Tue. Apr 23rd, 2024
    इसरो स्पेस मिशन

    बेंगलुरु में एक अधिकारी ने हाल ही में बताया की साल 2019 में भारत चंद्रयान – 2 समेत कुल 32 नए अन्तरिक्ष मिशन लांच करने की तैयारी कर रहा है। यह भी माना जा रहा है की 2022 के गगनयान मिशन की तैयारी भी इसी साल शुरू की जायेगी।

    ISRO के चेयरमैन ने की पुष्टि :

    के सिवान इसरो

    ऊपर दिए गए बयान की तब पुष्टि हो गयी जब इसरो के चेयरमैन के. सिवान ने मंगलवार को कर्मचारियों को एक नोट दिया जिसमे लिखा था “वर्ष 2019, 32 नियोजित अन्तरिक्ष मिशन के साथ भारतीय अन्तरिक्ष अनुसंधान संगठन के लिए काफी चुनौतीपूर्ण होगा।”

    उन्होंने यह भी कहा की इन 32 मिशन में चंद्रयान – 2 भी शामिल होगा जिसके तहत चाँद की सतह पर रोवर एवं लैंडर उतारे जायेंगे।

    चंद्रयान-2 मिशन होगा श्रीहरिकोटा से लांच :

    इसरो श्रीहरीकोटा लांचिंग पैड

    इस नोट में चेयरमैन ने बताया की चंद्रयान – 2 वह 25वां यान होगा जिसे आँध्रप्रदेश के श्रीहरिकोटा के अन्तरिक्ष पोर्ट से लांच किया जाएगा। बतादें की श्रीहरिकोटा चेनई के लगभग 90 किलोमीटर उत्तरपूर्व में स्थित है। इससे पहले यहाँ से कई सफल अन्तरिक्ष यानों का परिक्षण एवं लांच किये जा चुके हैं।

    गगनयान के बारे में की जानकारी साझा :

    गगनयान

    इन सब के अलावा के. सिवान ने बताया की साल 2021-22 में लांच होने वाले गगनयान की तैयारी भी इसी वर्ष से शुरू की जायेंगी। बतादे की यह नोट क सिवान के द्वारा ऊंचे दर्जे के कर्मचारियों को दिया गया था। ऐसा नोट पहली बार दिया गया है।

    गगन यान के बारे में उन्होंने लिखा है की विभिन्न विकास और योग्यता की सिद्धियों को पूरा करने के लिए गगनयान को लेकर इस साल से ही गतिविधियां पूरी तरह से चलेंगी।

    इसरो करेगा इन तकनीकों को और उन्नत :

    इन मिशन के साथ साथ ही अंतरिक्ष एजेंसी 10 अतिरिक्त फसलों को कवर करने और पानी और ऊर्जा सुरक्षा के लिए इनपुट प्रदान करने के लिए फसल उत्पादन अनुमान के लिए रिमोट सेंसिंग डेटा को बढ़ाएगी। इसके साथ ही इसरो अपने Geosynchronous Satellite Launch Vehicle (GSLV) की भार ढोने की क्षमता को भी बढ़ाएगा।

    अंतरिक्ष एजेंसी दूसरे लॉन्च पैड के लिए एक दूसरे वाहन विधानसभा भवन के माध्यम से अपनी लॉन्च क्षमता को बढ़ाने के लिए काम कर रही है, जो पूरा हो चुका है और पहले लॉन्च पैड के लिए PSLV एकीकरण सुविधा का निर्माण कर रहा है।

    राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय इवेंट्स का किया जाएगा आयोजन :

    भारत के अंतरिक्ष कार्यक्रम के संस्थापक एवं पिता, विक्रम साराभाई की जन्म शताब्दी को चिह्नित करते हुए, इसरो 12 अगस्त से लेकर आगे एक साल तक चलने वाले उत्सव की मेजबानी करेगा, जिसमें विश्वविद्यालयों में राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय आयोजन जैसे फैलोशिप, छात्रवृत्ति जैसे इवेंट्स आयोजित होंगे।

    बीते हुए वर्ष को याद करते हुए, सिवन ने कहा कि 2018 में इसरो के लिए कई प्रथम थे, जिसमें 16 मिशन थे, जिनमें से सात को 35 दिनों में पूरा किया गया था।

    इसरो की पिछली कुछ उपलब्धियां :

    • भारत ने 2007 में सैटेलाइट रिकवरी एक्सपेरिमेंट के माध्यम से अपनी पुनः प्रवेश तकनीक का परीक्षण किया जब 550 किलोग्राम के उपग्रह को कक्षा में भेजा गया और फिर सुरक्षित रूप से पृथ्वी पर वापस लाया गया।
    • प्रयोग ने ऐसे हल्के सिलिकॉन टाइलों का परीक्षण किया जो किसी भी अंतरिक्ष यान को धरती के वायुमंडल में फिर से प्रवेश करते समय रक्षा प्रदान करता है।
    • बाद में, 2014 में, भारत ने एक क्रू मॉड्यूल एटमॉस्फेरिक री-एंट्री एक्सपेरिमेंट (CARE) का परीक्षण किया, जहां 3,745 किलो का स्पेस कैप्सूल – चालक दल के मॉड्यूल का एक प्रोटोटाइप जो भारतीय अंतरिक्ष यात्रियों द्वारा उपयोग किया जाएगा – पहली उड़ान पर वायुमंडल में लॉन्च किया गया था जीएसएलवी एमके III और फिर सुरक्षित रूप से बंगाल की खाड़ी से बरामद किया गया।
    • तब से, ISRO ने एक अंतरिक्ष यान बनाने की कला में भी महारत हासिल कर ली है जिसका उपयोग भारतीय अंतरिक्ष यात्रियों द्वारा किया जाएगा जब वे श्रीहरिकोटा से अंतरिक्ष में भेजे जाएंगे।

    By विकास सिंह

    विकास नें वाणिज्य में स्नातक किया है और उन्हें भाषा और खेल-कूद में काफी शौक है. दा इंडियन वायर के लिए विकास हिंदी व्याकरण एवं अन्य भाषाओं के बारे में लिख रहे हैं.

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *