॥
॥ जय देव जय देव…॥

भावभगत से कोई शरणागत आवे ।
संतत संपत सबही भरपूर पावे ।
ऐसे तुम महाराज मोको अति भावे ।
गोसावीनंदन निशिदिन गुन गावे ॥

जय देव जय देव,
जय जय श्री गणराज
विद्या सुखदाता
धन्य तुम्हारा दर्शन
मेरा मन रमता,
जय देव जय देव ॥

Shendur Lal Chadhayo Lyrics

Shendur Laal Chadhaayo Achchhaa Gajamukha Ko
Dondil Laal Biraaje Sut Gaurii Har Ko
Hath Liye Gud Laddu Saaii Survar Ko
Mahimaa Kahe Na Jaay Laagat Huun Pad Ko
Jai Dev Jai Dev
Jai Dev Jai Dev
Jai Jai Jii Ganaraj Vidyaa Sukhadata
Dhany Tumhaaro Darshan Meraa Mat Ramata
Jai Dev Jai Dev
Jai Dev Jai Dev
Bhaavabhagat Se Koi Sharanagat Aave
Santati Sampatti Sabahii Bharapur Paave
Aise Tum Mahaaraaj Moko Ati Bhaave
Gosavinandan Nishidin Gun Gave
Jai Dev Jai Dev
Jai Dev Jai Dev
Jai Jai Ji Ganaraj Vidya Sukhadata
Dhany Tumharo Darshan Mera Mat Ramata
Jai Dev Jai Dev
Jai Dev Jai Dev
Ghalin Lotangan Vandin Charan Dolyani Pahin Roop Tujhe
Preme Aalingin Aananden Pujin Bhaven Ovalin Mhane Nama
Tamev Mata Pita Tamev, Tamev Bandhushch Sakha Tavamev
Tamev Vidya Dravinm Tamev, Tamev Sarvam Mam Dev Dev
Kaayen Vaach Manasendriyairvaa
Buddhyaatmanaa Vaa Prakritisvabhaavaa
Karomi Yadyat Sakalam Parasmai
Naaraayanaayeti Samarpayaami
Achyutm Keshavm Raamanaaraayanam
Krishna Daamodaram Vaasudevam Hari
Shriidharam Maadhavam Gopikaavallabham
Jaanakiinaayakam Raamachandram Bhaje
Hare Raam Hare Raam, Raam Raam Hare Hare
Hare Krishna Hare Krishna, Krishna Krishna Hare Hare
Hare Raam Hare Raam, Raam Raam Hare Hare
Hare Krishna Hare Krishna, Krishna Krishna Hare Hare

यह लेख आपको कैसा लगा?

नीचे रेटिंग देकर हमें बताइये, ताकि इसे और बेहतर बनाया जा सके

औसत रेटिंग 4 / 5. कुल रेटिंग : 78

कोई रेटिंग नहीं, कृपया रेटिंग दीजिये

यदि यह लेख आपको पसंद आया,

सोशल मीडिया पर हमारे साथ जुड़ें

हमें खेद है की यह लेख आपको पसंद नहीं आया,

हमें इसे और बेहतर बनाने के लिए आपके सुझाव चाहिए

कृपया हमें बताएं हम इसमें क्या सुधार कर सकते है?

About the author

विकास सिंह

विकास नें वाणिज्य में स्नातक किया है और उन्हें भाषा और खेल-कूद में काफी शौक है. दा इंडियन वायर के लिए विकास हिंदी व्याकरण एवं अन्य भाषाओं के बारे में लिख रहे हैं.

Add Comment

Click here to post a comment

फेसबुक पर दा इंडियन वायर से जुड़िये!